Web Analytics Made Easy - StatCounter
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

मानव जीवन के लिए संजीवनी का काम करेगी जानलेवा तंबाकू

अब जानलेवा तंबाकू मानव जीवन के लिए वरदान साबित होगी। हर साल धूम्रपान से संबंधित बीमारियों के चलते लाखों लोग मौत के शिकार हो जाते हैं। इसके बढ़ते चलन और सेवन से पूरी दुनिया चिंतित है। लेकिन अब यह जहरीली तंबाकू लाखों लोगों के लिए संजीवनी का काम करेगी।

मानव जीवन के लिए संजीवनी का काम करेगी जानलेवा तंबाकू

अब जानलेवा तंबाकू मानव जीवन के लिए वरदान साबित होगी। हर साल धूम्रपान से संबंधित बीमारियों के चलते लाखों लोग मौत के शिकार हो जाते हैं। इसके बढ़ते चलन और सेवन से पूरी दुनिया चिंतित है। लेकिन अब यह जहरीली तंबाकू लाखों लोगों के लिए संजीवनी का काम करेगी।

यानी जीवन को बचाने के लिए तंबाकू का इस्तेमाल किया जा सकता है। यह सूचना आपको अचरज में डाल देगी, पर यह सौ फीसद सच है। वैज्ञानिक अब तंबाकू से कृत्रिम फेफड़े बना रहे हैं।

वैज्ञानिक मानव प्रत्यारोपण के लिए कृत्रिम फेफड़ों को विकसित कर रहे हैं। इन कृत्रिम फेफड़ों को पूरी तरह से तंबाकू से निर्मित किया जाएगा। इसमें तंबाकू के अवयवों को नए तरीके से विकसित किया जा रहा है। इसके लिए वैज्ञानिक तंबाकू के अंदर कोलेजन नामक तत्‍व को सिंथेटिक रूप में संशोधित करेंगे। यह एक रेशेदार पदार्थ है, जो शरीर के विभिन्‍न अंगों के लिए एक मचान का कार्य करता है। कोलेजन के प्रोटीन मजबूत स्ट्रैंड बनाने के लिए अणुओं को कसकर एक साथ पैक करते हैं, जो कोशिकाओं के विकास के लिए एक समर्थन संरचना के रूप में कार्य करते हैं।
शोधकर्ता तंबाकू के पौधों को आनुवांशिकी रूप से संशोधित करने में जुटे हैं, जिससे वह प्रचुर मात्रा में कोलेजन की उत्‍पत्ति करेगा। यह मानव शरीर के लिए भी उपयोगी होगा। शोध में यह पाया गया कि कोलेजन के कारण केवल आठ सप्‍ताह में एक पौधा परिपक्‍व हो जाता है। इससे वैज्ञानिकों का यह दावा मजबूत हो जाता है कि तंबाकू में पाए जाने वाले कोलेजन से बड़े पैमाने पर कृत्रिम फेफड़ों का उत्पादन किया जा सकता है।
शोधकर्ताओं ने तंबाकू के पौधों को आनुवांशिक रूप से कोलेजन को संशोधित करने का एक तरीका पाया है। यह मानव शरीर की तुलना में बड़ी मात्रा में कोलेजन उत्पन्न कर सकता है। तंबाकू कोलेजन बढ़ने के लिए आदर्श वाहक है, क्योंकि यह पौधे जल्दी परिपक्व हो जाता है। इसलिए कृत्रिम फेफड़ों को बनाने के लिए इसकी लगातार आपूर्ति होती रहती है।
वैज्ञानिकों का कहना है कि यह तकनीक अभी शुरुआती चरण में है। लेकिन उन्‍होंने उम्‍मीद जताई है कि इस तकनीक से कृत्रिम फेफड़ों का बड़े पैमाने पर उत्पादन किया जा सकता है। इसलिए प्रत्यारोपण के लिए अब मरीजों को वर्षों तक इंतजार नहीं करना पड़ेगा।
इजराइली बायोटेक फर्म कोल्पप्लेंट के वैज्ञानिकों ने केवल आठ सप्ताह में तंबाकू संयंत्रों में कोलेजन बढ़ने की विधि को पूरा किया है। इसके बाद जब यह पौधे परिपक्व हो जाते हैं, तो पत्तियों को कटाई और 'बायोइन्क' बनाने के लिए संसाधित किया जाता है। अब तक इस फर्म ने फेफड़ों के ऊतक के केवल एक छोटे से हिस्से का उत्पादन किया है। इन ऊतकों की लंबाई दो इंच है।
शोधकर्ताओं ने अभी तक इसे मानव फेफड़ों के कामकाज के लिए विकसित नहीं किया है, जो स्टेम कोशिकाओं के साथ कोटिंग करते हैं जो प्रत्यारोपण के लिए स्वस्थ ऊतक तैयार करते हैं। इस साल की शुरुआत में, हार्वर्ड यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों ने डिटर्जेंट का उपयोग करके कोशिकाओं को एक सुअर फेफड़ों में प्रयोग किया। वैज्ञानिकों का यह प्रयोग सफल रहा।
ब्रिटेन स्टेम सेल फाउंडेशन के मुख्य वैज्ञानिक का कहना है कि तंबाकू से उगाए गए फेफड़ों में प्रत्यारोपण सर्जरी को बदलने की क्षमता है, लेकिन अभी इसकी सुलभता में दस वर्ष का समय लगेगा। उन्‍होंने कहा कि अभी इसके लिए एक लंबा रास्‍ता तय करना है। इसकी चुनौतियां बड़ी हैं। उन्‍होंने साफ किया कि यह स्पष्ट नहीं है कि मचान में कोशिकाओं का यह अपेक्षाकृत सरल दृष्टिकोण फेफड़ों जैसे जटिल और बड़े ढांचे के निर्माण के लिए उपयोग किया जा सकता है।
Next Story
Share it
Top