Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

खुलासा: देश के लाखों डॉक्टरों का पर्सनल डाटा लीक, NEET में रैंकिंग सुधारने के लिए ऐसे बना रहे शिकार

देशभर के 1.29 लाख एमबीबीएस डॉक्टर्स का जो डाटा नेशनल बोर्ड ऑफ एग्जामिनेशन के पास सुरक्षित रहना चाहिए था, वो सब बाजार में बिक रहा है।

खुलासा: देश के लाखों डॉक्टरों का पर्सनल डाटा लीक, NEET में रैंकिंग सुधारने के लिए ऐसे बना रहे शिकार

देशभर के 1.29 लाख MBBS डॉक्टर्स का जो डाटा नेशनल बोर्ड ऑफ एग्जामिनेशन (NBE) के पास सुरक्षित रहना चाहिए था, वो सब बाजार में बिक रहा है। ये डाटा इन डॉक्टर्स के हैं, जिन्होंने मेडिकल कॉलेजों में पीजी में दाखिले के लिए 7 जनवरी को NEET (नेशनल एलिजिबिलिटी एंट्रेंस टेस्ट) दिया था।

ठग इन उम्मीदवारों के नाम, रोल नंबर और अन्य जानकारी की मदद से इंदौर, भोपाल सहित प्रमुख शहरों के छात्रों को रैंक सुधारने का लालच दे रहे हैं।

यह भी पढ़ें- दिल्ली सीलिंगः दो दिन में 3500 करोड़ का नुकसान, आज दिन भी बंद रह सकते हैं बाजार

ठगों तक पहुंचा डाटा

दैनिक भास्कर की रिपोर्ट के मुताबिक, ठग किसी स्टूडेंट से 3 लाख तो किसी से 8 लाख रुपए मांगकर रैंकिंग एक हजार के अंदर करवाने का बात कर रहे हैं। इतने बड़े पैमाने पर छात्रों का डाटा लीक होना NBE पर कई सवाल खड़े कर रहा है।

जब ये बात बोर्ड के एक्जीक्यूटिव डायरेक्टर से पूछी गई तो उनके पास इसका जवाब नहीं है कि डाटा कैसे लीक हुआ? वो इसके लिए कोचिंग संस्थानों पर शक जता रहे हैं। वहीं, छात्रों के परिजनों का आरोप है कि सिस्टम में इस साल अचानक जो फेरबदल किया गया, उसके वजह से ही ऐसा हो सकता है।

यह भी पढ़ें- सीरिया: रूसी फाइटर जेट पर हमला, जवाबी कार्रवाई में 30 आतंकी ढेर

छात्र फेसबुक पर साथियों को कर रहे अलर्ट

पीड़ित छात्र फर्जी कॉल की जानकारी फेसबुक वॉल पर पोस्ट कर रहे हैं। साथ ही इन नंबरों को ट्रू-कॉलर में जाकर भी स्कैम, फ्रॉड अलग-अलग नाम से ब्लॉक लिस्ट में डाला जा रहा है।

इंदौर के MGM मेडिकल कॉलेज के प्रोफेसर संजय दीक्षित के मुताबिक, शहर के 200 छात्रों ने NEET-पीजी दी है। लेकिन अभी हमें ऐसे कॉल आने की जानकारी नहीं है, पर इतना जरूर है कि है ऐसी कोई रकम बोर्ड या कोई विभाग नहीं मांग रहा है। उन्होंने कहा कि स्टूडेंट और उनके परिजन किसी तरह के फ्रॉड से बचें।

Loading...
Share it
Top