Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

नोट बंदी: कहीं बैंकों में कैश खत्म, तो कहीं ATM बंद

एटीएम के अंदर कैश रखने के लिए 4 ब्लॉक यानी कैसेट्स होते हैं।

नोट बंदी: कहीं बैंकों में कैश खत्म, तो कहीं ATM बंद
नई दिल्ली. 8 नवंबर से 500 और 1000 के नोट बंदी की घोषण के बाद से देश में चरों तरफ अफरा-तफरी का माहौल है। लोगों को राहत देने के लिए आरबीआइ ने सभी बैंकों को शनिवार और रविवार को भी बैंक खोलने का आदेश दिया था, बैंक खुले और काम भी हुआ लेकिन नोट बदलने के लिए लोगों की कतार बैंकों और एटीएम के बाहर पहले से भी ज्यादा लंबी देखने को मिल रही है। बड़ी तादाद में लोगों के आने से अधिकतर जगहों पर एटीएम से नकदी भी खत्म हो गई है। बैंकों में कैश तीन बजे ही खत्म हो रहे हैं और कोई एटीएम मशीने अभी तक चालू न होने की वजह से लोगों को भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। वहीं वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि बैंकों और एटीएम की स्थिति को सामान्य होने में अभी काम से काम 2-3 हफ़्तों का समय लगेगा।
2 से 3 सप्ताह का समय
एटीएम फंक्शनिंग के बारे में एक सवाल का जवाब देते हुए फाइनेंस मिनिस्टर ने कहा, “इतनी बड़ी संख्या में जो लोग आए और आएंगे, उनसे केवल इतनी अपील है कि ये 30 दिसंबर तक डिपॉजिट एक्सचेंज की सुविधा है। आने वाले दिनों में भीड़ छंटेगी। बाद में आएं सुविधा होगी। टेक्नॉलजी की वजह से लिमिटेशंस हैं, क्योंकि सीक्रेसी रखनी पड़ती है। जब तक डिसीजन हुआ और इसे सार्वजनिक किया गया। दो लाख एटीएम मशीनों को पहले रीकैलिबरेट नहीं किया गया। क्योंकि, इस काम में हजारों लोग लगते हैं। इस वजह से सीक्रेसी नहीं रहती। पैसा डालना, रीकैलिबरेट करना, पुराने 100 रुपए 500 और हजार के लिए कैलिबरेटेड थे। 2 से 3 सप्ताह का समय लगता है रीकैलिबरेट करने का। इसलिए जो नए नोट आए हैं.. उनका साइज अलग है। धीरे-धीरे रीकैलिबरेट किए जा रहे हैं।
एटीएम से जुडी कुछ बातें
आपको बता दें, एटीएम के अंदर कैश रखने के लिए 4 ब्लॉक यानी कैसेट्स होते हैं। इन चारों कैसेट्स में अलग-अलग नोट रखे जाते हैं। इन कैसेट्स नोटों की लंबाई-चौड़ाई के हिसाब से तैयार किया गया था। अब तक 100, 500 और 1000 के नोट रखे जाते थे। इनकी चौड़ाई बराबर लेकिन लंबाई में फर्क था। नए जारी किए गए 500 और 2000 के नोटों की चौड़ाई पुराने नोटों के मुकाबले कम है। इसलिए एटीएम से नए नोट नहीं निकाल सकते। सीधी सी बात है कि केसेट्स का डिजाइन नए नोटों के हिसाब से किए जाने तक दिक्कत बनी रहेगी। अब 100 का नोट ही एटीएम से निकाल पा रहे हैं। वैसे दिक्कत ये भी है कि भारत में एटीएम से कम और विदड्रॉल करने वालों की संख्या बेहद ज्यादा है। एक केसेट में ही 100 के नोट रखे जा सकते हैं। इस अनुपात में प्रोडक्शन भी आसान नहीं है।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top