Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

ब्रह्मपुत्र नदी पर सुरंग बनाने वाले बयान से पलटा चीन, ये बनाया था प्लान

खबर थी कि चीन ब्रह्मपुत्र नदी की धारा मोड़ने के लिए अपने यहां 1 हजार किलोमीटर लंबी सुरंग बनाने जा रहा है।

ब्रह्मपुत्र नदी पर सुरंग बनाने वाले बयान से पलटा चीन, ये बनाया था प्लान
X

भारत और चीन के बीच एक बार फिर तकरार शुरू होने से पहले ही खत्म हो चुकी है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, चीन ने ब्रह्मपुत्र नदी पर सुरंग बनाने वाले बयान पर अपनी सफाई दी है। चीनी मीडिया के मुताबिक, चीन ने इस खबर को सिरे से खारिज कर दिया है।

खबर थी कि चीन ब्रह्मपुत्र नदी की धारा मोड़ने के लिए अपने यहां 1 हजार किलोमीटर लंबी सुरंग बनाने जा रहा है। इस सुरंग को बनाने का मकसद ब्रह्मपुत्र नदी के पानी को अपने क्षेत्रों में पहुंचाना था।

बता दें कि ब्रह्मपुत्र नदी चीन से होते हुए भारत और बांग्लादेश की सीमा में दाखिल होती और फिर बंगाल की खाड़ी गिरती। अगर ये सुरंग बनती तो ये दुनिया की सबसे लंबी सुरंग होती।

टीओआई की रिपोर्ट के मुताबिक, चीन ब्रह्मपुत्र नदी के पानी की धारा को तिब्बत से अपने शिनजियांग प्रांत की तरफ मोड़ना चाहता था। चीन के शिनजियांग प्रांत में पानी की कमी रहती है।

चीन में ब्रह्मपुत्र नदी को यारलंग सांगपो कहते हैं। तिब्बत से निकलने वाली ये नदी भारत के पूर्वोत्तर से होते हुए बांग्लादेश में बंगाल की खाड़ी में गिरती है। अगर चीन ये सुरंग बनाता है तो ब्रह्मपुत्र के बहाव में बदलाव आता, इस पर निर्भर बहुत से इलाकों में जल संकट भी आ सकता था।

चीन की एक न्यूज के मुताबिक, ब्रह्मपुत्र के रास्त में सुरंग बनाने का योजना हाई लेवल ऑफिसरों को सौंप दी गई थी। जिन्हें मार्च 2018 तक अपनी राय देनी थी। इस सुरंग के बनने से तिब्बत और पूर्वोत्तर भारत के इलाकों को भी समस्या खड़ी हो जाती।

इसके साथ ही एक चीनी विशेषज्ञ ने कहा था कि इस सुरंग को बनाने में 15 करोड़ डॉलर प्रति किलोमीटर का खर्च आएगा। यानी पूरी सुरंग बनाने में करीब 150 अरब डॉलर खर्च होंगे। ऐसे में चीन को काफी मेहनत करनी होगी।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story