logo

केंद्र सरकार ने किया नए हाईवे बनाने का मास्टर प्लान, देश-विदेश से जुड़ खुलेंगे रोजगार के अवसर

मोदी कैबिनेट ने मंगलवार को मेगा हाईवे प्‍लान को हरी झंडी दे दी है।

केंद्र सरकार ने किया नए हाईवे बनाने का मास्टर प्लान, देश-विदेश से जुड़ खुलेंगे रोजगार के अवसर

देश के विकास में सड़कों का सीधा संबंध होता है। देश के परिवहन और माल ढुलाई में इनका संबंध शरीर में शिराओं और धमनियों जैसा है। इसी क्रम में मोदी कैबिनेट ने मंगलवार को मेगा हाईवे प्‍लान को हरी झंडी दे दी है।

इस प्‍लान के तहत अगले पांच सालों में सरकार देशभर में 83,000 किलोमीटर हाईवे का निर्माण करने जा रही है। केंद्रीय मंत्रिमंडल ने इस परियोजना को अगले पांच साल में पूरा करने का लक्ष्य रखा है। इसके निर्माण से कई हाईवेज की यात्राओं पर लगने वाला टाइम करीब 45 मिनट तक घट जाएगा।

भारतमाला परियोजना विकास के लिए लगभग सात लाख करोड़ का बजट तय किया है। देश की सबसे बड़ी राजमार्ग विकास योजना के हिस्‍से के रूप में सरकार ने 2022 तक 3.5 लाख करोड़ रुपए के निवेश से भारतमाला प्रोजेक्‍ट के पहले चरण के विकास और लगभग 40,000 किलोमीटर सड़कों के विकास का लक्ष्‍य तय किया है।

क्या है भारतमाला परियोजना?

भारतमाला नेशनल हाईवे डेवलपमेंट प्रोजेक्ट हैं। इसके तहत नए हाईवे के अलावा उन प्रोजेक्ट्स को भी पूरा किया जाएगा तो अब तक अधूरे हैं। इसमें सीमावर्ती इलाके और अंतरराष्ट्रीय संपर्क वाले मार्गो को भी शामिल किया गया है। पोर्ट्स और रोड, नेशनल कॉरिडोर्स को ज्यादा बेहतर बनाना और नेशनल कॉरिडोर्स को डेपलप करना भी इस प्रोजेक्ट में शामिल है।

इसके अलावा पिछड़े इलाके, धार्मिक और पर्यटन स्थलों को जोड़ने वाले राष्ट्रीय राजमार्ग भी बनाए जाएंगे। तीर्थस्थल जैसे की चार धाम केदारनाथ, बद्रीनाथ, यमुनोत्री और गंगोत्री की कनेक्टिविटी भी बेहतर की जाएगी। भारतमाला परियोजना का मकसद माल ढुलाई में तेजी लाना है।

कितने किमी सड़कें बनेंगी?

कैटेगरी - किलोमीटर

इकोनॉमिक कॉरिडोर-9000

इंटर कॉरिडोर/फीडर रुट- 6000

नेशनल कॉरिडोर एफिशिएंसी इम्प्रूवमेंट-5000

बॉर्डर रोड/इंटरनेशनल कनेक्टिविटी-2000

कोस्टल रोड/पोर्ट कनेक्टिविटी-2000

ग्रीन फील्ड एक्स्प्रेसवे-800

बैलेंस एनएसडीपी वर्क्स-10,000

Loading...

Latest

View All

वायरल

View All

गैलरी

View All
Share it
Top