Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

सीबीआई ने शुरु की आईडीबीआई बैंक और किंगफिशर के खिलाफ जांच

जब समूह के अन्य बैंकों के कर्ज फंसे हैं तब समूह से बाहर के किसी बैंक को कर्ज देने की आवश्यकता नहीं थी।

सीबीआई ने शुरु की आईडीबीआई बैंक और किंगफिशर के खिलाफ जांच
नई दिल्ली. सीबीआई ने किंगफिशर एयरलाइंस के खिलाफ आईडीबीआई बैंक द्वारा कंपनी को 950 करोड़ रुपए के कर्ज देने के मामले की प्रारंभिक जांच शुरू की है। सीबीआई सूत्रों ने कहा कि बैंक संकट में घिरी कंपनी को कर्ज देने के मामले में संतोषजनक उत्तर देने में विफल रहा है। मामले की जांच कर रहे सीबीआई के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि किंगफिशर को कर्ज देने वाले बैंकों के समूह से बाहर यह पहला बैंक है जिसने कर्ज दिया। जब समूह के अन्य बैंकों के कर्ज फंसे हैं तब समूह से बाहर के किसी बैंक को कर्ज देने की आवश्यकता नहीं थी।
विजय माल्या द्वारा प्रवर्तित यूबी समूह की कंपनी किंगफिशर एयरलाइंस तथा आईडीबीआई बैंक के वरिष्ठ अधिकारियों से जल्द ही पूछताछ की जाएगी ताकि यह पता लगाया जा सके कि आखिर बैंक ने अपनी आंतरिक रिपोर्ट की अनदेखी कर एयरलाइंस को कर्ज क्यों दिया। यूबी समूह के उपाध्यक्ष (कॉरपोरेट कम्युनिकेशंस) प्रकाश मिरपुरी से जब इस बारे में पूछा गया तो उन्होंने बताया कि हमें इस बारे में कोई पत्र नहीं मिला है और हम इस प्रकार की जांच से अनभिज्ञ हैं।
किंगफिशर के ऊपर 17 बैंकों के समूह का 7,000 करोड़ रुपए का कर्ज है। इसमें सबसे ज्यादा कर्ज भारतीय स्टेट बैंक का 1,600 करोड़ रुपए का है। समूह में पंजाब नेशनल बैंक का किंगफिशर एयरलाइन पर 800 करोड़ रुपए का बकाया है। बैंक ऑफ इंडिया का 650 करोड़ रुपए और बैंक ऑफ बड़ौदा का 550 करोड़ रुपया बकाया है। यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया का 430 करोड़, सैंट्रल बैंक का 410 करोड़, यूको बैंक का 320 करोड़ रुपए, कॉर्पोरेशन बैंक का 310 करोड़, स्टेट बैंक ऑफ मैसूर का 150 करोड़ रुपए, इंडियन ओवरसीज बैंक का 140 करोड़ रुपए, फैडरल बैंक का 90 करोड़ पंजाब एण्ड सिंध बैंक का 60 करोड़ और एक्सिस बैंक का 50 करोड़ रुपए का कर्ज बकाया है।
नीचे की स्लाइड्स में पढ़िए, किस-किस पर चल रहे हैं इस तरह के मामले -
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि और हमें फॉलो करें ट्विटर पर-
Next Story
Top