Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

दिल्ली / रामलीला मैदान में एकजुट हुए 207 किसान संगठन, यहां पढ़ें पूरा अपडेट

पिछले साल तमिलनाडू के किसानों का प्रदर्शन पूरे देश ने देखा लेकिन उनकी मांगें जस की तस रहीं। लिहाजा अपनी मांगों को लेकर किए जा रहे दो दिवसीय प्रदर्शन के तहत देश के अलग-अलग हिस्सों से किसान बृहस्पतिवार को देश की राजधानी दिल्ली में इकट्ठा हुए।

दिल्ली / रामलीला मैदान में एकजुट हुए 207 किसान संगठन, यहां पढ़ें पूरा अपडेट
पिछले साल तमिलनाडू के किसानों का प्रदर्शन पूरे देश ने देखा लेकिन उनकी मांगें जस की तस रहीं। लिहाजा अपनी मांगों को लेकर किए जा रहे दो दिवसीय प्रदर्शन के तहत देश के अलग-अलग हिस्सों से किसान बृहस्पतिवार को देश की राजधानी दिल्ली में इकट्ठा हुए। प्रदर्शनकारी किसान कर्ज में राहत और अपने उत्पादों के लिए उचित कीमत की मांग कर रहे हैं।
किसानों के प्रदर्शन में शामिल होने आए तमिलनाडु के किसान समूह ने कहा है कि अगर उन्हें शुक्रवार को संसद भवन नहीं जाने दिया गया तो वो नग्न होकर मार्च करेंगे। किसानों का ये समूह आत्महत्या कर चुके अपने साथी किसानों की खोपड़ियां लेकर विरोध प्रदर्शन में शामिल होने गुरुवार को दिल्ली पहुंचा।
बृहस्पतिवार को रामलीला मैदान और शुक्रवार को संसद मार्ग तक मार्च के लिए आए किसान आंध्र प्रदेश, गुजरात, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, तमिलनाडु, पश्चिम बंगाल और उत्तर प्रदेश सहित देश के अलग-अलग हिस्सों से राष्ट्रीय राजधानी पहुंचे हैं। आनंद विहार, निजामुद्दीन और बिजवासन रेलवे स्टेशनों एवं सब्जी मंडी से चलकर चार अलग-अलग मार्गों से किसान जब रामलीला मैदान की ओर बढ़े तो कई जगहों पर ट्रैफिक बाधित हुआ।
अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति (एआईकेएससीसी) के बैनर तले प्रदर्शन कर रहे किसान ट्रेनों, बसों एवं अन्य परिवहन माध्यमों से दिल्ली पहुंचे। एआईकेएससीसी किसानों एवं खेतिहर कामगारों के 207 संगठनों की संयुक्त संस्था होने का दावा करता है।
रामलीला मैदान तक समूहों में पहुंचे
किसानों के नेताओं ने बताया कि दिल्ली, पंजाब एवं हरियाणा के किसान सुबह साढ़े दस बजे इकट्ठा होना शुरू हो गए। अखिल भारतीय किसान सभा (एआईकेएस) की दिल्ली इकाई की पदाधिकारी कमला ने बताया कि नजदीकी इलाकों के किसान दिल्ली के बाहरी इलाके में स्थित मजनूं का टीला में इकट्ठा हुए और वहां से वे समूहों में रामलीला मैदान की तरफ बढ़े हैं। प्रदर्शनकारी किसान शाम तक रामलीला मैदान पहुंच सकते हैं। उन्हें करीब एक लाख किसानों के रामलीला मैदान पहुंचने की उम्मीद है।

योगेन्द्र यादव और प्रशांत भूषण का समर्थन

एआईकेएससीसी ने कहा है कि दो दिवसीय मार्च दि्ल्ली में किसानों का सबसे बड़ा प्रदर्शन होगा। बृहस्पतिवार को रामलीला मैदान में एक सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया जाएगा, जिसमें ग्रामीण भारत के कई जानेमाने गायक एवं कवि प्रस्तुति देंगे। पुलिस ने बताया कि उसने शुक्रवार की रैली के लिए सुरक्षा के व्यापक प्रबंध किए हैं। स्वराज इंडिया के नेता योगेन्द्र यादव और जानेमाने वकील प्रशांत भूषण ने किसानों के प्रति समर्थन व्यक्त किया है।

ये हैं किसानों की मांगें

तमिलनाडु पी. अय्याकन्नू ने कहा उनकी मुख्य मांग कर्जमाफी, लाभकारी फसल मूल्य और किसानों को हर महीने पांच हजार रुपये की पेंशन देना है। उन्होंने कहा कि हमारी मुख्य कृषि गतिविधियों में धान रोपाई, कपास की खेती और नारियल और केले की बागवानी शामिल है। तमिलनाडु में कर्ज नहीं चुका पाने की वजह से 700 से ज्यादा किसान आत्महत्या कर चुके हैं। उन्होंने कहा कि हमारे पास पानी नहीं है और बीते पांच साल से सूखा जैसे हालात का सामना कर रहे हैं। इस साल भी हमें तूफान के कारण भुगतना पड़ा है।
Loading...
Share it
Top