Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

चीन ने भारतीय कंपनियों में दिखाई दिलचस्पी, गुजरात से लेगा कैंसर रोधी दवाई

चीनी कंपनियां गुजरात से कैंसर रोधी दवाओं को मंगाने में अपनी दिलचस्पी दिखा रही हैं।

चीन ने भारतीय कंपनियों में दिखाई दिलचस्पी, गुजरात से लेगा कैंसर रोधी दवाई

नई दिल्ली. चीनी मार्केट पर भारतीय कंपनियों का निर्भर रहना जहां चिंता की बात वही एक अच्छी बात यह है कि चीनी कंपनियां गुजरात से कैंसर रोधी दवाओं को मंगाने में अपनी दिलचस्पी दिखा रही हैं। भारतीय फार्मा कंपनियां दुनिया भर में दवाओं को एक्सपोर्ट करती हैं, लेकिन चीन को दवाई देने के लिए अभी तक किसी भी प्रकार से कोई दरवाजा नहीं खुला है।

अरुण जेटली ने बजट में स्थिर कर प्रणाली शुरूआत करने का दिया संकेत

चीन सरकार भारतीय फार्मा कंपनियों के लिए रास्ता ढूढं रहे हैं। तीन माह बाद मई में देश के प्रधानमंत्री मोदी के चीन दौरे के दौरान कुछ नतीजे पर पहुंचेंगे। CITIC के अनुसार चीनी कंपनियों ने भी कहा कि वे चीन में ड्रग रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया में भारतीय फार्मा कंपनियों की मदद करने के लिए पूरी तरह से तैयार हैं। प्रतिनिधिमंडल के एक सदस्य लिली चो ने बताया कि पिछले एक साल से चीन के स्वास्थ्य विभाग ने फार्मा रजिस्ट्रेशन समेत अपनी कई प्रक्रियाओं को काफी अच्छा बनाया है।
उन्होंने यह भी बताया कि 'चीन खासकर गुजरात
से कैंसर रोधी दवाओं को खरीदने का इच्छुक है। हमारी कंपनियां भारतीय कंपनियों की चीन में ड्रग रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया में मदद करने के लिए तैयार हैं। चीनी अथॉरिटीज काफी लम्बे समय से चीन में बिक्री के लिए भारतीय दवाओं को रजिस्टर नहीं करती हैं। लेकिन पीएम मोदी के प्रस्तावित चीन के दौरे को लेकर चीनी कंपनियां भारत से दवा मंगवाने के प्रति दिलचस्पी दिखा रही हैं। आपको बता दें कि यह दौरा मई में होना है। इस समय में भारत दवाओं में इस्तेमाल होने वाला एपीआई या कच्चा माल 80-85 फीसदी आयात करता है।
नीचे की स्लाइड्स में पढ़िए, कुछ खास बातें -
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Share it
Top