Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

तुलजा भवानी मंदिर से 39 किलों सोना और 608 किलों चांदी गायब

तुलजा भवानी मंदिर महाराष्ट्र के उस्मानाबाद के तुलजापुर में है।

तुलजा भवानी मंदिर से 39 किलों सोना और 608 किलों चांदी गायब
उस्मानाबाद. सीआइडी ने सुप्रसिद्ध तुलजा भवानी मंदिर से करीब 39 किलों सोना और चांदी गायब होने का खुलासा किया है। साथ ही जांच के बाद सीआइडी ने मंदिर कमेटी के ट्रस्टी सहित 42 अफसरों और कर्मचारियों पर धोखाधड़ी के आरोप में केस दर्ज करने की सिफारिश भी की है।
बता दें कि तुलजा भवानी मंदिर महाराष्ट्र के उस्मानाबाद के तुलजापुर में है। यहां हर साल करीब लाखों श्रद्धालु देवी के दर्शन करने के लिए आते हैं और ज्वैलरी समेत बहुत से पैसे दान करते हैं। मंदिर के अंदर तीन दान पेटियां रखी गई हैं। 1999 से यह तीनों पेटियां मंदिर के ट्रस्ट के कब्जे में थी लेकिन ट्रस्ट ने इन्हें कॉन्ट्रैक्टर्स को ठेके पर दे दिया।
तो वहीं ठेकेदार पर आरोप है कि वह मंदिर में आए कीमती दान को मंदिर कमेटी के पास जमा नहीं करता था। बाद में दान पेटियों की संख्या भी बढ़ाकर 7 कर दी गई थी। उस दौरान पुजारी मंडल के अध्यक्ष रहे किशोर गंगणे और अजय ने घोटाले की शिकायत करते हुए चैरिटी ट्रस्ट से जांच की मांग की थी। फिलहाल अब सीबीआइ जांच की मांग की जा रही है।
बीते दिनों भी मंदिर में घोटाले की खबर आई थी लेकिन बड़े-बड़े अधिकारियों के नाम जुड़े होने के कारण मामला रफ-दफा हो गया था। हालांकि दैनिक भास्कर के मराठी अंक 'दिव्य मराठी' में घोटाले की खबर भी छपी थी। फिलहाल इस मामले में कई बड़े अधिकारियों पर गबन का आरोप लगा है।
गौरतलब है कि जांच के बाद सीआइडी कलेक्टर प्रवीण गेडाम ने 1999 से 2010 तक मंदिर की दान पेटियों में आए सामान की रिपोर्ट सरकार को दे दी है और मंदिर के कॉन्ट्रैक्ट प्रोसीजर को रद्द कर दिया है। बता दें कि मंदिर में पांच ट्रस्टी हैं। इनमे संस्थान के अध्यक्ष, कलेक्टर, डिप्टी कलेक्टर,तहसीलदार, एमएलए और शहर-प्रमुख शामिल हैं। सीआईडी ने डिप्टी कलेक्टर,तहसीलदार, मंदिर कर्मचारी और ठेकेदार समेत 42 लोगों के खिलाफ कार्रवाई करने की सिफारिश की है।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलोकरें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Share it
Top