Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

1 जनवरी 2018 से हो रहे हैं ये बड़े बदलाव, जानें आम लोगों पर कैसे पड़ेगा इसका असर

नए साल से कई चीजें बदल गई हैं। इन बदलावों के बाद हमारी कुछ में तो बचत होगी लेकिन कुछ चीजे हमारी जेब पर भारी भी पड़ेंगी।

1 जनवरी 2018 से हो रहे हैं ये बड़े बदलाव, जानें आम लोगों पर कैसे पड़ेगा इसका असर

नए साल से कई चीजें बदल गई हैं। इन बदलावों के बाद हमारी कुछ में तो बचत होगी लेकिन कुछ चीजे हमारी जेब पर भारी भी पड़ेंगी। 1 जनवरी से जहां एक तरफ डेबिट कार्ड और भीम ऐप से पेमेंट पर फीस में छूट मिलेगी तो वहीं दूसरी ओर कार और बाइक खरीदना महंगा पड़ेगा। तो आइए जानते हैं 1 जनवरी से होने वाले बड़े बदलावों के बारे में...

डेबिट कार्ड से पेमेंट करना सस्ता

1 जनवरी से डेबिट कार्ड, UPI, भीम ऐप या आधार एनेबल्ड पेमेंट सिस्टम के द्वारा 2 हजार तक की पेमेंट करने पर कोई फीस नहीं लगेगी। क्योंकि अब इस फीस पर मर्चेंट डिस्काउंट रेट का भुगतान अब सरकार बैंकों को करेगी।

दुकानदार मर्चेंट डिस्काउंट रेट के रूप में लगने वाली फीस बैंकों को देते हैं, जोकि ज्यादातर दुकानदार यह फीस ग्राहकों से ही वसूलते हैं।

यह भी पढ़ें- नए साल में देह व्यापार का पर्दाफाश, जश्न के लिए बुलाई गई थी कॉल गर्ल

कार और बाइक होंगी मंहगी

न्यू ईयर से कार और बाइक कंपनियां भी वाहनों के दाम बढ़ाने जा रही हैं। इसमें कार कंपनी मारुति ने अपने अलग-अलग मॉडल के दाम 22 हजार रुपए, फॉक्सवैगन ने 20 हजार रुपए, टाटा मोटर्स और होंडा ने 25 हजार रुपए व टोयोटा, स्कोडा और वहीं महिंद्रा ने 3% तक दाम बढ़ाने की घोषणा की है। बता दें कि 1 जनवरी से टू- व्हीलर भी कुछ महंगे होंगे।

छोटी बचत योजनाओं पर मिलेगा कम ब्याज

नए साल से छोटी बचत योजनाओं पर इंटरेस्ट रेट 0.2% कम हो जाएगा। इसमें जनवरी-मार्च तिमाही में NSC और PPF पर 7.6% ब्याज, किसान विकास पत्र पर ब्याज दर 7.3% और सुकन्या समृद्धि पर 8.1% ब्याज दर होगी। लेकिन सीनियर सिटिजंस बचत स्कीम पर 8.3% का इंटरेस्ट रेट बरकरार रखा गया है।

GST: दूसरे राज्य में सप्लाई के लिए ई-वे बिल जरूरी

एक फरवरी से ई-वे बिल भी लागू कर दिया जाएगा। ई-वे बिल एक राज्य से दूसरे राज्य में सामान सप्लाई करने के लिए जरूरी है। लेकिन राज्य के अंदर सप्लाई के लिए यह 1 जून से अनिवार्य हो जाएगा।

जानकारी के मुताबिक, इस बिल का फॉर्मेट 15 जनवरी से मिलने लगेगा। इसके बाद दो हफ्ते तक कारोबारी ट्रायल के तौर पर उपयोग कर सकते हैं।

SBI में विलय बैंकों के चेक होंगे अमान्य

1 जनवरी 2018 से एसबीआई में विलय होने वाले बैंकों के चेकबुक बेकार हो जाएंगे। ये बैंक- स्टेट बैंक ऑफ पटियाला, स्टेट बैंक ऑफ बीकानेर एंड जयपुर, स्टेट बैंक ऑफ मैसूर, स्टेट बैंक ऑफ हैदराबाद, स्टेट बैंक ऑफ त्रावणकोर और भारतीय महिला बैंक हैं। गौरतलब है कि ये बैंक अप्रैल में ही SBI में विलय हो गए थे।

किसानों के लिए खुशखबरी

साल 2018 से अब पूरे देश में किसानों को उर्वरक सब्सिडी सीधे उनके बैंक अकाउंट में मिलेगी। ऐसा इसलिए किया जा रहा है, जिससे सब्सिडी का दुरुपयोग रोका जा सके। बता दें कि सिर्फ 14 राज्यों को छोड़ बाकी पूरे देश में यह व्यवस्था लागू कर दी गई है। बस झारखंड, गुजरात, बिहार इसे लागू करने में पीछे हैं।
Share it
Top