Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

ऑस्ट्रेलिया में ''बिजनेस वुमन ऑफ द ईयर'' बनी ये भारतीय चायवाली

पेशे से वकील 26 साल की उपमा विरदी ने अपनी नौकरी के साथ ही चाय का बिजनेस शुरू किया था।

ऑस्ट्रेलिया में
नई दिल्‍ली. पाकिस्‍तान के चाय वाले और फिर नेपाल की सब्‍जी वाली के बाद अब भारत की चायवाली ने ऑस्‍ट्रेलिया में धमाका किया है। पेशे से वकील 26 साल की उपमा विरदी ने अपनी नौकरी के साथ ही चाय का बिजनेस शुरू किया। जिसकी वजह से आज उन्हें पूरा ऑस्ट्रेलिया जानता है। उपमा की इस लोकप्रियता की वजह से उन्‍हें बिजनेसवूमेन ऑफ द ईयर के अवॉर्ड दिया गया है। उपमा को चाय बनाने का इतना शौक था कि उन्होंने आस्ट्रेलिया में एक चाय की दुकान खोल ली।
उनकी हाथों की चाय लोगों को इतनी पसंद आई कि देखते ही देखते चाय वाली के नाम से एक ब्रांड ही तैयार हो गया। चाय वाली के नाम से उनकी चाय आस्ट्रेलिया के बाजार में खूब धड़ल्ले से बिक रही है। उपमा बताती हैं कि इस व्यवसाय के पीछे उनका विचार चाय की भारतीय संस्कृति को लोगों के साथ साझा करने का है। उन्होंने बताया कि किस तरह भारतीय संस्कृति में चाय के माध्यम से लोग एक साथ मिलकर बैठते हैं। फिर चाहे खुशी का मौका हो या फिर दुख की घड़ी, चाय हर जगह मिलेगी।
उन्होंने कहा कि मैंने आस्ट्रेलिया में ऐसी जगह खोजने की बहुत कोशिश की लेकिन दुर्भाग्य है कि मुझे ऐसी कोई जगह नहीं मिल सकी। और तभी उनके दिमाग में ये चाय वाली का कांसेप्ट आया। उन्होंने बताया कि शुरुआत में उनके घर वाले उनके विचार से सहमत नहीं हुए थे। परिवार वले नहीं चाहते थे कि उपमा वकालत की प्रैक्टिस छोड़े। लेकिन उपमा ने हार नहीं मानी और अपने चाय के व्‍यापार से परदेश में धूम मचा दिया। उपमा चाय का ऑनलाइन स्‍टोर भी चलाती हैं। उपमा लोगों को बेहतर चाय बनाने का गुर भी सिखाती हैं।
हालांकि उपमा ने अपने वकालत के पेशे को भी बरकरार रखा है। चाय के प्रति उपमा की इस दीवानगी का ही फल है कि इंडियन आस्ट्रेलियन बिजनेस एंड कम्युनिटी अवार्ड से नवाजा गया। सिडनी में एक कार्यक्रम के दौरान विरदी को बिजनेस वूमन 2016 का खिताब दिया गया। विरदी उन सभी चाय वालों के लिए मिसाल हैं जो सोचते हैं कि चाय बेचने का बिजनेस बहुत ही निम्न स्तर का है।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top