Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

सेना को मिलेंगी अत्याधुनिक 72 हजार असॉल्ट राइफल और 93 हजार कार्बाइन

बॉर्डर पर तैनात भारतीय जवानों को जल्द ही अत्याधुनिक 72 हजार चार सौ असॉल्ट राइफलों और 93 हजार 895 क्लोज क्वार्टर बैटल (सीक्यूबी) कार्बाइन से लैस किया जाएगा।

सेना को मिलेंगी अत्याधुनिक 72 हजार असॉल्ट राइफल और 93 हजार कार्बाइन

बॉर्डर पर तैनात भारतीय जवानों को जल्द ही अत्याधुनिक 72 हजार चार सौ असॉल्ट राइफलों और 93 हजार 895 क्लोज क्वार्टर बैटल (सीक्यूबी) कार्बाइन से लैस किया जाएगा।

रक्षा अधिग्रहण परिषद (डीएसी) ने सेना के लिए हथियारों की खरीद को मंजूरी दे दी है। इन हथियारों को खरीदने के लिए लगभग 3,547 करोड़ रुपये खर्च होंगे।

हथियार खरीदने का लिया गया फैसला

आपको बता दें कि रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण की अध्यक्षता में आयोजित रक्षा अधिग्रहण परिषद की बैठक में फास्ट ट्रैक आधार पर इन हथियारों को खरीदने का फैसला लिया गया।

यह भी पढ़ें- 'इसरो' की सैटेलाइट ने भेजी पहली तस्वीर, दिखा इंदौर क्रिकेट स्टेडियम

रक्षा मंत्रालय की माने तो यह हथियार असॉल्ट राइफलें और सीक्यूबी कार्बाइन इंसास राइफलों की जगह लेंगी। जल्द ही हथियारों को खरीदने की प्रक्रिया शुरू की जाएगी।

एक्सकैलिबर राइफल को अर्मी ने किया रिजेक्ट

बते वर्ष इंडियन आर्मी ने भारत में बनी एक्सकैलिबर राइफल को रिजेक्ट कर दिया था।

डीआरडीओ ने इंसास 1990 में किया विकसित

इंसास को रक्षा अनुसंधान विकास संगठन ने वर्ष 1990 में विकसित किया था। नया कार्बाइन नजदीक के दुश्मनों से मुकाबला करने में काफी सक्षम है।

गौरतलब है कि हाल ही में सेना प्रमुख बिपिन रावत ने मीडिया से बातचीत के दौरान कहा था कि सीमा पर तैनात सुरक्षा बलों को असॉल्ट राइफलों से लैस किया जाएगा।

Share it
Top