logo
Breaking

नोटबंदी के दो साल: कांग्रेस का नोटबंदी के खिलाफ देशभर में विरोध प्रदर्शन

देश में 8 नवंबर को नोटबंदी के दो साल पूर हो गए हैं। कांग्रेस का कहना है कि अब नोटबंदी की जवाबदेही सुनिश्चित करने का वक्त आ गया है।

नोटबंदी के दो साल: कांग्रेस का नोटबंदी के खिलाफ देशभर में विरोध प्रदर्शन

देश में 8 नवंबर को नोटबंदी के दो साल पूर हो गए हैं। नोटबंदी के दो साल पूरे होने के मौके पर कांग्रेस ने मोदी सरकार पर जमकर हमला बोला। कांग्रेस ने मोदी सरकार पर हमला बोलते हुए दावा किया कि 8 नवंबर 2016 को उठाया गया कदम ‘आजाद भारत का सबसे बड़ा घोटाला’ है।

नोटबंदी के दो साल पर कांग्रेस आज नोटबंदी के खिलाफ राष्ट्रव्यापी प्रदर्शन कर रही है। कांग्रेस पार्टी का कहना है कि अब नोटबंदी की जवाबदेही सुनिश्चित करने का वक्त आ गया है। पीएम मोदी को जिम्मेदारी स्वीकार करनी चाहिए। इस मौके पर मोदी सरकार के इस कदम के खिलाफ शुक्रवार को दिल्ली में भारतीय रिजर्व बैंक के बाहर प्रदर्शन किया।

पार्टी के संगठन महासचिव अशोक गहलोत, वरिष्ठ नेता आनंद शर्मा, मुकुल वासनिक, हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा, अखिल भारतीय महिला कांग्रेस की अध्यक्ष सुष्मिता देव, भारतीय युवा कांग्रेस के अध्यक्ष केशव चंद यादव और पार्टी के राष्ट्रीय सचिव मनीष चतरथ एवं नसीब सिंह तथा पार्टी के कई कार्यकर्ता शामिल हुए।

आरबीआई दफ्तर की तरफ बढ़ रहे कांग्रेस नेताओं एवं कार्यकर्ताओं को पुलिस ने हिरासत में लिया और संसद मार्ग थाने ले गई। हिरासत में लिए जाने को मोदी सरकार का ‘तानशाही' वाला कदम करार देते हुए गहलोत ने कहा कि नोटबंदी से देश के गरीबों और छोटे कारोबारियों को सबसे ज्यादा नुकसान हुआ है। कांग्रेस ने बृहस्पतिवार को नोटबंदी के दो साल पूरा होने के मौके पर घोषणा की थी कि पार्टी नोटबंदी के खिलाफ राष्ट्रव्यापी प्रदर्शन करेगी।

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने इसी विषय को लेकर बृहस्पतिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर जमकर हमला बोला था और आरोप लगाया था कि मोदी सरकार का यह कदम खुद से पैदा की गई ‘त्रासदी' और ‘आत्मघाती हमला' था जिससे प्रधानमंत्री के ‘सूट-बूट वाले मित्रों' ने अपने कालेधन को सफेद करने का काम किया।

वहीं नोटबंदी के खिलाफ कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने सड़कों पर उतरकर चेन्नई में प्रदर्शन शुरू किया। चंडीगढ़ में नोटबंदी के खिलाफ कांग्रेस के कार्यकर्ता सड़कों पर उतरकर प्रदर्शन कर किया और भाजपा सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी भी की। पंजाब कांग्रेस के कार्यकर्ता रिजर्व बैंक के सामने नोटबंदी को लेकर मोदी सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी कर रहे हैं।

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आठ नवंबर 2016 को नोटबंदी की घोषणा की जिसके तहत, उन दिनों चल रहे 500 रुपये और एक हजार रुपये के नोट चलन से बाहर हो गए थे।

Share it
Top