logo
Breaking

DRDO ने दूसरी बार टैंक रोधी गाइडेड मिसाइल का किया सफल परीक्षण

रक्षा अनुसंधान तथा विकास संगठन (डीआरडीओ) ने बृहस्पतिवार को राजस्‍थान के रेगिस्‍तान रेंज में देश में विकसित कम वजन के मनुष्य द्वारा उठाये जाने योग्य टैंक रोधी गाइडेड मिसाइल (एमपीएटीजीएम) का दूसरी बार सफल प‍रीक्षण किया।

DRDO ने दूसरी बार टैंक रोधी गाइडेड मिसाइल का किया सफल परीक्षण

रक्षा अनुसंधान तथा विकास संगठन (डीआरडीओ) ने बृहस्पतिवार को राजस्‍थान के रेगिस्‍तान रेंज में देश में विकसित कम वजन के मनुष्य द्वारा उठाये जाने योग्य टैंक रोधी गाइडेड मिसाइल (एमपीएटीजीएम) का दूसरी बार सफल प‍रीक्षण किया।

एक बयान में कहा गया कि एमपीएटीजीएम में एकीकृत वैमानिकी व्‍यवस्‍था के साथ अत्‍याधुनिक इमेजिंग इंफ्रारेड रडार (आईआईआर) है। पहला परीक्षण 13 मार्च, 2019 को किया गया था।
बयान के मुताबिक, दोनों मिशनों में मिसाइलों ने विभिन्‍न रेंजों पर निर्धारित लक्ष्‍यों पर निशाना साधा। मिशन के सारे उद्देश्‍य पूरे कर लिए गए हैं। विशाखापत्तनम से मिली खबर के मुताबिक, भारतीय तटरक्षक का पोत ‘वीर' बृहस्पतिवार को यहां बेस पोर्ट पर पहुंच गया। भारतीय तट रक्षक द्वारा खरीदे गए नए पीढी के गश्ती पोत (ओपीवी) श्रृंखला में यह तीसरा पोत है।
तटरक्षक ने एक बयान में कहा है कि जलावतरण के बाद इसे तट के पास के क्षेत्र में गश्ती के लिए तैनात किया जाएगा। निगरानी, तस्करी विरोधी और जलदस्यु रोधी अभियान में भी इसकी मदद मिलेगी। मध्य अप्रैल में इसे सेवा में शामिल किए जाने की संभावना है। यह पोत आधुनिक नौवहन और संचार के आधुनिक उपकरणों से लैस है।
Share it
Top