Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

बड़ी कंपनियों के सीएसआर फंड से लघु उपक्रमों के कारोबार में वृद्धि संभव

मंत्री ने एमएसएमई क्षेत्र में सीएसआर का धन का उपयोग प्रभावी व विकास केंद्रित अवसर हो सकता है।

बड़ी कंपनियों के सीएसआर फंड से लघु उपक्रमों के कारोबार में वृद्धि संभव
X

नई दिल्ली. सूक्ष्म, लघु एवं मझोले उद्यमों (एमएसएमई) को वित्त पोषण की समस्या को देखते हुए एक अध्ययन में कंपनी सामाजिक जिम्मेदारी कोष के तहत एमएसएमई क्षेत्र को वित्त उपलब्ध कराने का सुझाव दिया गया है।

ये भी पढ़ें: सीएनजी के लिए अडाणी का लाइसेंस आग्रह खारिज

पीएचडी चैंबर और एवियन मीडिया के एक संयुक्त अध्ययन में कहा गया है कि इससे सूक्ष्म, लघु और मझोले उद्यमों (एमएसएमई) को बड़े उद्योगों में प्रचलित नई तकनीक, तरीकों, प्रक्रियाओं और अन्य प्रमुख मानकों के बारे में जानकारी भी मिल सकेगी और उनकी क्षमता तथा कुल मिलाकर उत्पादकता बढ़ेगी।
59 प्रतिशत कर्मचारी कुशल
मेक इन इंडिया के लिए एमएसएमई की मजबूती कंपनी सामाजिक जिम्मेदारी पर जोर के साथ शीर्षक से जारी अध्ययन में यह भी कहा गया है, 'एमएसएमई में काम कर रहे लगभग 59 प्रतिशत कर्मचारी कुशल हैं। वहीं 21 प्रतिशत रोजगार प्रशिक्षण ले रहे हैं जबकि बीस प्रतिशत अकुशल हैं।
आगे की स्लाइड्स में पढ़िए, पूरी खबर-
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story