Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

सामाजिक कार्यकर्ताओं ने किया तंबाकू को बैन करने का आग्रह, मरते हैं प्रतिवर्ष 10 लाख लोग

भारत में तंबाकू खाने वाले 35 फीसदी लोग 15 साल की उम्र से अधिक हैं

सामाजिक कार्यकर्ताओं ने किया तंबाकू को बैन करने का आग्रह, मरते हैं प्रतिवर्ष 10 लाख लोग
नई दिल्ली. तंबाकू सेवन के कारण भारत में प्रतिवर्ष करीब 10 लाख लोगों की मौत की खबरों को अत्यंत गंभीर विषय बताते हुए चिकित्सा विशेषज्ञों एवं सामाजिक कार्यकर्ताओं ने सरकार से आग्रह किया है कि तंबाकू आधारित उद्योगों की जवाबदेही तय की जाए। वोट फार हेल्थ कैंपेन के प्रो. रमाकांत ने कहा कि वैश्विक स्तर पर तंबाकू से संबंधित संधि में सार्वजनिक स्वास्थ्य को सुरक्षा प्रदान करने के उपाय सुझाए गए हैं जिसमें तंबाकू उद्योग की अहम जिम्मेदारी बनती है।
विश्व स्वास्थ्य संगठन की इस विषय पर वार्ता के अगले दौर में तंबाकू सेवन के कारण फैलने वाली बीमारियों पर रोक लगाने के ठोस उपाय करने की जरूरत है। नेटवर्क पर एकाउंटेबिलिटी आफ टोबैको के राहुल द्विवेदी ने कहा कि सरकार को ऐसी पहल करनी चाहिए कि कारोबार और निवेश के नाम पर तंबाकू उद्योग को मिल रही छूट की समीक्षा की जाए।
डॉ यूएन राय ने कहा कि दुनिया में तंबाकू के सेवन के कारण प्रतिवर्ष 60 लाख लोगों की मौत होती है। भारत में प्रतिवर्ष तंबाकू के होने वाली बीमारियों के कारण 10 लाख लोग मारे जाने की रिपोर्ट है।भारत में तंबाकू खाने वाले 35 फीसदी लोग 15 साल की उम्र से अधिक हैं। मौतों पर जारी डब्ल्यूएचओ की ग्लोबल रिपोर्ट 2012 के अनुसार तंबाकू के कारण भारत में हर साल 10 लाख लोगों की मौत हो जाती है।
भारत में तंबाकू से होने वाली बीमारियों के इलाज पर हर साल 907 मिलियन डॉलर खर्च होते हैं। इस स्थिति पर लगाम लगाये जाने की जरूरत है। सामाजिक संगठन सहस्त्रधारा के संयोजक अमरदीप सिन्हा ने कहा कि गैर संचारी रोगों में तंबाकू के कारण होने वाली बीमारियां सबसे अधिक संख्या में सामने आ रही है जिसमें दिल की बीमारी, कैंसर, मधुमेह समेत अन्य बीमारियां शामिल हैं। सरकार को तंबाकू आधारित उद्योगों की जवाबदेही तय करनी चाहिए।
नीचे की स्लाइड्स में जानिए, भारत में 12 करोड़ लोग कर रहे हैं तंबाकू का सेवन -

खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि और हमें फॉलो करें ट्विटर पर-
Next Story
Share it
Top