Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

चीन ने पाक को बेचा शक्तिशाली मिसाइल सिस्टम, भारत की बढ़ सकती है मुश्किलें

भारत को घेरने के लिए चीन और पाकिस्तान के बीच की दोस्ती आर्थिक रिश्तों से गुजरते हुए अब सामरिक हितों तक पहुंच चुकी है। भारत को घेरने के लिए में एक अप्रत्याशित कदम उठाते हुए चीन ने पाकिस्तान को एक शक्तिशाली मिसाइल ट्रैकिंग सिस्टम बेचा दिया है।

चीन ने पाक को बेचा शक्तिशाली मिसाइल सिस्टम, भारत की बढ़ सकती है मुश्किलें
X

भारत को घेरने के लिए चीन और पाकिस्तान के बीच की दोस्ती आर्थिक रिश्तों से गुजरते हुए अब सामरिक हितों तक पहुंच चुकी है। भारत को घेरने के लिए में एक अप्रत्याशित कदम उठाते हुए चीन ने पाकिस्तान को एक शक्तिशाली मिसाइल ट्रैकिंग सिस्टम बेचा दिया है।

भारत द्वारा गुरुवार को ब्रह्मोस मिसाइल टेस्ट के बाद इस डील की खबर सामने आई थी। पेइचिंग और इस्लामाबाद के बीच हुई इस डील पर भारत की पैनी नजर बनी हुई है।

ये भी पढ़े: लाभ का पद मामला: AAP के 20 विधायकों की किस्मत का फैसला आज, हाईकोर्ट सुनाएगा फैसला

इस डील से पाकिस्तान अपने मल्टी वॉरहेड मिसाइल विकास कार्यक्रम को और मजबूत बना रहा है। साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट के अनुसार अभी इस डील की रकम के बारे में कोई जानकारी नहीं मिली है।

पाक ने मिसाइल सिस्टम इस्तेमाल करना किया शुरू

शक्तिशाली मिसाइल सिस्टम की रिपोर्ट में कहा गया है कि पाकिस्तानी सेना ने इस सिस्टम को एक फायरिंग रेंज के करीब इस्तेमाल करना शुरू कर दिया है। इसके जरिए पाकिस्तानी सेना नए मिसाइल को विकसित करने की प्रक्रिया में लग गई है। चीन की टीम तीन महीने तक ये सिस्टम लगाने के लिए वहीं पर है।

चीन की टीम ने सिस्टम असेंबल किया और वहां के टेक्निकल स्टाफ को इसके इस्तेमाल की ट्रेनिंग भी दी। इस सिस्टम का प्रदर्शन उम्मीदों से कहीं ज्यादा अच्छा था।

ये भी पढ़े: भारत और चीन के बीच हुई बैठक, सीमा पर शांति के लिए हुई रजामंदी

हालांकि नई तकनीक के लिए पाकिस्तान ने चीन को इसके लिए कितनी राशि दी है इसका पता नहीं चल पाया है। चाइनीज अकैडमी ऑफ साइंस (सीएएस) के एक रिसर्चर ने समाचार पत्र में यह खुलासा किया है कि सिचुआन प्रांत के सीएएस इंस्टीट्यूट के रिसर्चर जेंग मेंगवेई ने साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट से इस बात की पुष्टि की कि पाकिस्तान ने चीन से यह अत्याधुनिक मिसाइल ट्रैकिंग सिस्टम को खरीदा है।

सिस्टम एक साथ कई मिसाइलों का पता लगाने में सक्षम

चीन द्वारा पाकिस्तान को यह सिस्टम बेचने की खबर भारत के ब्रह्मोस मिसाइल परीक्षण करने के बाद ही सामने आ गई थी। इस ब्रह्मोस मिसाइल को दुनिया का सबसे तेज सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल बताया जा रहा है।

वहीं भारत का यह मिसाइल टेस्ट दो महीने पहले किए गए अग्नि-V के परीक्षण के बाद किया गया है। सीएएस वेबसाइट पर जारी बयान में कहा है कि चीन ऐसा पहला देश है जो इस तरह की संवेदनशील तकनीक को पाकिस्तान को बेच रहा है।

रिपोर्ट के मुताबिक, ज्यादा टेलिस्कोप का इस्तेमाल कर कई ऐंगल से यह सिस्टम एकसाथ कई मिसाइल को ट्रैक कर सकता है। इससे टारगेट मिस करने का खतरा कम हो जाता है।

ये भी पढ़े: ट्रंप ने चीन से आयात पर 50 अरब डॉलर का टैरिफ लगाया, बढ़ा तनाव

बता दें कि यह सिस्टम पाकिस्तान को विजुअल इन्फर्मेशन और मिसाइल की क्षमता के बारे में सही जानकारी देगा। इसका इस्तेमाल मिसाइल के डिजाइन को ज्यादा बेहतर और इंजिन की क्षमता को बढ़ाने के लिए किया जाएगा।

ज्यादा टेलिस्कोप का इस्तेमाल किए जाने की स्थिति में सिस्टम वारहेड्स के मूवमेंट को अलग-अलग एंगल से ट्रैक कर सकता है और इससे लक्ष्य से भटकने के खतरे को कम किया जा सकता है। ये एक तरह का नजर रखने वाला सिस्टम है और मिसाइल परीक्षण के लिए ये बेहद अहम होता है।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story