Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

पहली तिमाही में अर्थव्यवस्था धीमी, जीडीपी अप्रैल-जून तिमाही में घटकर 7.0 प्रतिशत रहा

कृषि एवं संबद्ध क्षेत्रों की वृद्धि दर 2015-16 की पहली तिमाही में 1.9 प्रतिशत रही जो इससे पूर्व वित्त वर्ष की इसी तिमाही में 2.6 प्रतिशत थी।

पहली तिमाही में अर्थव्यवस्था धीमी, जीडीपी अप्रैल-जून तिमाही में घटकर 7.0 प्रतिशत रहा

नई दिल्ली. कृषि, सेवा तथा विनिर्माण क्षेत्रों की वृद्धि दर में नरमी के चलते सकल घरेलू उत्पाद की वृद्धि दर चालू वित्त वर्ष की अप्रैल-जून तिमाही में 7.0 प्रतिशत रही जो इससे पूर्व की तिमाही में 7.5 प्रतिशत थी।

ये भी पढ़ें : जनता के लिए राहत की बात, पेट्रोल 2 रु. तो डीजल 50 पैसे हुआ सस्ता

जीडीपी में धीमी वृद्धि दर में धीमेपन और औद्योगिकी उत्पादन में नरमी को देखते हुए रिर्जव बैंक द्वारा नीतिगत दर में कटौती की संभावना बढ़ी है। आर्थिक गतिविधियों को मापने के लिए सीएसओ द्वारा अपनाए जा रहे सकल मूल्य वर्धन (जीवीए) पर आधारित नए मानदंड के आधार पर भी पहली तिमाही में जीवीए घटकर 7.1 प्रतिशत पर आ गई जो एक वर्ष पूर्व इसी तिमाही में 7.4 प्रतिशत था।

मुद्रास्फीति में भी तीव्र गिरावट
केंद्रीय सांख्यिकी कार्यालय (सीएसओ) के आंकड़ों के अनुसार जनवरी-मार्च 2015 में जीडीपी वृद्धि दर 7.5 प्रतिशत जबकि अप्रैल-जून, 2014 में यह 6.7 प्रतिशत थी। मुद्रास्फीति में तीव्र गिरावट के चलते चालू बाजार बाजार मूल्य पर नामिनल जीडीपी(सांकेतिक जीडीपी) तथा जीवीए में आलोच्य तिमाही के दौरान तीव्र गिरावट दर्ज की गयी है। जहां सांकेतिक जीडीपी पहली तिमाही में 8.8 प्रतिशत रही जो एक वर्ष पूर्व इसी तिमाही में 13.4 प्रतिशत थी।
इसी तरह जीवीए वृद्धि दर इस बार करीब 7.1 प्रतिशत रही जो एक वर्ष पूर्व इसी तिमाही में 14 प्रतिशत थी। सरकार ने चालू वित्त वर्ष 2015-16 की शुरूआत में वृद्धि दर 8.1 से 8.5 प्रतिशत रहने का अनुमान जताया है जिसे हासिल करना मुश्किल हो सकता है।
नीचे की स्लाइड्स में पढें, खबर से जुड़ी अन्य जानकारी -
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर -
Next Story
Top