Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

इशरत जहां मामला: पूर्व आईपीएस अधिकारी पांडे की रिहाई याचिका पर 16 फरवरी को फैसला

सीबीआई की एक विशेष अदालत ने इशरत जहां फर्जी मुठभेड़ मामले में गुजरात के पूर्व महानिदेशक पी पी पांडे द्वारा अपनी रिहाई के लिए दायर की गई एक याचिका पर चल रही सुनवाई को आज समाप्त करते हुए इस मामले पर अपना फैसला 16 फरवरी के लिए सुरक्षित रखा है।

इशरत जहां मामला: पूर्व आईपीएस अधिकारी पांडे की रिहाई याचिका पर 16 फरवरी को फैसला

सीबीआई की एक विशेष अदालत ने इशरत जहां फर्जी मुठभेड़ मामले में गुजरात के पूर्व महानिदेशक पी पी पांडे द्वारा अपनी रिहाई के लिए दायर की गई एक याचिका पर चल रही सुनवाई को आज समाप्त करते हुए इस मामले पर अपना फैसला 16 फरवरी के लिए सुरक्षित रखा है।

ये भी पढ़ें- जय शाह मानहानि केस में आरोपियों ने नकारे आरोप, अगले महीने से शुरू होगा ट्रायल

न्यायाधीश जे के पंड्या 16 फरवरी को फैसला सुनाएंगे। फिलहाल जमानत पर चल रहे पांडे ने दलील दी थी कि उनके खिलाफ दो गवाहों के बयान विरोधाभासी है और अदालत द्वारा की जा रही जांच में शामिल अन्य 105 गवाहों में इनमें से किसी का नाम भी शामिल नहीं था।

पांडे के वकील ने अदालत को बताया कि केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने केंद्र से अनिवार्य स्वीकृति प्राप्त किए बिना ही अपने आरोपपत्र में उनका नाम एक आरोपी के तौर पर शामिल किया है।

उन्होंने पांडे की प्रभारी डीजीपी के रूप में पदोन्नति का हवाला देते हुए कहा कि यह उन चीजों में से एक है जिसके आधार पर उनके मुवक्किल की रिहाई होनी चाहिये। प्रभारी डीजीपी के रूप में उनकी पदोन्नति को उच्चतम न्यायालय में चुनौती दिये जाने के बाद पांडे ने पिछले साल अप्रैल में इस्तीफा दे दिया था।

ये भी पढ़ें- कासगंज हिंसा: योगी सरकार के मंत्री का बयान- ऐसी छोटी-मोटी घटनाएं होती रहती हैं

सीबीआई ने उनकी रिहाई याचिका का यह कहते हुए विरोध किया था कि यह साबित करने के लिए उनके पास पर्याप्त सबूत हैं कि वह कथित फर्जी मुठभेड़ की साजिश में संलिप्त थे।

Next Story
Share it
Top