logo
Breaking

पत्रकार विनोद वर्मा की गिरफ्तारी पर छत्तीसगढ़ पुलिस नहीं दे पाई कई सवालों के जवाब

वरिष्ठ पत्रकार विनोद वर्मा की गिरफ्तारी को लेकर छत्तीसगढ़ पुलिस ने प्रेस कांफ्रेंस कर पूरे मामले पर अपनी रूख साफ किया है।

पत्रकार विनोद वर्मा की गिरफ्तारी पर छत्तीसगढ़ पुलिस नहीं दे पाई कई सवालों के जवाब

वरिष्ठ पत्रकार विनोद वर्मा की गिरफ्तारी को लेकर छत्तीसगढ़ पुलिस ने प्रेस कांफ्रेंस कर पूरे मामले पर अपनी राय रखी है। छत्तीसगढ़ पुलिस के आईजी का कहना है कि प्रकाश बजाज की शिकायत पर ही पत्रकार विनोद वर्मा को गिरफ्तार किया गया है।

प्रकाश बजाज ने ही गुरुवार को पुलिस में शिकायत की थी। हालांकि इस शिकायत में विनोद वर्मा के नाम का जिक्र नहीं है। शिकायत में सिर्फ अश्लील सीडी बनाने वाले दुकानदार का नाम-पता दिया गया था।

यह भी पढ़ें: विनोद वर्मा बोले - मेरे पास छत्तीसगढ़ के एक मंत्री की सीडी है, इसलिए मुझे फंसाया

जब दुकानदार की दुकान में छापा मारा गया तो विनोद वर्मा के फोन नंबर का खुलासा हुआ। उन्होंने ही 1000 सीडी बनाने का ऑर्डर दिया था। इसके लिए उन्होंने फोन पर ऑर्डर किया था।

यह भी पढ़ें: सीडी कांड पर छत्तीसगढ़ के मंत्री राजेश मूणत ने दी सफाई, कहा- फर्जी है सीडी

आईजी के मुताबिक विनोद वर्मा ने ही 1000 सीडी बनाने के लिए दुकानदारों को कहा था। दुकानदार से उनकी फोन पर बातचीत भी हुई थी। इसी फोन नंबर के आधार पर विनोद वर्मा के घर को ट्रेक किया गया।

वर्मा के घर से पुलिस को 500 सीडी भी बरामद हुई हैं। पुलिस के मुताबिक विनोद वर्मा के खिलाफ आईटी एक्ट की धाराओं को तहत मामला दर्ज किया है। इसके तहत कोई भी अश्लील सामग्री को कॉपी कर वितरित नहीं कर सकता है।

ये है विनोद वर्मा की सफाई

इस बीच गिरफ्तार विनोद वर्मा ने भी कोर्ट पेशी से पहले मीडिया में संक्षिप्त प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने कहा है कि छ्त्तीसगढ़ के एक मंत्री की सीडी रखने की वजह से उन्हें फंसाया जा रहा है। इससे पहले की वह और कुछ कह पाते पुलिस उन्हें कोर्ट ले गई।

यह भी पढ़ें: ब्लू व्हेल गेम को सुप्रीम कोर्ट ने माना राष्ट्रीय समस्या, कहा- चले जागरुकता अभियान

Loading...
Share it
Top