Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

चीन ने मामलों को निपटने के लिए निकाला अनोखा तरीका, खुला पहला इंटरनेट कोर्ट

चीन की राजधानी बीजिंग ने अदालतों में एक अनोखा कारनामा कर दिया है। वहां पहली इंटनेट अदालत लगी। अब उलझते रिश्ते से लेकर हर तरह की परेशानी को आनलाइन ही खत्म किया जायेगा।

चीन ने मामलों को निपटने के लिए निकाला अनोखा तरीका, खुला पहला इंटरनेट कोर्ट

चीन की राजधानी बीजिंग ने अदालतों में एक अनोखा कारनामा कर दिया है। वहां पहली इंटनेट अदालत लगी। सुनवाई हुई और मामलों को कंप्यूटर द्वारा निपटाया गया।

सरकारी संवाद समिति शिन्हुआ की रिपोर्ट के मुताबिक, बीजिंग में इंटरनेट अदालत बीजिंग नगरपालिका की जनमहाधिवेशन की 15वीं स्थाई समिति के सत्र में मुख्य न्यायाधीशों की नियुक्ति की गई है।

इसे भी पढ़ें: जानें हरिद्वार में अस्थि विसर्जन का क्या है पौराणिक महत्व, ऐसे मिलता है मोक्ष

पचास वर्ष के झांग वेन को चीफ जस्टिस बनाया गया है। अन्य करीब 40 लोगों को न्यायधीश बनाया गया है। इंटरनेट की अदालत की एक योजना बीजिंग के गुआंगझोउ में है।

रिपोर्ट के मुताबिक, इंटरनेट अदालत में न्यायाधीश की औसत उम्र 40 साल रखी गई है और साथ ही उन्हें इस काम में 10 साल से ज्यादा का अनुभव हो। भारत दुनिया में इंटरनेट के इस्तेमाल में काफी आगे है। लेकिन यहां इस तरह का कोई कोर्ट नहीं है।

इसे भी पढ़ें: मौसम विभाग ने केरल में बाढ़ को लेकर रेड अलर्ट हटाया, ऑरेंज अलर्ट जारी, जानें इसके बारे में

इंटरनेट लोगों के लिए ज्ञान और जानकारी का अनंत द्वार खोलती है। इसलिए यह रिपोर्ट आने वाले समय में भारत के लिए भी अच्छा मौका हो सकता है। ब्रॉडबैंड के आने से इंटरनेट की क्वालिटी और पहुंच ज्यादा लोगों तक हुई है।

एक रिपोर्ट के अनुसार, मोबाइल ब्रॉडबैंड ग्राहक संख्या में पिछले पांच वर्षों में 20 % की सलाना वृद्धि हुई है और 2017 के अंत तक दुनिया में इसके 4.3 अरब तक पहुंच जाने की संभावना है।

Share it
Top