Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

मिस्त्री का मेल बम: बोर्ड पर निशाना, किए कई खुलासे

मिस्त्री ने कुछ सौदों को लेकर नैतिक रूप से चिंता जतायी थी

मिस्त्री का मेल बम: बोर्ड पर निशाना, किए कई खुलासे
नई दिल्ली. टाटा समूह के चेयरमैन पद से हटाए जाने से आहत साइरस मिस्त्री बुधवार को रतन टाटा पर बरसे। मिस्त्री ने कहा कंपनी में उन्हें ‘एक निरीह चेयरमैन’ बना कर रख दिया गया था। उन्होंने कहा कि निर्णय प्रक्रिया में बदलाव से टाटा समूह में कई वैकल्पिक शक्ति केंद्र बन गए थे। टाटा संस के निदेशक मंडल के सदस्यों को लिखे एक गोपनीय किंतु विस्फोटक ईमेल में उन्होंने आरोप लगाया कि उन्हें अपनी बात रखने का कोई मौका दिए बिना ही भारत के सबसे बड़े औद्योगिक समूह के चेयरमैन पद से हटाया गया। मिस्त्री का कहना है कि उनके खिलाफ यह कार्रवाई ‘चटपट अंदाज’ में की गई। उन्होंने इसे कारपोरेट बाकी
जगत के इतिहास की अनूठी घटना बताया।
मिस्त्री ने 25 अक्तूबर को लिखे ई-मेल में कहा-‘24 अक्तूबर 2016 को निदेशक मंडल की बैठक में जो कुछ हुआ, वह हतप्रभ करने वाला था और उससे मैं अवाक रह गया। वहां की कार्यवाही के अवैध और कानून के विपरीत होने के बारे में बताने के अलावा, मुझे यह कहना है कि इससे निदेशक मंडल की प्रतिष्ठा में कोई वृद्धि नहीं हुई।’मीडिया को बुधवार को जारी इस ई-मेल में उन्होंने लिखा है-‘अपने चेयरमैन को बिना स्पष्टीकरण और स्वयं के बचाव के लिए कोई मौका दिए बिना इस तरह से हटाना कारपोरेट इतिहास में अनूठा मामला है।’ मिस्त्री के आरोपों के बारे में टाटा संस से जवाब लेने की कोशिश की गई। लेकिन उनकी तरफ से कोई प्रतिक्रिया नहीं आई।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top