Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

वाड्रा लैंड डील में हुई थी गड़बड़ियां, ढींगरा आयोग की रिपोर्ट

हुड्डा ने जानबूझकर लैंड डील में अनियमितताएं होने दीं

वाड्रा लैंड डील में हुई थी गड़बड़ियां, ढींगरा आयोग की रिपोर्ट
नई दिल्ली. हरियाणा के ज़मीन घोटाले पर ढींगरा आयोग की रिपोर्ट बुधवार को हरियाणा सरकार को सौंप दी गई। रिपोर्ट के आते ही सोनिया गांधी के दामाद रॉबर्ट वाड्रा की मुश्किलें बढ़ गई हैं। आपको बता दें कि ये आयोग रॉबर्ट वाड्रा और अन्य के जमीन सौदों की जांच के लिए बनाया गया है। सूत्रों के मुताबिक रिपोर्ट में हुड्डा सरकार को जिम्मेदार ठहराया गया है। सूत्रों के मुताबिक रिपोर्ट में कहा गया है कि हुड्डा ने कानून को ताक पर रखकर फैसले किए। आयोग के प्रमुख जस्टिस ढींगरा ने बाद में मीडिया को बताया कि रिपोर्ट के दो हिस्से हैं, पहले में नतीजे हैं और दूसरे में सबूत हैं।
उन्होने कहा कि रिपोर्ट उन विषयों के बारे में हैं जो उनको सौंपे गए थे। जस्टिस ढींगरा ने मीडिया से कहा कि उन्होंने हर उस शख्स का उल्लेख रिपोर्ट में किया है, जो ज़िम्मेदार हैं। उन्होंने कहा कि गड़बड़ियां न होती तो रिपोर्ट 182 नहीं एक पेज की होती। उन्होंने कहा कि मैंने सभी बातों को विस्तार से रिपोर्ट में शामिल किया है। रिपोर्ट के कंटेंट के बारे में उन्होंने कुछ भी बताने से साफ मना कर दिया।
प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान जस्टिस ढींगरा से सवाल हुआ कि क्या रिपोर्ट में हरियाणा के पूर्व सीएम हुड्डा का भी जिक्र है? इस सवाल पर जस्टिस ढींगरा ने कहा, 'उन्हें जो भी विषय सौंपे गए थे वे सारे रिपोर्ट में शामिल हैं। सारे साक्ष्य रिपोर्ट में लिखे गए हैं। रिपोर्ट के कंटेंट 'इंक्वॉयरी ऐक्ट' के हिसाब से सरकार जब पटल में रखेगी तब मिलेंगे। सरकार चाहेगी कि कंटेंट पब्लिक किए जाएं तो वह पहले पब्लिक करेगी। मैं रिपोर्ट के कंटेंट्स के बारे में मैं बात नहीं कर सकता। कानूनन रिपोर्ट सरकार की संपत्ति है। जबतक सरकार पढ़कर पब्लिक करने का निर्णय नहीं लेती मैं नहीं बता सकता।'
जस्टिस ढींगरा ने कहा कि अगर लैंड डील में अनियमितताएं नहीं हुई होतीं तो वह एक लाइन की रिपोर्ट सौंपते। उनके मुताबिक अनियमितताएं मिली हैं इसीलिए 182 पेज की रिपोर्ट सौंपी गई है। जस्टिस ढींगरा ने कहा, 'मुझे जमीन डील में अनियमितताएं मिली हैं। इसमें जिन लोगों को फायदा मिला उसकी जांच की गई है। अब राज्य पर है कि किसपर कार्रवाई करे किसपर न करे। मैंने हर उस आदमी का नाम दर्ज किया है जो अनियमितताओं के जिम्मेदार हैं। चाहे वे सरकारी हों या प्राइवेट।'
जस्टिस ढींगरा के मुताबिक लैंड डील पर यह रिपोर्ट कैग के इतर व्यापक परिदृश्य को कवर करती है। अशोक खेमका के बारे में सवाल पूछे जाने पर जस्टिस ढींगरा ने कहा, 'मुझे अशोक खेमका को बुलाना होता तो बुला लेता, लेकिन मैंने जरूरी नहीं समझा। जिसे मैंने जरूरी समझा उसे बुला लिया।'
15 महीने पहले हरियाणा की बीजेपी सरकार ने लैंड डील में कथित अनियमितताओं के आरोपों की जांच के लिए जस्टिस ढींगरा कमिशन का गठन किया था। बुधवार को आयोग का कार्यकाल खत्म होने वाला था। सूत्रों के मुताबिक जस्टिस ढींगरा ने रिपोर्ट में अनियमितताओं की बात दर्ज की है। सूत्रों का कहना है कि इस रिपोर्ट में हरियाणा के पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा पर भी टिप्प्णी की गई है।
सूत्रों के मुताबिक जस्टिस ढींगरा ने अपनी रिपोर्ट में यह भी मेंशन किया है कि हुड्डा ने जानबूझकर लैंड डील में अनियमितताएं होने दीं। सूत्रों की मानें वाड्रा लैंड डील में वाड्रा और हुड्डा दोनों के खिलाफ सबूत हैं। रिपोर्ट में इस डील के अलावा भी दूसरी जमीन डील का जिक्र किया गया है।
इस बीच रॉबर्ट वाड्रा के करीबी सूत्रों के मुताबिक वो कहीं भाग नहीं रहे हैं, सारी चुनौतियां का सामना करेंगे। वाड्रा के क़रीबी सूत्रों के मुताबिक उनसे या उनकी कंपनी से किसी ने बात नहीं की, उन्हें एहसास है कि ये राजनीतिक विच हंट है, वो अपनी कंपनी के टीम लीडर हैं, उसे चलाते रहेंगे। हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपिंदर सिंह हुड्डा ने कहा है कि कार्रवाई बदले की भावना से की जा रही है और जो आयोग बनाया गया है, वो भी राजनीति से प्रेरित है।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top