Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

पाक उच्चायुक्त अफसर जासूस को भारत छोड़ने का आदेश

डिप्लोमेटिक इम्यूनिटी के बिना पर पाकिस्तान उच्चायोग के स्टाफर को छोड़ दिया गया है।

पाक उच्चायुक्त अफसर जासूस को भारत छोड़ने का आदेश
नई दिल्ली. भारतीय सेना की सर्जिकल स्ट्राइक के बाद भारत-पाक में बिगड़ते संबंधों के बीच दिल्ली पुलिस ने पाकिस्तान उच्चायोग के एक स्टाफर को गुरुवार को जासूसी के मामले में गिरफ्तार किया था। सूत्रों के मुताबिक, गिरफ्तार किए गए पाकिस्तान उच्चायोग के अधिकारी के पास आर्मी से सम्बन्धित अहम दस्तावेज हैं। उस अधिकारी को डिप्लोमेटिक इम्यूनिटी मिली हुई है इस बिना पर अब उसे छोड़ दिया गया है। पुलिस ने पूछताछ के बाद उसे छोड़ दिया है।
इस मामले में विदेश मंत्रालय ने पाकिस्तान के हाईकमिश्नर अब्दुल बासित को समन कर आज दोपहर पेश होने को कहा है। साथ ही भारतीय विदेश मंत्रालय ने जासूसी के मामले में पाक उच्चायोग के अफसर को भारत देश छोड़ने का आदेश भी दिया है।
मीडिया सूत्रों के मुताबिक, अरेस्ट हुआ स्टाफर पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आइएसआइ का अफसर हो सकता है।
पुलिस ने मोहम्मद अख्तर नाम के इस उच्चायोग के अधिकारी को सेना से जुड़ी अहम जानकारी लीक करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था। उसके पास डिफेंस से जुड़े कई सीक्रेट डॉक्युमेंट्स मिले हैं साथ ही संवेदनशील दस्तावेज, नक्शे, पेन ड्राइव और सेना की तैनाती की जानकारी मिली है। खुफिया एजेंसियों को उस पर जासूसी का शक है।
इसके साथ ही इस बारे में क्राइम ब्रांच ने पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय को भी रिपोर्ट भेजी है। क्राइम ब्रांच द्धारा टॉप लेवल पर यह जानकारी साझा की गई। पाकिस्तान उच्चायोग के गिरफ्तार किए गए शख्स का नाम मोहम्मद अख्तर है। पुलिस द्वारा आधिकारिक पुष्टि की जानी बाकी है। दिल्ली के चाणक्यपुरी थाने में अख्तर से पूछताछ की जा रही है। वहीं विदेश मंत्रलाय ने इस संबंध में पाक राजदूत अब्दुल बासित को तलब करते हुए गुरुवार सुबह 11:30 बजे हाजिर होने के लिए कहा है।
आपको बता दें एक हफ्ते से इंटेलिजेंस ब्यूरो इसके पीछे लगा था, दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने हिरासत में लिया है। बताया जा रहा है कि इस अधिकारी की पोस्टिंग पिछले साल हुई थी। करीब साल भर से सेना के अफसरों से संपर्क साधने की कोशिश कर रहा था। सूत्रों के मुताबिक, अख्तर आइएसआइ पेरोल पर था लेकिन गिरफ्तारी के बाद इसे पाक उच्चायोग से अटैच बताया गया।
दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच के सूत्रों ने बताया कि तीन और लोग भी उसके रडार पर हैं। दिल्ली में एक दिन पहले ही दो पाक जासूस गिरफ्तार हुए थे। ये दोनों भारत के ही नागरिक हैं और नागपुर से दिल्ली आए थे। सूत्रों के मुताबिक दोनों जासूसों का ये हैंडलर है। इनका मकसद मोहम्मद अख्तर को सेना से जुड़ी जानकारी उपलब्ध कराना था। इन दोनों के बयानों के बाद ही पाक दूतावास के अधिकारी को गिरफ्तार किया गया।
दिल्ली पुलिस को इसकी काफी वक्त से तलाश थी। मोहम्मद अख्तर की उम्र 35 साल है। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक आइबी की टिप पर दिल्ली पुलिस ने यह कार्रवाई की है।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Share it
Top