Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का रूस को लेकर बड़ा बयान

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का कहना है कि किसी ने रूस के खिलाफ इतना सख्त रवैया नहीं अपनाया है, जितना की वह दिखा रहे हैं।

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का रूस को लेकर बड़ा बयान

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का कहना है कि किसी ने रूस के खिलाफ इतना सख्त रवैया नहीं अपनाया है, जितना की वह दिखा रहे हैं। साथ ही उन्होंने उम्मीद जताई कि रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के साथ अच्छे संबंध‘‘ बहुत ही अच्छी बात' होगी। ट्रंप ने बाल्टिक देशों एस्तोनिया, लातविया और लिथुआनिया के नेताओं के साथ कल हुई बैठक के दौरान यह टिप्पणी की।

ये भी पढ़ें- ऑस्ट्रेलिया: गोल्ड कोस्ट में 21वें कॉमनवेल्थ गेम्स आज से शुरू, भारत के इन 16 खिलाड़ियों से उम्मीद

ट्रंप और पुतिन की होगी मुलाकात

इससे एक दिन पहले व्हाइट हाउस ने इस बात की पुष्टि की कि राष्ट्रपति ने पुतिन को संभावित बैठक के लिए ओवल ऑफिस में आमंत्रित किया है। उन्होंने कहा कि मुझे उम्मीद है कि हम अच्छी बातचीत कर सकते हैं। अगर हम नहीं कर सकते तो इसके बारे में आप सबसे पहले जानेंगे। मेरे अलावा किसी ने भी रूस के खिलाफ इतना सख्त रवैया नहीं अपनाया। ट्रंप से यह पूछा गया था कि वह पुतिन को दोस्त या दुश्मन क्या मानते हैं।

व्हाइट हाउस ने दिए संकेत

ट्रंप ने बाल्टिक नेताओं के साथ संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में व्हाइट हाउस में कहा,‘‘इस बात की सच में संभावना है कि मेरे अच्छे संबंध हो सकते हैं। रूस से बेहतर संबंध होना अच्छी बात है। चीन से अच्छे संबंध होना अच्छी बात है। इसी तरह आप तीनों देशों समेत अन्य देशों से अच्छे संबंध होना अच्छी बात है ना कि बुरी बात है।' उन्होंने कहा कि ऊर्जा के क्षेत्र में अमेरिका‘‘ बहुत मजबूत' है जो रूस के लिए अच्छा नहीं है।

ट्रंप ने कहा कि उनके प्रशासन ने हाल ही में 700 अरब डॉलर का सैन्य बजट पारित किया है। इसके साथ ही अमेरिकी राष्ट्रपति ने कुछ नाटो सदस्यों द्वारा बिल का भुगतान ना करने की बात दोहराई।

ये भी पढ़ें- HRD मंत्रालय की रैंकिंग में IISC सर्वश्रेष्ठ संस्थान, छह IIT और JNU शीर्ष 10 में शामिल

रूस की कार्रवाई पर बोले ट्रंप

ब्रिटेन में रूस के पूर्व जासूस पर रासायनिक हमले के जवाब में रूस के 60 राजनयिकों को निष्कासित करने पर ट्रंप ने कहा, ‘‘ मैंने बहुत सारी चीजें की ना केवल60 राजनयिकों को निष्कासित करना। जर्मनी ने चार, फ्रांस ने चार हमने 60 राजनयिक निकाले। कोई भी रूस पर इतना सख्त नहीं रहा है।' (भाषा)

Next Story
Top