Top

सीआईसी ने RBI से नोटबंदी के दौरान जनधन खातों में जमा राशि का खुलासा करने को कहा

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Sep 13 2018 12:49AM IST
सीआईसी ने RBI से नोटबंदी के दौरान जनधन खातों में जमा राशि का खुलासा करने को कहा

केंद्रीय सूचना आयोग (सीआईसी) ने रिजर्व बैंक को नोटबंदी के दौरान चलन से हटाये गई मुद्रा में विभिन्न बैंकों के जनधन खातों में जमा की गई राशि का खुलासा करने का निर्देश दिया है।

प्रधानमंत्री जनधन योजना की शुरुआत अगस्त, 2014 में हुई थी। यह वित्तीय समावेश लक्ष्य की प्राप्ति के लिये शुरू किया गया राष्ट्रीय मिशन है। इसका मकसद दूर दराज ग्रामीण इलाकों में रहने वालों को बैंकिंग, जमा, रिण, बीमा, पेंशन जैसी वित्तीय सेवाओं को सुलभ कराना है।

इसे भी पढ़ें- कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा- RSS के एजेंडे को लागू करने वाली एजेंसी है भाजपा

सरकार ने आठ नवंबर, 2016 को 500 और 1,000 रुपये का नोट बंद करने की घोषणा कर दी थी। उसके बाद से जनधन खाते चर्चा के केंद्र में हैं। उस समय इन खातों में जमा में अचानक उछाल आया था।

इस साल अप्रैल तक इन खातों में 80,000 करोड़ रुपये की राशि जमा हुई है। सूचना आयुक्त सुधीर भार्गव ने रिजर्व बैंक को निर्देश दिया है कि वह कार्यकर्ता सुभाष अग्रवाल को यह जानकारी उपलब्ध कराएं कि नोटबंदी के दौरान जनधन खातों में बंद हुये नोटों में कितनी राशि जमा कराई गई।

अग्रवाल ने नोटबंदी से जुड़ी कुछ और जानकारियां भी मांगी हैं। भार्गव ने केंद्रीय बैंक को निर्देश दिया कि यदि उसके पास इस बारे में सूचना नहीं है तो आयोग के पास यह हलफनामा दें कि मांगी गई जानकारी का रिकॉर्ड उसके पास नहीं है।

इसे भी पढ़ें- ‘लाभ का पद' मामला: ‘आप' विधायकों की EC से मांग- दिल्ली सरकार के अधिकारियों से हो जिरह

आयोग ने यह भी कहा है कि इस बात की भी जानकारी उपलब्ध कराई जाए कि नोटबंदी के बाद कितने बंद नोट नई करेंसी से बदले गए। सीआईसी ने रिजर्व बैंक से कहा है कि जनधन खातों के अलावा यह भी ब्योरा दिया जाए कि नोटबंदी के बाद बैंकों के बचत और चालू खातों में बंद नोटों में कितनी राशि जमा कराई गई।

अग्रवाल ने रिजर्व बैंक से सूचना के अधिकार (आरटीआई) के तहत आवेदन कर नोटबंदी से संबंधित विभिन्न जानकारियां मांगी थीं। रिजर्व बैंक से कोई जवाब नहीं मिलने के बाद अग्रवाल ने आयोग में अपील की थी।

सीआईसी ने यह भी खुलासा करने का निर्देश दिया है कि नोटबंदी के बाद रिजर्व बैंक के दिशानिर्देशों का अनुपालन नहीं करने पर कितने निजी और सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की गई। साथ ही नोटबंदी के बाद नए जब्त किए गए नए 2,000 और 500 के नोट के बंडलों का ब्योरा भी देने का निर्देश दिया गया है।


ADS

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )
cic asked rbi to disclose demonetised amount deposited in jandhan accounts

-Tags:#CIC#RBI#Janhanan Accounts#Pradhan Mantri Janhan Yojana#Demonetisation

ADS

मुख्य खबरें

ADS

ADS

Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo