Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

अब पाकिस्तान में नहीं बंद होगा 5 हजार का नोट, ये है वजह

पाक में नोटबंदी के खबर के बाद सोने की मांग बढ़ी।

अब पाकिस्तान में नहीं बंद होगा 5 हजार का नोट, ये है वजह
नई दिल्ली. भारत के बाद पाकिस्तान में भी 5000 रुपये के नोट को बंद करने की खबर आई थी, जिसे अब पाकिस्तान ने खारिज कर दिया है। पाकिस्तान ने बीते सोमवार को देश में 5000 रुपये के नोट बंद करने की खबरों का खंडन किया और 5000 हजार रुपये को बंद करने की मांग को पाक संसद के उपरी सदन ने इस प्रस्ताव को खारिज कर दिया।
वित्त मंत्रालय ने एक बयान में कहा है कि सरकार ने इस तरह का कोई निर्णय नहीं लिया है और न ही 5000 रुपये के नोटबंद करने का कोई विचार है। बयान में कहा गया है कि पाकिस्तान में बड़े मूल्य का यही एक मात्र नोट है और इसकी संख्या कुल मुद्रा का मात्र 17 प्रतिशत है। पाकिस्तान की संसद के उच्च सदन में 5,000 रुपये के नोटों को बंद करने की मांग उठने के बाद सोने की मांग में भारी इजाफा हुआ है। सरकार और स्टेट बैंक ऑफ पाकिस्तान द्वारा नोटों को बंद किए जाने से इनकार के बावजूद लोगों की घबराहट कम नहीं हो रही है। पाकिस्तानी करंसी में 5,000 रुपये का नोट सबसे बड़ा होता है।
बता दें कि हाल ही में पाकिस्तान की सीनेट ने काले धन के प्रवाह को रोकने के लिए एक चरणबद्ध तरीके से 5,000 रुपये के नोट का चलन बंद करने की मांग करने वाले एक प्रस्ताव को पारित किया था। एक महीने पहले भारत में भी 500 और 1,000 रुपये के पुराने नोटों का चलन बंद कर दिया गया था। सीनेट सदस्य पाकिस्तान मुस्लिम लीग के नेता सैफुल्ला खान ने प्रस्ताव पेश किया था जिसे उपरी सदन में सांसदों ने बहुमत से पारित किया।
पाकिस्तान मुस्लिम लीग के प्रस्ताव में कहा गया था कि 5000 रुपये के नोटों को बंद करने से बैंक खातों का उपयोग बढ़ेगा और गैर दस्तावेजी अर्थव्यवस्था में कटौती होगी। इन नोटों को तीन से पांच सालों में बंद करने का सुझाव दिया गया है। बता दें कि हाल में खबर आई थी कि पाकिस्तान भी कालेधन से निपटने के लिए 5000 रुपये के नोटों को अमान्य करने जा रहा है। हालांकि सत्तारूढ़ पार्टी पीएमएल(एन) ने इस प्रस्ताव का यह कहकर विरोध किया था कि ऐसे किसी भी कदम से देश में भारत की तरह करंसी की समस्या खड़ी हो जाएगी। लेकिन फिर भी इस प्रस्ताव से डरकर रिटेल मार्केट में काफी लोगों ने इन नोटों को लेना बंद कर दिया है।

खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-

Next Story
Top