Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

पेपर लीक विवाद: पहली बार CBSE चीफ ने तोड़ी चुप्पी, कहा- छात्रों के भविष्य के लिए ही लिया दोबारा परीक्षा का फैसला

CBSE के दसवीं और बारहवीं के पेपर लीक मामले में पहली बार सीबीएसई की चीफ अनीता करवाल ने चुप्पी तोड़ी है। मीडिया से बात करते हुए सीबीएसई के अधिकारियों ने कई चौंकाने वाले खुलासे किए हैं।

पेपर लीक विवाद: पहली बार CBSE चीफ ने तोड़ी चुप्पी, कहा- छात्रों के भविष्य के लिए ही लिया दोबारा परीक्षा का फैसला
X

CBSE के दसवीं और बारहवीं के पेपर लीक मामले में पहली बार सीबीएसई की चीफ अनीता करवाल ने चुप्पी तोड़ी है। मीडिया से बात करते हुए सीबीएसई के अधिकारियों ने कई चौंकाने वाले खुलासे किए हैं। आपको जानकर हैरानी होगी की पेपर से 24 घंटे पहले ही प्रश्न पत्र छात्रों तक पहुंच गए थे।

जब पत्रकारों ने उनसे 16 लाख छात्रों के भविष्य का क्या होगा? इस पर अनीता करवाल ने कहा कि हम बच्चों के भविष्य के लिए ही काम कर रहे हैं। जल्दी ही हम दोबारा होने वाले परीक्षा की तिथि का ऐलान करेंगे। हमने छात्रों के भविष्य को देखते हुए ही दोबारा परीक्षा कराने का फैसला किया है।

वहीं पेपर लीक मामले में जांच कर रही क्राइम ब्रांच ने गुरुवार को कई लोगों से इस मामले में पूछताछ की है। दिल्ली पुलिस के स्पेशल सीपी आरपी उपाध्याय ने भी प्रेस कांफ्रेंस करके कहा कि इस मामले में कई चौंकाने वाले खुलासे हुए हैं।

यह भी पढ़ें- राहुल गांधी को UPA सरकार के घोटाले नहीं दिखते: सत्यपाल

आरपी उपाध्याय ने बाताया कि केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड के क्षेत्रीय निदेशक की शिकायत पर 2 केस दर्ज किए गए हैं जिसमें पहला केस 27 मार्च को वहीं दूसरा केस 28 मार्च को दर्ज किया गया है।

क्राइम ब्रांच के आलोक कुमार पेपर लीक से जुड़े मामले की जांच को लीड कर रहे हैं जिसमें अबतक 25 लोगों से पूछताछ की जा चुकी है। वहीं 18 छात्रों से भी इस मामले में पूछताछ की गई है जिसमें 5 छात्र फर्स्ट ईयर में पढ़ रहे हैं वहीं 5 ट्यूटर्स से भी पूछताछ की गई है।

आरपी उपाध्याय ने बताया की इन लोगों से पूछताछ के जरिए ही पेपर लीक करने वाले मुख्य शख्य तक पहुंचा जा सकता है। अभी तक इस मामले में किसी की गिरफ्तारी नहीं की गई है।

एक और नया खुलासा सामने आया है जिसमें पता चला है कि 24 घंटे पहले ही करीब 34 छात्रों के पास ये लीक पेपर पहुंच चुका था। जिसमें 10वीं के गणित के पेपर 24 लोगों के पास और 12वीं के इकनॉमिक्स के पेपर 10 लोगों के पास पहुंच चुके थे।

यह भी पढ़ें- फिर कूड़ा-कूड़ा होने की राह पर दिल्ली, तीनों MCD के सफाई कर्मचारी कर रहे धरना प्रदर्शन

वहीं इस मामले में राजनीति भी तेज हो गई है, मुख्य विपक्षी पार्टी कांग्रेस ने केंद्र सरकार पर निशाना साधा है। कांग्रेस के प्रवक्ता सुरजेवाला ने कहा कि देश के बेरोजगार युवा सड़कों पर हैं और मोदी सरकार देश के तमाम संस्थाओं को बर्बाद करने में लगी हुई है। केंद्र सरकार ने तो संस्थाओं को बर्बाद करने में पीएचडी हासिल कर ली है।

सुरजेवाला ने कहा कि एग्जाम माफिया छात्रों के भविष्य को बर्बाद कर रहे हैं और एचआरडी मंत्री इसे स्वीकारने के बजाय पश्चिम बंगाल के अपने विपक्षियों पर हमले करने में व्यस्त हैं।

16.38 लाख छात्र 10वीं की परीक्षा दे रहे हैं, जबकि तकरीबन 8 लाख छात्र 12वीं की परीक्षा दे रहे हैं। क्या वे अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए रि-एग्जाम वॉरियर हो गए हैं?

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story