Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

हर घंटे 15 लोग करते हैं खुदकुशी, 5500 से अधिक किसानों ने खत्म की अपनी जीवन लीला

आत्महत्या करने वालों में हर छठी गृहणी है।

हर घंटे 15 लोग करते हैं खुदकुशी, 5500 से अधिक किसानों ने खत्म की अपनी जीवन लीला
नई दिल्ली. देश में आत्महत्या करने वालों की संख्या बढ़ती जा रही है। हर एक घंटे में करीब पंद्रह लोग जान गंवा रहे हैं। यह खुलासा हुआ है राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) के आंकड़ों में। बताया जा रहा है कि आत्महत्या करने वालों में हर छठी गृहणी है। आंकड़े वर्ष 2014 के हैं। इसके अनुसार हर घंटे 15 लोग खुदकुशी कर रहे हैं। पूरे साल में करीब 1.31 लाख से अधिक लोगों ने अपनी जान गंवा दी।
महाराष्ट्र में इस तरह के सबसे अधिक मामले दर्ज किए गए हैं, वहीं चेन्नई शहरों में सबसे ऊपर रहा। राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो के आंकड़ों के अनुसार आत्महत्या करने वाले 69.7 प्रतिशत लोगों की वार्षिक आय एक लाख रुपये से कम थी वहीं पिछले साल यह बड़ा कदम उठाने वाले प्रत्येक छह लोगों में से एक गृहिणी थी।
आंकड़ों के अनुसार 2014 में तमिलनाडु में 16,307 लोगों ने आत्महत्या कर ली। दस लाख से अधिक जनसंख्या वाले शहरों में चेन्नई में आत्महत्या के सर्वाधिक मामले सामने आए हैं। जिनकी संख्या 2214 थी।
बेंगलुरु में 1906, दिल्ली में 1847, मुंबई में 1196 और भोपाल में 1064 लोगों ने खुदकुशी कर ली। शहरों में आत्महत्या की दर 12.8 थी जो भारत में 10.6 की दर से थोड़ी अधिक है। रिपोर्ट में कहा गया कि आत्महत्या के 21.7 प्रतिशत मामलों में पारिवारिक समस्याएं, व 18 प्रतिशत मामलों में बीमारी कारण रहे।
2014 में 5500 से अधिक किसानों ने की खुदकुशी
देश में पिछले वर्ष कुल 5,650 किसानों ने खुदकुशी की और महाराष्ट्र इस मामले में सबसे ऊपर रहा। आधिकारिक आंकड़ों से यह खुलासा हुआ। महाराष्ट्र के बाद तेलंगाना और छत्तीसगढ़ से सर्वाधिक किसानों द्वारा खुदकुशी के मामले सामने आए। रिपोर्ट के अनुसार खुदकुशी करने वाले 5,650 किसानों में 5,178 पुरुष और 472 महिलाएं शामिल हैं।
नीचे की स्लाइड्स में पढ़िए, खबर से संबंधित अन्य जानकारी-
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top