Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

1000 बच्चों पर 918 बच्चियां , शिशु लिंग अनुपात की दर में नहीं हो रहा सुधारः रिपोर्ट

रिपोर्ट में कहा कि संबधित मंत्रालय द्वारा कदम उठाए जाने के बावजूद शिशु लिंग दर अनुपात घटता जा रहा है।

1000 बच्चों पर 918 बच्चियां , शिशु लिंग अनुपात की दर में नहीं हो रहा सुधारः रिपोर्ट

नई दिल्ली. संसद की एक समिति ने महिला एवं बाल विकास मंत्रालय से कहा है कि वह देश में शिशु लिंग अनुपात की घटती दर को ठीक करने के प्रयास तेज करे। स्वास्थ्य मंत्री जे पी नड्डा की अध्यक्षता वाली संसदीय समिति ने मंगलवार को पेश अपनी रिपोर्ट में कहा, शिशु लिंग दर का अनुपात अत्यंत चिंताजनक स्थिति तक पंहुच गया है और इस संकट पर काबू पाने के लिए आपात कदम उठाए जाने की जरूरत है।

ट्राई की वेबसाइट हुई हैक, नेट न्यूट्रैलिटी पर राय देने वाले 10 लाख आईडी पर गहराया खतरा

रिपोर्ट में कहा कि संबधित मंत्रालय द्वारा कदम उठाए जाने के बावजूद शिशु लिंग दर अनुपात घटता जा रहा है। पिछली चार या पांच जनगणना में यह अनुपात घटता ही जा रहा है। 2011 की जनगणना में 6 वर्ष तक के आयु वर्ग में प्रति 1000 बच्चों पर 927 बच्चियों की संख्या कम होकर यह प्रति 1000 पर 918 ही रह गई। समिति ने महिला एवं बाल कल्याण योजनाओं के लिए बजटीय आवंटन में कमी किए जाने पर चिंता जताई।

देश में नाबालिग दुष्कर्मियों की संख्या में हुआ इजाफा, राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो ने जारी किए आकंड़े

एक संसदीय समिति ने वर्ष 2011 के सामाजिक-धार्मिक जनसंख्या आंकड़ों के प्रकाशन में हो रही देरी पर 'निराशा' जतायी और कहा कि यह समझ से परे है कि सरकार इन महत्वपूर्ण आंकड़ों की अनुपस्थिति में विभिन्न योजनाओं के लिए लक्ष्य कैसे तय करेगी। इस मामले को भारत सरकार सांख्यिकी और कार्यक्रम कार्यान्वयन मंत्रालय के साथ मिलकर आगे बढ़ाने पर जोर देते हुए सामाजिक न्याय एवं सशक्तीकरण पर संसद की स्थायी समिति ने अल्पसंख्यक मामलों के मंत्रालय से आंकड़े जल्दी पूरा करने को कहा। समिति ने कहा कि समिति की इच्छा है कि इस आंकड़े को वेबसाइट पर भी दर्शाया जाए।

मिड डे मील खैरात नहीं बच्चों का अधिकारः स्मृति ईरानी

नीचे की स्लाइड्स में पढ़िए, पूरी जानकारी -

खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top