Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

CBSE Paper Leak: दिल्ली पुलिस के हत्थे चढ़े 2 टीचर और 1 कोचिंग सेंटर मालिक, ऐसे करते थे पेपर लीक

सीबीएसई पेपर लीक मामले में दिल्ली पुलिस को बड़ी कामयाबी मिली है। दिल्ली पुलिस ने 2 अध्यापक और एक कोचिंग सेंटर के मालिक को गिरफ्तार किया है।

CBSE Paper Leak: दिल्ली पुलिस के हत्थे चढ़े 2 टीचर और 1 कोचिंग सेंटर मालिक, ऐसे करते थे पेपर लीक
X

सीबीएसई पेपर लीक मामले में दिल्ली पुलिस को बड़ी कामयाबी मिली है। दिल्ली पुलिस ने 2 अध्यापक और एक कोचिंग सेंटर के मालिक को गिरफ्तार किया है। दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा ने सीबीएसई की12 वीं कक्षा के अर्थशास्त्र के पेपर लीक मामले में दिल्ली के बवाना इलाके के एक निजी स्कूल के दो शिक्षकों समेत तीन लोगों को गिरफ्तार किया है।

पुलिस ने बताया कि आरोपियों की पहचान निजी स्कूल के शिक्षकों ऋषभ और रोहित के तौर पर की गई है जबकि तौकीर नाम का तीसरा आरोपी बवाना में एक कोचिंग सेंटर में ट्यूटर है।
पुलिस ने कहा कि तौकीर ने कथित तौर पर परीक्षा शुरू होने से आधे घंटे पहले अर्थशास्त्र का पर्चा लीक किया और वाट्सएप के जरिये शिक्षकों को भेजा। दिल्ली पुलिस ने पर्चा लीक होने के सिलसिले में दो मामले दर्ज किये हैं।

एग्जाम से एक घंटे पहले करते थे पेपर लीक

पुलिस ने आगे कहा कि अध्यापक परीक्षा से पहले सवा नौ बजे पेपर की फोटो खींच कर, कोचिंग सेंटर के मालिक को भेजते थे और कोचिंग सेंटर का मालिक इसे छात्रों को बेचता था।
सीबीएसई के क्षेत्रीय निदेशक की शिकायत के बाद अर्थशास्त्र का पर्चा लीक होने के सिलसिले में पहला मामला27 मार्च को दर्ज किया गया था और गणित का पर्चा लीक होने के संबंध में दूसरा 28 मार्च को दर्ज किया गया था। कक्षा10 का गणित और कक्षा12 का अर्थशास्त्र का पर्चा क्रमश: 28 और26 मार्च को हुआ था।

हाथ से लिखा हुआ पेपर

पुलिस ने बताया कि प्रश्न पत्र फोटो और हाथ से लिखे फोर्म में लीक किए जाते थे और छात्रों को बड़ी कीमत पर बेचे जाते थे। सीबीएसई लीक मामले में क्राइम ब्रांच ने 60 से ज्यादा लोगों से पूछताछ की इनमें वाट्सएप के10 से ज्यादा समूहों के एडमिनिस्ट्रेटर शामिल हैं, जिनमें लीक हुए प्रश्नपत्र शेयर किये गये थे।
जांच से जुड़ी जानकारी रखने वाले एक अधिकारी ने बताया कि जिन लोगों से पूछताछ हुई उनमें ट्यूटर और छात्र शामिल हैं। उन्होंने बताया कि उन्हें किसी और से यह पेपर मिले थे। उन्होंने कहा कि इस बात के कोई संकेत नहीं मिले हैं कि इन पेपरों को साझा करने के लिये रूपयों का लेनदेन हुआ।
इनपुट-भाषा

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story