Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

तीन तलाक बिल: जेटली ने कहा- कांग्रेस के रवैये के कारण मुस्लिम महिलाओं के साथ अन्याय होता रहेगा

राज्यसभा में आज तीन तलाक संबंधी विधेयक पारित नहीं होने के बीच उच्च सदन के नेता एवं वित्त मंत्री अरूण जेटली ने कहा कि कांग्रेस पार्टी के विरोध के रवैये के कारण मुस्लिम महिलाओं के साथ अन्याय चलता रहेगा।

तीन तलाक बिल: जेटली ने कहा- कांग्रेस के रवैये के कारण मुस्लिम महिलाओं के साथ अन्याय होता रहेगा

राज्यसभा में आज तीन तलाक संबंधी विधेयक पारित नहीं होने के बीच उच्च सदन के नेता एवं वित्त मंत्री अरूण जेटली ने कहा कि कांग्रेस पार्टी के विरोध के रवैये के कारण मुस्लिम महिलाओं के साथ अन्याय चलता रहेगा।

उन्होंने यह भी दावा किया कि देश में जो जनमत है, उसके कारण अंतत: कांग्रेस तथा सभी राजनीतिक दलों को इस विधेयक का समर्थन करना पड़ेगा। जेटली ने संसद भवन परिसर में संवाददाताओं से कहा विपक्ष अप्रत्यक्ष तरीके से तीन तलाक वाले विधेयक का विरोध कर रहा है।

यह भी पढ़ें- ट्रिपल तलाक बिल: सपा नेता नरेश अग्रवाल ने मुस्लिम महिलाओं का उड़ाया मजाक, कही ये बड़ी बात

यह दिखावा था कि उन्होंने 'इसके पक्ष में' बयान दिया और लोकसभा में इसका समर्थन किया। आज राज्यसभा में उन्होंने पूरा प्रयास किया कि किसी तरह यह विधेयक पारित न हो। उन्होंने कहा यदि विधेयक में सुधार के लिए पार्टी का कोई सुझाव है तो वह हमें दे सकते हैं।

किन्तु उनका कोई सुझाव नहीं है। अभी तक उन्होंने सार्वजनिक रूप से भी कोई सुझाव नहीं दिया। एक सदन में कहना कि हम इसके पक्ष में हैं और दूसरे में उसे टालना, यह उनकी राजनीति है।

जेटली ने कहा एक अन्याय मुस्लिम महिलाओं के साथ लम्बे अर्सें से हो रहा था। संसद के लिए यह सुनहरा अवसर था कि इस अन्याय को समाप्त करें। कांग्रेस पार्टी के इस तरीके से यह अन्याय चलता रहेगा।

यह भी पढ़ें- जम्मू-कश्मीर: पाकिस्तान ने फिर तोड़ा सीजफायर का उल्लंघन, एक जवान शहीद

उन्होंने विश्वास जताया कि देश में जनमत को देखते हुए अंतत: कांग्रेस तथा सभी राजनीतिक दलों को विधेयक का समर्थन करना पड़ेगा। राज्यसभा में आज मुस्लिम महिला विवाह अधिकार संरक्षण' विधेयक चर्चा के लिए रखा गया।

किन्तु विपक्ष द्वारा इसे प्रवर समिति के पास भेजने का प्रस्ताव लाने के कारण सदन में हंगामा मचने लगा। इसके कारण सदन नहीं चल पाया और विधेयक पर चर्चा भी नहीं शुरू हो पाई।

Next Story
Top