Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

शंकराचार्य के खिलाफ साईं भक्तों ने दर्ज कराया केस, बनारसियों ने फूंका पुतला

स्वामी स्वरूपानंद ने कहा कि साईं बाबा के नाम पर पैसे कमाने का धंधा किया जा रहा है।

शंकराचार्य के खिलाफ साईं भक्तों ने दर्ज कराया केस, बनारसियों ने फूंका पुतला
नई दिल्ली. शंकराचार्य स्वरूपानंद के खिलाफ शिरडी में साईं बाबा के भक्तों ने पुलिस स्टेशन में केस दर्ज कराया है। इससे पहले शिरडी में रहने वाले हिंदू और मुसलमान दोनों समुदाय के लोगों ने शंकराचार्य के खिलाफ मिलकर प्रदर्शन भी किया था। उधर वाराणसी में भी साईं भक्तों ने स्वरूपानंद के खिलाफ नारेबाजी और प्रदर्शन कर उनका पुतला भी फुका किया। बता दें कि उन्होंने कल कहा था कि साईं बाबा भगवान नहीं हैं तो उनकी पूजा क्यों होती है। इस बीच स्वरूपानंद ने अपना रुख बदलते हुए कहा कि जो साईं भक्त हैं वो उनकी पूजा करें मगर ऊं शब्द का इस्तेमाल न करें।
स्वामी स्वरूपानंद ने कहा कि साईं बाबा के नाम पर पैसे कमाने का धंधा किया जा रहा है। स्वहरूपानंद ने साईं बाबा को न केवल भगवान मानने से इनकार किया बल्कि उनकी पूजा को भी गलत बताया है। उन्होंने कहा कि साईं बाबा की पूजा हिंदू-मुस्लिम धर्म को बांटने की कोशिश की जा रही है, इसके पीछे ब्रिटेन का हाथ है। उन्होंने कहा कि साईं बाबा का मंदिर बनाना भी गलत है।
शंकराचार्य ने कहा कि साईं ट्रस्ट में ज्यादार जैन हैं। उन्होंने ट्रस्टियों को चुनौती दी कि वे केवल इस बात का ही मतलब समझा दें कि 'सबका मालिक एक है'। उन्होंने कहा, 'सबका मालिक एक है। इसका मतलब पहले बताओ। इसमें 'सब' कौन है, 'मालिक' कौन है? अगर 'सब' मनुष्यों के लिए कहा गया है तो साईं उनमें था या नहीं? अगर था तो वह भगवान कैसे हो गया?' गौरतलब है कि 'सबका मालिक एक है' साईं का सूत्र वाक्य है।
नीचे की स्‍लाइड्स में पढ़िए, कौन है शंकराचार्य स्वरुपानंद -
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि और हमें फॉलो करें ट्विटर पर-
Next Story
Share it
Top