Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

पी. चिदंबरम ने साधा पीएम मोदी पर निशाना, कहा- पकौड़े बेचना जॉब है तो भीख मांगना भी नौकरी है!

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की रोजगार सृजन नीतियों पर कटाक्ष किया है। चिदंबरम ने ट्वीट कर मोदी सरकार पर लगाया है।

पी. चिदंबरम ने साधा पीएम मोदी पर निशाना, कहा- पकौड़े बेचना जॉब है तो भीख मांगना भी नौकरी है!

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की रोजगार सृजन नीतियों पर कटाक्ष किया है। चिदंबरम ने ट्वीट कर मोदी सरकार पर लगाया है कि इन्होंने रोजगार पैदा करने के अपने वादे को पूरा नहीं किया है।

पी चिदंबरम ने मोदी के उस बयान की भी आलोचना की जिसमें पकौड़े बेचने का रोजगार बताया गया था। चिदंबरम ने ट्वीट के जरिये मोदी पर निशाना साधते हुए कहा कि अगर पकौड़े बेचना नौकरी है तो पीएम मोदी के इस तर्क के अनुसार भीख मांगना भी नौकरी ही है और जीवनयापन के लिये गरीब और बेसहारा लोगों को भी नौकरीपेशा माना जाना चाहिये।
आपको बता दें कि कुछ दिन पहले एक टीवी इंटरव्यू के दौरान पीएम मोदी ने कहा था कि अगर कोई किसी दफ्तर के सामने पकौड़े भी बेचता है तो क्या उसे रोजगार नहीं माना जाए? पीएम मोदी के इस बयान का विपक्षी दलों समेत सोशल मीडिया पर भी बहुत मजाक उड़ाया गया था।
इसके अलावा चिदंबरम ने अपने ट्वीट में यह भी कहा कि रोजगार के अवसर पैदा करना, मुद्रा योजना और अन्य योजनाओं में सरकार की नीतियां विफल रही हैं। उन्होंने ट्वीट के जरिये बताया कि मुद्रा योजना में 43 हजार का लोन लेकर एक व्यक्ति को रोजगार सृजक बनाने का दावा किया गया था लेकिन ऐसा कोई व्यक्ति नहीं दिखता जिसने इतने निवेश में एक भी रोजगार पैदा किया हो।
चिदंबरम ने मनरेगा में रोजगार देने के वादे पर यह भी कहा कि एक केंद्रीय मंत्री चाहते हैं कि मनरेगा मजदूरों को नौकरीपेशा माना जाए, इसके अनुसार तो वो मजदूर 100 दिन तक नौकरीपेशा है जबकि शेष 265 दिन बेरोजगार हुआ।
इसके अलावा पी. चिदंबरम ने यह भी कहा कि मौजूदा दौर में देश में नौकरियां नहीं हैं, सरकार भी रोजगार के नए अवसर पैदा करने में असफल साबित हुई है।
Share it
Top