Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

अयोध्या विवाद/ त्रिवेंद्र रावत ने पूछाः संत अयोध्या में इकट्ठे नहीं होंगे तो क्या काबा में होंगे?

अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिये अपना पूरा समर्थन देते हुए उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने आज कहा कि पूरी दुनिया मानती है कि अयोध्या भगवान राम का जन्मस्थान है।

अयोध्या विवाद/ त्रिवेंद्र रावत ने पूछाः संत अयोध्या में इकट्ठे नहीं होंगे तो क्या काबा में होंगे?

अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिये अपना पूरा समर्थन देते हुए उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने आज कहा कि पूरी दुनिया मानती है कि अयोध्या भगवान राम का जन्मस्थान है।

मुख्यमंत्री ने यहां एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि इस संबंध में विवाद सिर्फ भूमि को लेकर है जिसका समाधान सरकार संविधान के अनुरूप कानून बनाकर कर सकती है। उन्होंने कहा, 'जब सब सहमत हैं (राम मंदिर निर्माण के लिये) तो मैं कैसे असहमत हो सकता हूं।'
मुख्यमंत्री ने ये टिप्पणियां तब कीं जब उनसे अयोध्या में संतों के एकत्र होने के बारे में पूछा गया। इस संबंध में उन्होंने कहा कि अगर संत 'अयोध्या में इकट्ठे नहीं होंगे तो क्या काबा में होंगे?'
रावत ने कहा, 'राममंदिर अयोध्या में ही बनना चाहिए क्योंकि पूरी दुनिया अयोध्या को भगवान राम का जन्मस्थान मानती है।'
देहरादून के पास जौलीग्रांट स्थित हवाईअड्डे का नाम दिवंगत प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के नाम पर रखे जाने के कल राज्य मंत्रिमंडल के निर्णय पर पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत द्वारा आपत्ति जताये जाने पर मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्हें कांग्रेस कार्यकाल में हवाईअड्डे के प्रस्तावित नाम के बारे में कोई जानकारी नहीं है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य मंत्रिमंडल ने हवाईअड्डे का नाम दिवंगत प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के नाम पर रखे जाने का प्रस्ताव रखा है और उसे मंजूरी के लिये केंद्र सरकार को भेज दिया गया है।
गौरतलब है कि अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के महासचिव एवं राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने राज्य मंत्रिमंडल के इस निर्णय पर आपत्ति जताते हुए कहा है कि उनके कार्यकाल में हवाईअड्डे का नाम आदि शंकराचार्य के नाम पर रखने का प्रस्ताव किया गया था।
राज्य मंत्रिमंडल द्वारा राज्य में 'काम नहीं तो वेतन नहीं' के संबंध में लिये गये निर्णय का बचाव करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में हड़ताल नहीं होनी चाहिए और समस्याओं का समाधान बातचीत से होना चाहिए।
Next Story
Share it
Top