Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

NEET एग्जाम को चैलेंज करने वाली दलित छात्रा ने की आत्महत्या

दिहाड़ी मजदूर की बेटी अनीता ने 12वीं बोर्ड परीक्षा में 1200 में से 1176 अंक हासिल किए थे।

NEET एग्जाम को चैलेंज करने वाली दलित छात्रा ने की आत्महत्या
नेशनल एलिजिबिलिटी कम एंट्रेंस टेस्ट यानी NEET को चैलेंज करने वाली 17 वर्षीय दलित छात्रा एस अनीता ने सूसाइड कर लिया है। तमिलनाडु के अरियालुर जिले में शुक्रवार को अनीता ने अपने घर में आत्महत्या की। शानदार अंकों से 12वीं पास करने वाली अनीता NEET को पास नहीं कर पाई थी।
बता दें कि दिहाड़ी मजदूर की बेटी अनीता ने 12वीं बोर्ड परीक्षा में 1200 में से 1176 अंक हासिल किए थे। उसकी तमन्ना डॉक्टर बनने की थी। लेकिन, नीट परीक्षा में चूक जाने की वजह से उसके सारे अरमान टूट गए और उसने सूसाइड की राह अपनाई। परिजनों को मुताबिक वह काफी दिनों से परेशान चल रही थी।
गौरतलब है कि अनीता ने नीट परीक्षा को तमिलनाडु में अनिवार्य किए जाने के फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी। लेकिन कोर्ट ने उसकी दलील अस्वीकार करते हुए तमिलनाडु को कोई छूट नहीं दी। वैसे इसी साल तमिलनाडु सरकार ने अध्यादेश के जरिए नीट परीक्षा को बाहर करने का प्रयास किया था, लेकिन नौ दिन पहले ही सुप्रीट कोर्ट ने इसे खारिज कर दिया था।
नीट परीक्षा का आयोजन मेडिकल और डेंटल कॉलेज में MBBS और BDS कोर्सेस में दाखिला लेने के लिए किया जाता है। नीट क्लियर करने वाले छात्रों को उन कॉलेजों में दाखिला मिलता है, जो मेडिकल कांउसिल ऑफ इंडिया और डेटल कांउसिल ऑफ इंडिया से संचालित होते हैं।
Next Story
Top