Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

अमेरिका का खुलासा, पाक को ''परमाणु शक्ति'' बनाने पर तुला है चीन

इस कदम से पाकिस्तान के परमाणु ढांचे को लेकर अमेरिका जैसे देशों की चिंता बढ़नी स्वाभाविक है।

अमेरिका का खुलासा, पाक को
नई दिल्ली. हाल ही में अमेरिकी की खुफिया एजेंसी CIA कुछ दस्तावेजों को सार्वजनिक किया है। इन दस्तावेजों में चीन और पाकिस्तान के न केवल दशक दर दशक गहराते सैन्य संबंधों के प्रमाण मिलते हैं, बल्कि यह भी पता चलता है कि किस तरह अपने करीबी दोस्त पाकिस्तान की परमाणु महत्वकांक्षाओं को बल देने के लिए पेइचिंग ने अमेरिका के साथ अपने परमाणु सहयोग को भी दांव पर लगाने से गुरेज नहीं किया।
दस्तावेजों के मुताबिक पाकिस्तान के साथ एक न्यूक्लियर एग्रीमेंट साइन करने के बाद चीन ने अन्तर्राष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी (IAEA) की निगरानी के लिए पाक से अपने परमाणु प्रतिष्ठानों की जानकारी साझा करने की मांग नहीं की थी। इस एग्रीमेंट में नॉन-मिलिटरी न्यूक्लियर टेक्नॉलजी, रेडियो-आइसोटॉप्स, मेडिकल रिसर्च और सिविलियन पावर टेक्नॉलजी जैसे विषयों पर फोकस किया गया था।
toi की खबर के मुताबिक, US का कहना है कि इस एग्रीमेंट के जरिए चीन पाकिस्तान के 'असंवेदनशील' इलाकों में एक न्यूक्लिर एक्सपोर्ट मार्केट डिवेलप करना चाहता था। इस कदम से पाकिस्तान के परमाणु ढांचे को लेकर अमेरिका जैसे देशों की चिंता बढ़नी स्वाभाविक है।
फरवरी 1983 में CIA ने अमेरिकी कांग्रेस की एक समिति को इस बात की जानकारी दी कि अमेरिका के पास चीन और पाकिस्तान के बीच परमाणु हथियारों के निर्माण को लेकर चल रही बातचीत के सबूत हैं।
CIA ने यह भी बताया कि वे इस बात से अनभिज्ञ नहीं हैं कि चीन ने लोप नॉर रेगिस्तान में टेस्ट किए गए परमाणु बम की डिजाइन पाकिस्तान को मुहैया कराई थी। यह चीन का चौथा परमाणु परीक्षण था, और अमेरिका का मानना है कि इस परीक्षण के दौरान एक 'वरिष्ठ पाकिस्तानी अधिकारी' भी मौजूद था। अमेरिका को यह संदेह भी था कि चीन ने पाकिस्तान को यूरेनियम भी मुहैया कराया है। इसका अर्थ था कि चीन ने पाकिस्तान को न केवल परमाणु बम की डिजाइन दी, बल्कि बम बनाने के लिए जरूरी चीज भी दी।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top