Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

एटीएम में कैश न होने की वजह से बने नोटबंदी के हालात, रिजर्व बैंक और केंद्र सरकार उठाएगी सख्त कदम

देश के कई राज्यों में कुछ दिनों से एटीएम में कैश न होने की वजह से नोटबंदी के हालात बनते जा रहे हैं। इस हालात को देखते हुए रिजर्व बैंक ने कहा है कि अब अर्थव्यवस्था में नकदी की हालत नोटबंदी के दौर से काफी अच्छी हैं, एेसे में एटीएम में कैश न होने की वजह दूसरी है।

एटीएम में कैश न होने की वजह से बने नोटबंदी के हालात, रिजर्व बैंक और केंद्र सरकार उठाएगी सख्त कदम
X

साल 2016 में भारत सरकार द्वारा की गई नोटबंदी से पूरे देश में कालेधन पर रोक लग गई थी, जिसके बाद से केंद्र सरकार ने कालेधन रखने वालों पर नकेल कसना शुरू कर दिया।

वहीं अब देश के कई राज्यों में कुछ दिनों से एटीएम में कैश न होने की वजह से नोटबंदी के जैसे हालात बनते जा रहे हैं। इस हालात को देखते हुए रिजर्व बैंक ने कहा है कि अब अर्थव्यवस्था में नकदी की हालत नोटबंदी के दौर से काफी अच्छी है, एेसे में एटीएम में कैश न होने की वजह दूसरी है।

रिजर्व बैंक के सूत्रों ने कैश न होने की वजह बताते हुए कहा है कि असम, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, कर्नाटक, महाराष्ट्र, राजस्थान, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश आदि राज्यों में लोगों जरूरत से ज्यादा कैश निकाला है, जिसकी वजह से यह संकट खड़ा हो गया है।

ये भी पढ़े: उन्नाव रेप केस: विधायक कुलदीप सेंगर के खिलाफ CBI ने चौथी FIR दर्ज की

सरकारी सूत्रों के मुताबिक, देश के कई राज्यों में बैसाखी, बिहू और सौर जैसे त्योहार होने के कारण लोगों ने ज्यादा कैश निकाला था। लोग कैश जमा न करने लगें और अफरा-तफरी न मचे इसके लिए वित्त मंत्रालय ने रिजर्व बैंक के अधिकारियों के साथ बैठक की है।

सूत्रों का कहना है कि कैश की उपलब्धता में एेसे उतार चढ़ाव आते रहते है। उदाहरण के लिए असम में शनिवार को बिहू त्योहार होने के कारण लोगों ने कुछ दिनों पहले ही कैश काफी ज्यादा निकाल लिया था।

इसलिए दूसरे कुछ राज्यों में आपूर्ति में कटौती करनी पड़ी थी। वित्त मंत्रालय के एक अधिकारी ने कहा है कि अब आपूर्ति सामान्य हो गई है और हालात जल्दी ही सामान्य हो जाएंगे।

वारनसी में लोगों को दिक्कत का करना पड़ा सामना

वारानसी के लोगों को एटीएम में कैश न होने की वजह से काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है, इस मामले पर लोगों अपने विचार प्रकट किए है।

स्थानिय लोगों का कहना है कि हम नहीं जानते है कि एटीएम में कैश क्यो नहीं है, पर हम अपने रोजमर्रा के काम नहीं कर पा रहे है। पूरे इलाके के एक भी एटीएम में कैश नहीं है। हम सुबह से पांच से छह बार एटीएम जा चुके है मगर किसी भी एटीएम में कैश नहीं है।

उन्होंने आगे कहा है कि कैश नहीं होने की वजह से हम बच्चों के स्कूल की फीस नहीं भर पाए है और घर के लिए सब्जी, कई समान भी नहीं खरीद पाए है।

बता दें कि इसके अलावा कर्नाटक में चुनाव काफी करीब आ रहे है, इसके लिए वहां कैश की मांग काफी बढ़ गई है। वहीं दूसरी तरफ इस मामले पर राजनीति भी शुरू हो गई है।

ये भी पढ़े: ड्रोन प्रौद्योगिकी के इस्तेमाल के लिए नियमन जल्द : सिन्हा

कांग्रेस के नेता दिग्विजय सिंह ने एमपी के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान पर तंज कसते हुए कहा है कि 16.5 लाख करोड़ नोट छापे गए हैं और मार्केट में पहुंच चुके है। उन्होंने आगे कहा है कि लेकिन 2000 के नोट कहां जा रहे है कौन लोग नकदी संकट जैसा माहौल बनाने की कोशिश कर रहे है।

एमपी के सीएम शिवराज सिंह चौहान ने इसका जवाब देते हुए कहा है कि समस्या उत्पन्न करने की साजिश चल रही है और राज्य सरकार इसके बारे में सख्त कदम उठाएगी, हम केंद्र सरकार के संपर्क में भी हैं।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story