Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

Election Results 2019 Live Updates : लोकसभा चुनाव परिणाम 2019 लाइव अपडेट- जानें किसको मिल रही कितनी सीटें

Election Results 2019 Live Updates : लोकसभा चुनाव 2019 (Lok ) के लिए 542 संसदीय सीटों पर हुए सात दौर के मतदान (Voting) के बाद बृहस्पतिवार को सुबह आठ बजे मतगणना (lok sabha elections counting) आरंभ हो गई है। मतगणना (Counting) के आधार पर चुनाव मैदान में डटे 8,000 से अधिक प्रत्याशियों की किस्मत का फैसला होगा। आयोग से प्राप्त जानकारी के अनुसार, मतदान वाली सभी लोकसभा सीटों (Lok Sabha Seats) के लिये बनाये गये मतगणना केन्द्रों पर मतों की गिनती (Vote Counting) का काम निर्धारित समय पर, सुबह आठ बजे शुरु हो गया।

Election Results 2019 Live Updates : लोकसभा चुनाव परिणाम 2019 लाइव अपडेट- जानें किसको मिल रही कितनी सीटें

Election Results 2019 Live Updates : लोकसभा चुनाव 2019 (Lok ) के लिए 542 संसदीय सीटों पर हुए सात दौर के मतदान (Voting) के बाद बृहस्पतिवार को सुबह आठ बजे मतगणना (lok sabha elections counting) आरंभ हो गई है। शुरुआती रुझान में ही बीजेपी नेतृत्व वाले गठबंधन एनडीए को बहुमत मिलता दिखाई दे रहा है। जबकि कांग्रेस पिछड़ती नजर आ रही है। यहां तक कि अमेठी से राहुल गांधी भी पीछे चल रहे हैं। वहीं, बेगूसराय से कन्हैया कुमार तीसरे नंबर पर हैं।

Election Results 2019 Live Updates :

पहले दौर की गणना में स्मृति आगे

उत्तर प्रदेश की अमेठी लोकसभा सीट पर बृहस्पतिवार को पहले दौर की मतगणना में भाजपा प्रत्याशी केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने अपने निकटतम प्रतिद्वन्द्वी, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से तीन हजार से अधिक मतों से बढ़त हासिल कर ली है। जिला निर्वाचन अधिकारी राम मनोहर मिश्रा ने बताया कि अमेठी लोकसभा सीट के चार विधानसभा क्षेत्रों गौरीगंज, सलोन, जगदीशपुर और तिलोई में पहले दौर की मतगणना में स्मृति ने 3000 से अधिक मतों से बढ़त बना ली । उन्होंने बताया कि अमेठी विधानसभा सीट से मतगणना के पहले दौर के रुझान अभी आने बाकी हैं।उल्लेखनीय है कि अमेठी लोकसभा सीट पर स्मृति ईरानी और राहुल के बीच सीधा मुक़ाबला है।स्मृति को 2014 के लोकसभा चुनाव में राहुल से पराजय का सामना करना पड़ा था।

छत्तीसगढ़ में नौ सीटों पर भाजपा और दो पर कांग्रेस आगे

नक्सल प्रभावित छत्तीसगढ़ में लोकसभा चुनाव की मतगणना जारी है। राज्य की 11 सीटों से मिल रहे रूझान के अनुसार राज्य में विपक्षी भारतीय जनता पार्टी नौ सीटों पर तथा सत्ताधारी कांग्रेस दो सीटों पर आगे है। भारत निर्वाचन आयोग के अनुसार छत्तीसगढ़ की सरगुजा लोकसभा सीट में भाजपा की रेणुका सिंह कांग्रेस के खेलसाय सिंह से 152099 वोटों से आगे हैं। वहीं दुर्ग लोकसभा सीट में भाजपा के विजय बघेल कांग्रेस की प्रतिमा चंद्राकर से 357315 वोटों से आगे हैं। दुर्ग जिला मुख्यमंत्री भूपेश बघेल का गृह जिला है तथा वर्ष 2014 में कांग्रेस ने इस एकमात्र सीट से जीत हासिल की थी। राज्य के गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू यहां से सांसद हैं। निर्वाचन आयोग के अनुसार राज्य की रायगढ़ लोकसभा सीट से भाजपा की गोमती साय कांग्रेस के लालजीत सिंह राठिया से 65934 वोटों से तथा राजनांदगांव लोकसभा सीट से भाजपा के संतोष पांडेय कांग्रेस के भोलाराम साहू से 106296 वोटों से आगे है। राजनांदगांव से पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह के पुत्र अभिषेक सांसद हैं।

भाजपा ने इस बार अभिषेक सिंह को टिकट नहीं दिया। राज्य की जांजगीर चांपा सीट से भाजपा के गुहाराम अजगले कांग्रेस के रवि परसराम भारद्वाज से 82326 मतों से आगे हैं। वहीं रायपुर सीट से भाजपा के सुनील सोनी कांग्रेस के प्रमोद दुबे से 316900 मतों से आगे हैं। चुनाव आयोग के अनुसार राज्य की कांकेर लोकसभा सीट से भाजपा के मोहन मंडावी कांग्रेस के बीरेश ठाकुर से 4967 मतों से आगे हैं। वहीं बिलासपुर लोकसभा सीट से भाजपा के अरूण साव कांग्रेस के अटल श्रीवास्तव से 128529 मतों से आगे हैं। राज्य के महासमुंद लोकसभा सीट में भाजपा के चुन्नीलाल साहू कांग्रेस के धनेंद्र साहू से 84553 मतों से आगे हैं। राज्य में कांग्रेस बस्तर और कोरबा लोकसभा सीट में आगे है। बस्तर लोकसभा सीट से कांग्रेस के दीपक बैज भाजपा के बैदूराम कश्यप से 39812 वोटों से आगे हैं। बस्तर लोकसभा सीट पर भाजपा के दिनेश कश्यप निवर्तमान सांसद हैं। भाजपा ने दिनेश कश्यप को इस बार टिकट नहीं दिया। राज्य की कोरबा लोकसभा सीट से कांग्रेस की ज्योत्सना महंत भाजपा के ज्योतिनंद दुबे से 8217 मतों से आगे हैं। ज्योत्सना महंत विधानसभा अध्यक्ष चरणदास महंत की पत्नी हैं। आम चुनाव में पार्टी के नौ सीटों पर आगे होने से भाजपा उत्साहित है।

भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह ने कहा है कि यह नरेंद्र मोदी को फिर से प्रधानमंत्री बनाने के लिए चुनाव था। देश की जनता ने उन पर एक बार फिर भरोसा जताया है। प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में पांच साल के विकास की तुलना 55 साल के कांग्रेस के शासनकाल से की गई और विकास के नाम पर से देश की जनता ने जनादेश दिया है। सिंह ने कहा कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल 11 में से 11 सीट जीतने का दावा करते थे। भूपेश सरकार की नीतियों, उनकी योजना और षड़यंत्र की राजनीति को छत्तीसगढ़ की जनता ने नकार दिया है। चार महीने में प्रदेश को अंधेरे में डालने की साजिश रची गई है। उन्होंने कहा कि राज्य में हत्या और बलात्कार की घटनाएं बढ़ी हैं। किसानों के साथ अन्याय हुआ है तथा योजनाओं को बंद किया जा रहा है। छत्तीसगढ़ की जनता ने उन्हें सबक सिखाया है। इधर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के मीडिया विभाग के अध्यक्ष शैलेष नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि पूरे देश में मोदी लहर के बाद राज्य में कांग्रेस अपनी सीट दोगुनी कर रही है। इसका श्रेय यहां कांग्रेस के कार्यकर्ताओं और नेतृत्व को जाता है। हांलकि अभी परिणाम आना शेष है इसलिए इस संबंध में प्रतिक्रिया देना जल्दबाजी होगी।

महाराष्ट्र: भाजपा-शिवसेना गठबंधन को 41 सीट, राकांपा चार, कांग्रेस को एक सीट पर बढ़त

महाराष्ट्र में भाजपा-शिवसेना गठबंधन 48 लोकसभा सीटों में से 41 सीटों पर बढ़त बनाये हुए है। वहीं केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी और सुभाष भामरे अपने-अपने प्रतिद्वंद्वियों से भारी अंतर से आगे चल रहे हैं। कांग्रेस उम्मीदवार मात्र एक सीट पर आगे है।भाजपा और उसकी सहयोगी शिवसेना के उम्मीदवार कई सीटों पर एक लाख से अधिक वोटों से आगे चल रहे हैं।

महाराष्ट्र में भाजपा 23 सीटों पर, शिवसेना 18 सीटों पर, राकांपा चार जबकि कांग्रेस, एआईएमआईएम एवं एक निर्दलीय एक-एक सीट पर आगे हैं। नागपुर सीट से केन्द्रीय मंत्री नितिन गडकरी अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी कांग्रेस प्रत्याशी नाना पटोले से 76,770 वोटों से जबकि भामरे धुले में कांग्रेस के कुणाल पाटील से 1.14 लाख वोट से आगे चल रहे हैं। जलगांव और मावल में भाजपा-शिवसेना गठबंधन उम्मीदवारों को 2.5 लाख वोटों की बढ़त है जबकि रावेर में भाजपा उम्मीदवार 2.12 लाख वोटों से आगे है। पुणे में भाजपा के गिरीश बापट कांग्रेस उम्मीदवार मोहन जोशी से 1.03 लाख वोटों से आगे हैं।

दोनों भगवा सहयोगियों दलों के उम्मीदवार अहमदनगर, जालना, लातूर, कोल्हापुर, कल्याण, दिंडोरी, अकोला, मुम्बई दक्षिण मध्य, रत्नागिरि..सिंधुदुर्ग, मुम्बई..उत्तर मध्य, शिरडी और ठाणे में एक लाख से अधिक वोट से आगे चल रहे हैं। कांग्रेस को चंद्रपुर में थोड़ी बढ़त है जहां केंद्रीय मंत्री हंसराज अहीर (भाजपा) कांग्रेस के सुरेश धनोड़कर से 12,905 वोट से पीछे चल रहे हैं। रायगढ़ में केंद्रीय मंत्री एवं शिवसेना नेता अनंत गीते राकांपा के सुनील टटकेरे से 4,989 वोट से पीछे चल रहे हैं। बारामती सीट से राकांपा की सुप्रिया सुले भाजपा की कांचन कुल से 1.56 लाख वोटों से आगे हैं।हालांकि उनका भतीजा एवं राकांपा उम्मीदवार पार्थ पवार मावल में शिवसेना उम्मीदवार श्रीरंग बार्ने से 2.06 लाख वोट से पीछे हैं। कांग्रेस के अधिकतर उम्मीदवार बड़े अंतर से पीछे चल रहे हैं।

प्रदेश कांग्रेस प्रमुख अशोक चव्हाण नांदेड में भाजपा के प्रताप चिकलीकर से 33,725 वोट से पीछे चल रहे हैं। वहीं कांग्रेस के दिग्गज नेता सुशील कुमार शिंदे सोलापुर में भाजपा उम्मीदवार जयसिद्धेश्वर स्वामी से 99,612 वोट से पीछे हैं। मुम्बई कांग्रेस अध्यक्ष मिलिंद देवड़ा मुम्बई दक्षिण सीट पर 67,238 वोट से पीछे हैं।

मुम्बई में भाजपा..शिवसेना गठबंधन सभी छह सीटों पर आगे हैं।

'सतर्क मतदाताओं' ने महागठबंधन की अवसरवादी, जातिवादी राजनीति को खारिज किया : योगी आदित्यनाथ

लोकसभा चुनावों में भाजपा के शानदार जीत की तरफ बढ़ने के बीच उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गुरुवार ने कहा, ''सतर्क मतदाताओं'' ने विपक्षी दलों के 'महागठबंधन' को खारिज कर दिया है। आदित्यनाथ ने पीटीआई-भाषा को बताया, ''यह विपक्ष के लिये आत्मावलोकन और नकारात्मक राजनीति बंद करने का समय है।'' मुख्यमंत्री ने कहा, ''सतर्क मतदाताओं ने महागठबंधन की अवसरवादी और जातिवादी राजनीति को खारिज कर दिया है।'' उन्होंने पार्टी की 'ऐतिहासिक जीत' का पूरा श्रेय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह को दिया। योगी ने कहा, ''मोदी जी ने पांच वर्ष में इस देश को हर क्षेत्र में आगे बढ़ाने के लिये जो शानदार काम किया है... यह उसका परिणाम है।

जनता ने एक तरीके से नकारात्मक राजनीति को सिरे से खारिज किया है।'' उन्होंने कहा कि ''विकास राष्ट्रवाद और सुशासन के मुद्दे पर जनता ने मोदी जी के नेतृत्व पर फिर से विश्वास किया है। हमारे राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह की संगठनात्मक रणनीति से आम जन की उन भावनाओं को मतों में बदलने के लिये जो रणनीति बनी थी उसी का परिणाम है यह जीत। भाजपा पहली बार 300 का आंकड़ा प्राप्त कर रही है और एनडीए 350 का आंकड़ा पार कर रहा है। भाजपा के करोड़ों कार्यकर्ताओं का कोटि कोटि अभिनंदन करता हूं।'' सपा-बसपा, कांग्रेस की राजनीति के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि ''मोदी जी की आंधी में यह सब उड़ चुके हैं, सबसे अच्छी बात यह है कि जो नकारात्मक राजनीति कांग्रेस ने प्रारंभ की थी, सपा-बसपा ने भी उस नकारात्मक राजनीति का खमियाजा भुगता।

देश विकास और सुशासन, सुरक्षा और राष्ट्रवाद की राजनीति को ही आगे रखना चाहता है। पूरे देश ने इसे स्वीकार किया है और हाथोंहाथ लिया है।'' योगी ने कहा, ''जातिवाद और परिवारवाद की राजनीति के दिन समाप्त... 2019 के इस जनादेश ने यह साबित कर दिया है कि नकरात्मक, वंशवादी और परिवारवाद की राजनीति के लिये अब राजनीति में कोई जगह नही है ।''

प्रधानमंत्री मोदी की पहले से ज्यादा धमाकेदार जीत तय

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की वाराणसी लोकसभा सीट पर पिछली बार की अपेक्षा इस बार अधिक मतों के अंतर से जीत लगभग तय है। वाराणसी सीट पर 25 वें राउंड की मतगणना के बाद मोदी अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी सपा—बसपा—रालोद गठबंधन प्रत्याशी शालिनी यादव से चार लाख से अधिक मतों से बढ़त बनाये हुए हैं । आयोग से प्राप्त जानकारी के अनुसार वर्ष 2014 में हुए आम चुनाव में मोदी ने वाराणसी सीट पर तीन लाख 71 हजार 784 मतों से जीत हासिल की थी। मोदी इस दफा 25 वें राउंड तक चार लाख 20 हजार मतों की बढ़त बना चुके हैं। प्रदेश के लगभग सभी लोकसभा क्षेत्रों में मतगणना का आधा काम पूरा हो चुका है। कुछ सीटों को छोड़कर बाकी पर तस्वीर लगभग साफ हो चुकी है। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और केन्द्रीय मंत्री मनोज सिन्हा अपने—अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी से अब भी पीछे चल रहे हैं। प्रदेश के मुख्य निर्वाचन अधिकारी कार्यालय के मुताबिक लखनऊ से केन्द्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह अपनी निकटतम प्रतिद्वंद्वी एवं गठबंधन प्रत्याशी पूनम सिन्हा से लगभग तीन लाख 10 हजार वोटों की बढ़त बनाये हुए हैं। अमेठी से मौजूदा सांसद कांग्रेस प्रत्याशी राहुल छठे दौर की मतगणना के बाद भाजपा की स्मृति ईरानी से तकरीबन 19 हजार मतों से पीछे हो गये हैं।

गाजीपुर से भाजपा उम्मीदवार और रेल राज्यमंत्री मनोज सिन्हा गठबंधन उम्मीदवार अफजाल अंसारी से 64 हजार से ज्यादा मतों से पीछे चल रहे हैं। वहीं, शुरुआती रुझानों में पीछे चल रही सुलतानपुर से भाजपा उम्मीदवार एवं केन्द्रीय मंत्री मेनका गांधी अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी सपा—बसपा गठबंधन के प्रत्याशी चंद्रभद्र सिंह से करीब 16 हजार मतों से आगे चल रही हैं। रायबरेली से कांग्रेस प्रत्याशी सोनिया गांधी अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी भाजपा प्रत्याशी दिनेश सिंह से करीब एक लाख 57 हजार मतों से आगे हैं। इसके अलावा पीलीभीत से भाजपा उम्मीदवार वरुण गांधी अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी से करीब दो लाख 39 हजार मतों से और इलाहाबाद से इसी पार्टी की प्रत्याशी रीता बहुगुणा जोशी भी करीब एक लाख 39 हजार मतों से बढ़त बनाये हुए हैं।

मैनपुरी से सपा संस्थापक मुलायम सिंह यादव अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी भाजपा के प्रेम सिंह शाक्य पर करीब 46 हजार मतों से बढ़त बना चुके हैं। वहीं, आजमगढ़ से पार्टी प्रत्याशी और सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव, भाजपा के अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी दिनेश लाल यादव निरहुआ से करीब एक लाख 45 हजार मतों से आगे चल रहे हैं। हालांकि अखिलेश की पत्नी कन्नौज से सपा उम्मीदवार डिम्पल यादव शुरुआती रुझानों में अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी भाजपा के सुब्रत पाठक से आगे चल रही थीं, मगर इस वक्त वह उनसे तकरीबन 24 हजार मतों से पिछड़ गयी हैं। केन्द्रीय मंत्री अपना दल नेता अनुप्रिया पटेल मिर्जापुर में अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी गठबंधन के राम चरित्र निषाद पर दो लाख 14 हजार मतों की मजबूत बढ़त बना चुकी हैं। मुजफ्फरनगर से गठबंधन प्रत्याशी रालोद प्रमुख चौधरी अजित सिंह भाजपा के संजीव बालियान से 21 हजार से ज्यादा मतों से पीछे चल रहे हैं। सिंह के बेटे जयंत चौधरी बागपत से अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी भाजपा के सत्यपाल सिंह से 1633 मतों के मामूली अंतर से आगे चल रहे हैं। उन्नाव से वर्तमान भाजपा सांसद एवं प्रत्याशी साक्षी महाराज ने निकटतम प्रतिद्वंद्वी सपा के अरुण शंकर शुक्ला पर चार लाख से ज्यादा मतों की बढ़त बना ली है।

हिमाचल प्रदेश की सभी चार सीटों पर भाजपा की जीत लगभग तय

हिमाचल प्रदेश की सभी चार लोकसभा सीटों पर सत्तारूढ़ भाजपा के उम्मीदवारों की जीत लगभग तय दिख रही है क्योंकि राज्य की चारों लोकसभा सीटों -- मंडी, कांगड़ा, हमीरपुर और शिमला पर उसके प्रत्याशी 3.23 लाख से अधिक वोटों से आगे चल रहे हैं। राज्य चुनाव अधिकारी के मुताबिक, कांगड़ा सीट से भाजपा के किशन कपूर, कांग्रेस के पवन काजल से चार लाख 66 हजार मतों से आगे चल रहे हैं। पिछली बार इस सीट से पूर्व मुख्यमंत्री और वरिष्ठ भाजपा नेता शांता कुमार विजयी हुए थे। अधिकारी के मुताबिक, हमीरपुर सीट से भाजपा के मौजूदा सांसद अनुराग ठाकुर ने कांग्रेस के रामलाल ठाकुर पर तीन लाख 84 हजार वोटों की बढ़त बना ली है। शिमला सीट पर भाजपा के सुरेश कश्यप, कांग्रेस के धनीराम शांडिल से तीन लाख 23 हजार वोटों से आगे चल रहे हैं। वर्ष 2014 में इस सीट से भाजपा के विरेंद्र कश्यप जीते थे। मंडी से मौजूदा सांसद रामस्वरूप ने कांग्रेस के आश्रय शर्मा पर तीन लाख 96 हजार वोटों की बढ़त बना ली है। वर्ष 2014 में भी भाजपा ने राज्य की चारों सीटें जीती थीं।

चंडीगढ़ संसदीय क्षेत्र से किरण खेर आगे

भारतीय जनता पार्टी की सांसद किरण खेर चंडीगढ़ लोकसभा सीट पर कांग्रेस के अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी पवन कुमार बंसल से लगभग आठ हजार मतों से आगे चल रही हैं । निर्वाचन आयोग से मिली जानकारी के अनुसार चंडीगढ़ से चार बार सांसद रहे बंसल, किरण खेर से सात हजार 948 मतों से पीछे चल रहे हैं । बंसल पिछले आम चुनाव में खेर से चुनाव हार गए थे ।

पूर्ववर्ती शाही परिवारों के 12 में से चार उम्मीदवार चल रहे हैं आगे

निर्वाचन आयोग द्वारा जारी रुझानों के मुताबिक लोकसभा चुनाव लड़ रहे पूर्ववर्ती शाही परिवारों के 12 उम्मीदवारों में से भाजपा की तरफ से लड़ रहे चार उम्मीदवार ही अपने निकटतम उम्मीदवारों से बढ़त लिये हुए हैं जबकि शेष पीछे चल रहे हैं। राजस्थान में पूर्ववर्ती शाही परिवारों के तीन उम्मीदवार मैदान में हैं। इनमें भाजपा की तरफ से खड़ी हुईं जयपुर के पूर्ववर्ती राजघराने की दीया कुमारी राजसमंद में कांग्रेस के देवकीनंदन से 5 लाख चालीस हजार वोटों से आगे चल रही हैं। पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के बेटे और पूर्ववर्ती धौलपुर राजघराने से आने वाले भाजपा उम्मीदवार दुष्यंत सिंह झालावाड़-बारां संसदीय सीट से अपने करीबी कांग्रेस उम्मीदवार प्रमोद शर्मा से करीब साढ़े चार लाख वोटों से आगे चल रहे हैं। अलवर राजघराने से आने वाले कांग्रेस के भंवर जितेंद्र सिंह अलवर संसदीय सीट पर भाजपा के बालक नाथ से करीब तीन लाख 20 हजार वोटों से पीछे चल रहे हैं। मध्य प्रदेश में गुना से चुनाव लड़ रहे ग्वालियर राजघराने के ज्योतिरादित्य सिंधिया भाजपा के कृष्ण पाल सिंह से एक लाख से ज्यादा मतों से पीछे चल रहे हैं।

उत्तर प्रदेश में शाही परिवारों से जुड़े उम्मीदवार प्रतापगढ़, कुशीनगर और गोंडा से चुनाव मैदान में हैं। कालाकांकर शाही परिवार से आने वाली राजकुमारी रत्ना सिंह प्रतापगढ़ से कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ रही हैं और वह तीसरे स्थान पर हैं जिन्हें 72 हजार से कुछ ही ज्यादा मत मिले हैं। इस सीट पर तीन लाख 70 हजार से ज्यादा मत हासिल कर भाजपा के संगम लाल गुप्ता सबसे आगे चल रहे हैं। मनकापुर शाही परिवार से आने वाले भाजपा के कीर्ति वर्धन सिंह गोंडा सीट पर समाजवादी पार्टी के उम्मीदवार विनोद कुमार पर करीब एक लाख 20 हजार मतों की बढ़त बनाए हुए हैं। कुशीनगर सीट से कांग्रेस के टिकट पर लड़ रहे कुंवर रतनजीत प्रताप सिंह 79,350 वोटों के साथ तीसरे नंबर पर हैं जबकि भाजपा के विजय कुमार दुबे तीन लाख 40 हजार मतों के साथ सबसे आगे चल रहे थे। ओडिशा में तत्कालीन पटना राजघराने से आने वाले बीजू जनता दल के कलिकेश नारायण सिंह देव भाजपा उम्मीदवार संगीता कुमारी सिंह देव से करीब 22 हजार वोटों से पीछे चल रहे हैं।

ओडिशा के कालाहांडी से आने वाले बीजद उम्मीदवार धर्मागढ़ के पुष्पेंद्र सिंह भाजपा के बसंत कुमार पांडा से करीब 21 हजार मतों से पीछे चल रहे हैं। जम्मू कश्मीर की उधमपुर सीट से कांग्रेस उम्मीदवार विक्रमादित्य सिंह केंद्रीय मंत्री और भाजपा नेता जितेंद्र सिंह से तीन लाख 30 हजार से ज्यादा मतों से पीछे चल रहे हैं। पांडलम शाही परिवार से आने वाले पांडलम केरालावरमराजा तिरुवनंतपुरम से निर्दलीय उम्मीदवार हैं। उन्हें सिर्फ 1,246 मत मिले हैं।

पश्चिम बंगाल विधानसभा उपचुनाव : भाजपा चार, तृणमूल कांग्रेस तीन सीटों पर आगे

पश्चिम बंगाल में प्रतीत होता है कि भगवा आंधी चल रही है। लोकसभा चुनाव मतगणना के रुझानों में शानदार प्रदर्शन के साथ ही भाजपा राज्य की आठ विधानसभा सीटों पर हुए उपचुनाव में भी जबर्दस्त जीत की ओर बढ़ती नजर आ रही है। आठ विधानसभा सीटों पर हुए उपचुनाव में भाजपा चार सीटों पर आगे है। सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस तीन सीटों पर आगे है, जबकि कांग्रेस एक सीट पर आगे है। इनमें से एक सीट एक विधायक के निधन और सात सीट लोकसभा चुनाव लड़ने के लिए सात विधायकों द्वारा दिए गए इस्तीफे के बाद रिक्त हुई थीं। भाटपाड़ा विधानसभा सीट पर भाजपा के पवन कुमार सिंह तृणमूल कांग्रेस के मदन मित्रा से 35,281 मतों से आगे हैं।

पवन कुमार सिंह, अर्जुन सिंह के पुत्र हैं जो बैरकपुर से भाजपा के लोकसभा प्रत्याशी हैं। उन्होंने संसदीय चुनाव लड़ने के लिए भाटपाड़ा विधानसभा सीट से इस्तीफा दे दिया था। पार्टी सुप्रीमो द्वारा टिकट देने से इनकार किए जाने पर भाटपाड़ा के विधायक ने तृणमूल कांग्रेस छोड़ दी थी और आम चुनाव की घोषणा के बाद भाजपा में शामिल हो गए थे। दार्जीलिंग में भाजपा के नीरज तमांग जिम्बा गोरखा क्षेत्रीय प्रशासन के अध्यक्ष बिनय तमांग से 15,800 मतों से आगे हैं। तमांग निर्दलीय उम्मीदवार हैं और उन्हें सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस का समर्थन प्राप्त है।

हबीबपुर में भाजपा के जोयेल मुर्मू तृणमूल कांग्रेस के अमाल किस्कू से 9,766 वोटों से आगे हैं।इस्लामपुर में तृणमूल कांग्रेस के अब्दुल करीम चौधरी भाजपा उम्मीदवार एस मंडल से 20,926 मतों से आगे हैं। कांडी विधानसभा सीट पर कांग्रेस के जनिस शैफुल आलम खान तृणमूल कांग्रेस के गौतम रॉय से 8,377 मतों से आगे हैं। कृष्णगंज में भाजपा के आशीष कुमार बिस्वास कांग्रेस के प्रथम रंजन बोस से 13,527 मतों से आगे हैं।नोवदा में तृणमूल कांग्रेस उम्मीदवार सहिना ममताज बेगम (खान) कांग्रेस के सुनील कुमार मंडल से 20684 मतों से आगे हैं। उलबेरिया में तृणमूल कांग्रेस के इदरीस अली भाजपा के प्रत्यूष मंडल से 9,973 मतों से आगे हैं।

अरुणाचल प्रदेश में भाजपा दोनों लोकसभा सीटों पर चल रही है आगे

अरूणाचल प्रदेश में भाजपा दोनों ही लोकसभा सीटों पर आगे चल रही है।चुनाव आयोग ने गुरुवार को बताया कि केंद्रीय मंत्री किरण रिजीजू अरूणाचल पश्चिम सीट से अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी कांग्रेस के उम्मीदवार पूर्व मुख्यमंत्री नबाम तुकी से 71,239 वोटों से आगे चल रहे हैं। साल 2014 में रिजीजू ने कांग्रेस के टी संजय को 41738 वोटों से शिकस्त दी थी।अरूणाचल पूर्व सीट से भाजपा के तपीर गाव कांग्रेस के लोवांगचा वांगलाट से 33,097 वोटों से आगे चल रहे हैं।

असम में आठ सीटों पर भाजपा, एक पर अगप आगे

असम की 14 लोकसभा सीटों में से आठ पर भाजपा आगे चल रही है जबकि उसकी सहयोगी असम गण परिषद (अगप) ने एक सीट पर बढ़त बनाई हुई है। नवीनतम रूझान के अनुसार विपक्षी कांग्रेस और एआईयूडीएफ दो दो सीटें पर आगे चल रही हैं और एक सीट पर वर्तमान निर्दलीय सांसद बढ़त बनाये हुए हैं। भाजपा दो संसदीय सीटें लखीमपुर और डिब्रूगढ़ बचाये रखने में कामयाब जान पड़ रही है। लखीमपुर से उसके वर्तमान सासंद प्रदान बरूआ और डिब्रूगढ़ से उसके सांसद रामेश्वर तेली क्रमश: अपने प्रतिद्वंद्वी कांग्रेस के अनिल बोरगोहिन एवं पवन सिंह घटोवार से क्रमश: 2,71,618 और 2,18,883 वोटों से आगे चल रहे हैं।

भाजपा मंगलदोई, जोरहाट, नौगांव, सिलचर, दीफू और तेजपुर संसदीय सीटों पर भी आगे चल रही है जबकि उसकी सहयोगी अगप बरपेटा से आगे चल रही है। कांग्रेस कलियाबोर और गौहाटी पर तथा एआईयूडीएफ करीमगंज और धुबरी पर आगे चल रही है। अपनी अपनी सीटों पर लड़ रहे तीन कांग्रेस सांसदों में गौरव गोगोई कालियाबोर में अगप के मणि माधव महन्त से 49,862 मतों की बढ़त बनाए हुए हैं।कांग्रेस की महिला शाखा की प्रमुख सुष्मिता देव सिलचर सीट पर भाजपा प्रत्याशी राजदीप रॉय से 46,848 वोटों से पीछे चल रही हैं।

कांग्रेस के बीरेन सिंह एंगती स्वायत्त जिला सीट पर अपने भाजपा प्रत्याशी हरेन सिंह से 77,641 वोटों से पीछे चल रहे हैं। निवर्तमान एआईयूडीएफ सांसद बदरूद्दीन अजमल धुबरी सीट पर कांग्रेस के अबू ताहिर बेपारी से 1,24,424 वोटों से आगे चल रहे हैं जबकि पार्टी के अन्य सासंद राधेश्याम विश्वास करीमगंज से अपने भाजपा प्रतिद्वंद्वी कृपानाथ से 75,364 वोटों से बढ़त बनाये हुए हैं। मंगलदोई सीट से भाजपा के दिलीप सैकिया कांग्रेस के भुवनेश्वर कलीता से 87,705 वोटों से आगे चल रहे हैं जबकि नौगांव सीट पर भगवा दल के रूपक शर्मा ने कांग्रेस उम्मीदवार प्रद्धयुत बारदोलोई पर 27,774 मतों से बढ़त बनाई है।

गौहाटी सीट पर कांग्रेस की बबीता शर्मा और भाजपा की क्वीन ओझा के बीच कड़ा मुकाबला चल रहा है। बबीता शर्मा भाजपा की क्वीन ओझा से 23,975 वोटों से आगे है। जोरहाट में भी कड़ा मुकाबला है। भाजपा उम्मीदवार और राज्य के बिजली मंत्री तपन कुमार गोगोई ने कांग्रेस के सुशांत बोरगोहैन से 52,461 वोटों से बढ़त बना ली है। तेजपुर में, प्रदेश सरकार में मंत्री और भाजपा प्रत्याशी पल्लब लोचन दास, कांग्रेस के एमजीवीके भानू से 87,118 वोटों से आगे चल रहे हैं। बारपेटा में अगप के कुमार दीपक दास, कांग्रेस के अब्दुल खालिक से 48,534 वोटों से आगे हैं।भाजपा की अन्य सहयोगी बीपीएफ की प्रमिला रानी ब्रह्मा कोकराझार में निर्दलीय मौजूदा सांसद नबा सरानिया से 24,606 वोटों से पीछे है। भाजपा ने तीन सीटें अपने सहयोगियों-- दो अगप और एक बोडोलैंड पीपुल्स फ्रंट (बीपीएफ)--को दी थी।

महाराष्ट्र : गडकरी, भामरे आगे जबकि शिंदे, चव्हाण, मिलिंद देवड़ा पीछे

लोकसभा चुनावों के लिये हो रही मतगणना में महाराष्ट्र से प्राप्त अब तक के रुझान में केंद्रीय मंत्री एवं भाजपा नेता नितिन गडकरी और सुभाष भामरे आगे चल रहे हैं जबकि कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सुशील कुमार शिंदे और अशोक चव्हाण पीछे चल रहे हैं। भाजपा-शिवसेना गठबंधन राज्य की 48 लोकसभा सीटों में से 41 पर आगे चल रहा है जबकि कांग्रेस एक और राकांपा चार सीट पर बढ़त बनाए हुए है। एक सीट पर एआईएमआईएम और एक पर निर्दलीय उम्मीदवार आगे है। नागपुर से चुनाव लड़ रहे गडकरी चार दौर की गणना के बाद कांग्रेस के अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी नाना पटोले से 57,279 मतों से आगे चल रहे हैं जबकि धुले में भामरे बढ़त बनाए हुए हैं। पूर्व केंद्रीय मंत्री एवं कांग्रेस उम्मीदवार सुशील कुमार शिंदे, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अशोक चव्हाण और मुंबई कांग्रेस अध्यक्ष मिलिंद देवड़ा क्रमश: सोलापुर, नांदेड़ एवं मुंबई दक्षिण सीट से पीछे चल रहे हैं। केंद्रीय मंत्री एवं भाजपा के वरिष्ठ नेता हंसराज अहीर चंद्रपुर में कांग्रेस उम्मीदवार सुरेश धनोरकर से 5,659 मतों से पीछे चल रहे हैं। भारी उद्योग मंत्री एवं शिवसेना नेता अनंत गीते राकांपा के सुनील तटकरे से रायगढ़ में 14,818 मतों से पीछे चल रहे हैं। बारामती में मौजूदा सांसद एवं राकांपा नेता सुप्रिया सुले अपनी प्रतिद्वंद्वी भाजपा की कंचन कुल पर 1,53,127 मतों से बढ़त बनाये हुए हैं।

खूंटी में अर्जुन मुंडा, लोहरदगा में सुदर्शन भगत ने बढ़त बनायी

झारखंड की 14 में से 12 सीटों पर अब तक की मतगणना के बाद भारतीय जनता पार्टी और उसकी सहयोगी आजसू के उम्मीदवार आगे चल रहे हैं। मुख्य विपक्षी झारखंड मुक्ति मोर्चा के अध्यक्ष शिबू सोरेन उर्फ गुरु जी और उनके महागठबंधन के सहयोगी झारखंड विकास मोर्चा के अध्यक्ष बाबूलाल मरांडी कोडरमा सीट से पीछे चल रहे हैं। राज्य में जहां भाजपा ने 13 सीटों पर चुनाव लड़ा था वहीं उसकी सहयोगी आजसू ने एक सीट पर चुनाव लड़ा था। भाजपा 11 सीटों पर और आजसू एक सीट पर आगे चल रही है। महागठबंधन में कांग्रेस ने सात सीटों पर, झामुमो ने चार सीटों पर, झाविमो ने दो और राजद ने एक सीट पर चुनाव लड़ा था। लोहरदगा में केन्द्रीय आदिवासी कल्याण राज्य मंत्री सुदर्शन भगत कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष सुखदेव भगत से अभी भी 7,964 मतों से आगे चल रहे हैं। इससे पहले वह कुछ देर के लिए पिछड़ गए थे। दूसरी तरफ खूंटी में अब भाजपा के उम्मीदवार पूर्व मुख्यमंत्री अर्जुन मुंडा ने भी दोबारा बढ़त हासिल कर ली है। मुख्य विपक्षी झारखंड मुक्ति मोर्चा ने राजमहल की सुरक्षित सीट पर वापसी की है और उसके उम्मीदवार विजय कुमार हंसदा भाजपा के हेमलाल मुर्मू से आगे चल रहे हैं। सिंहभूम में कांग्रेस की गीता कोड़ा ने भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष एवं निवर्तमान सांसद लक्ष्मण गिलुआ पर 81,590 मतों की बड़ी बढ़त बना ली है।

कर्नाटक में भाजपा 28 में 24 सीटों पर बढ़त के साथ शानदार जीत की ओर अग्रसर

कर्नाटक में भाजपा शानदार जीत की ओर बढ़ती दिख रही है, जहां मतगणना के अब तक प्राप्त रूझानों में लोकसभा की 28 में 24 सीटों पर भाजपा अपने प्रतिद्वंद्वियों से आगे चल रही है। इससे राज्य में सत्तारूढ़ कांग्रेस - जद(एस) गठबंधन में प्रदेश सरकार की स्थिरता को लेकर चिंता बढ़ गई है। चुनाव आयोग के रूझानों के मुताबिक कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मल्लिकार्जुन खड़गे गुलबर्ग में और पूर्व प्रधानमंत्री एच डी देवगौड़ा तुमकुर में अपने भाजपा प्रतिद्वंद्वियों से पीछे चल रहे हैं। राज्य में कांग्रेस दो सीटों पर, जबकि जद(एस) एक सीट पर आगे है। मतगणना के अब तक प्राप्त रूझानों के मुताबिक इस चुनाव में दोनों दलों का गठबंधन जमीनी स्तर पर नाकाम साबित होता प्रतीत हो रहा है। मांड्या में एक निर्दलीय उम्मीदवार बढ़त बनाए हुए है।

जद(एस) सुप्रीमो एच डी देवगौड़ा अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी भाजपा के जी एस बासवराज से तुमकुर में 28,499 वोटों से पीछे चल रहे हैं। चुनाव में कभी शिकस्त नहीं पाने वाले खड़गे गुलबर्गा में भाजपा के उमेश जाधव से 73,867 मतों से पीछे चल रहे हैं। देवगौड़ा के पोते एवं मुख्यमंत्री एच डी कुमारस्वामी के बेटे निखिल कुमारस्वामी मांड्या में भाजपा समर्थित निर्दलीय उम्मीदवार सुमलता अंबरीश से 25,785 मतों से पीछे चल रहे हैं। हालांकि, देवगौड़ा के एक अन्य पोते प्रज्वल रेवन्ना (एच डी रेवन्ना के बेटे) हासन सीट पर भाजपा उम्मीदवार ए मंजू से 1,42,123 वोटों के अंतर से आगे चल रहे हैं। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता वीरप्पा मोइली और के एच मुनियप्पा भाजपा उम्मीदवारों से क्रमश: चिकबलपुर और कोलार में पीछे चल रहे हैं। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता वीरप्पा मोइली और के एच मुनियप्पा भी क्रमश: चिक्काबल्लापुर और कोलार में भाजपा उम्मीदवारों से पीछे चल रहे हैं। उनके और भाजपा उम्मीदवारों के बीच वोटों का अंतर करीब पौने दो लाख का है। साथ ही, केंद्रीय मंत्री डीवी सदानंद गौड़ा (बेंगलुरू उत्तर) और अनंतकुमार हेगड़े (उत्तर कन्नड़) भी अपने प्रतिद्वंद्वियों से आगे हैं। कांग्रेस के जो उम्मीदवार आगे चल रहे हैं, उनमें डी के सुरेश (बेंगलुरू ग्रामीण) और धु्वनारायण (चामराजानगर) शामिल हैं।

20 वें चक्र की मतगणना के बाद हेमामालिनी 1 लाख 90 हजार मतों से आगे

मथुरा लोकसभा क्षेत्र से भाजपा प्रत्याशी हेमामालिनी अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी रालोद के नरेंद्र सिंह से एक लाख 90 हजार मतों से आगे चल रही हैं। मथुरा में 20 वें चक्र की मतगणना के बाद भाजपा प्रत्याशी हेमामालिनी की लीड अब 1 लाख 90 हजार मतों से ऊपर पहुंच गई है। उन्होंने 6 लाख 58 हजार मतों में से कुल 4 लाख 9 हजार 325 मत प्राप्त किए हैं। जबकि, उनके निकटतम प्रतिद्वंद्वी रालोद के कुंवर नरेंद्र सिंह ने 2 लाख 19 हजार 108 मत हासिल किए हैं। मथुरा लोकसभा सीट के कुल 17 लाख 99 हजार 321 मतदाताओं में से 10 लाख 88 हजार 206 ने अपने मताधिकार का उपयोग किया है। सभी विधानसभा क्षेत्रों के मतों की गिनती के लिए कुल 32 दौर तक गणना जारी रहेगी।

तमिलनाडु : 22 विस सीटों पर उपचुनाव में द्रमुक आगे लेकिन राज्य सरकार को खतरा नहीं

तमिलनाडु में 22 विधानसभा सीटों पर हुए उपचुनावों के लिये बृहस्पतिवार को हो रही मतगणना में अब तक के रूझान के अनुसार सत्तारूढ़ अन्नाद्रमुक पिछड़ती नजर आ रही है। हालांकि, मौजूदा राज्य सरकार को इससे कोई खतरा होने का संकेत नहीं है। चुनाव आयोग से मिली जानकारी के अनुसार विपक्षी द्रमुक जहां 14 सीटों पर आगे नजर आ रही है वहीं, अन्नाद्रमुक आठ सीटों पर बढ़त बनाए हुए है। इन सीटों पर दो चरणों में 18 अप्रैल और 19 मई को मतदान हुए। इन 22 सीटों पर उपचुनाव के परिणाम से मुख्यमंत्री के. पलानीस्वामी सरकार का भाग्य तय होगा। राज्य की 234 सदस्यीय विधानसभा में इस वक्त 22 सीटें खाली हैं। 18 बागी विधायकों के टीटीवी दिनाकरन के खेमे में शामिल होने के कारण अयोग्य ठहराये जाने की वजह से इन सीटों पर विधानसभा उपचुनाव कराया गया ।

सत्तारूढ़

Next Story
Share it
Top