Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

मोदी का सूट खरीदने वाले कारोबारी ने नहीं जमा कराए 6000 करोड़

सोशल मीडिया पर चली इस अफवाह की आंधी से हैरान होकर मंगलवार को हीरा कारोबारी लालजी भाई पटेल खुद सामने आकर बयान दिया।

मोदी का सूट खरीदने वाले कारोबारी ने नहीं जमा कराए 6000 करोड़
नई दिल्ली. सूरत. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के द्वारा 8 नवंबर 2016 को 500 और 1000 रुपए के नोटों को कागज के टुकड़े में बदलने के ऐलान के बाद से लोगों में अपने-अपने नोटों को बैंक खातों में जमा कराने के लिए होड़ सी मची है। लोग बैंक के बाहर लंबी-लंबी कतारों में लग कर अपने पैसे जमा करने में लगे हैं। एक ओर जहां काले धन को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शिकंजा कसने में लगे हैं वहीं तरफ सोशल मीडिया में अफवाहों का दौर भी उतनी ही तेजी से गर्म होता जा रहा है।
आपको सूरत के वह बिजनसमैन लालजी भाई तो याद होंगे ही, जिन्होंने कुछ समय पहले प्रधानमंत्री के सूट को 4.3 करोड़ रुपए में खरीदकर जबर्दस्त सुर्खियां बटोरी थीं और गिनिस बुक में नाम दर्ज कराया था। इस सूट पर बारीक अक्षरों में नरेंद्र मोदी का नाम लिखा था। पिछले दो दिन से सोशल मीडिया में चल रही एक खबर के मुताबिक सूरत के हीरा कारोबारी और मोदी का सूट खरीदने वाले लालजी पटेल ने 6000 करोड़ रुपए बैंक में जमा कराए हैं जबकि हकीकत में ऐसा कुछ नहीं है। सोशल मीडिया पर चली इस अफवाह की आंधी से हैरान होकर मंगलवार को हीरा कारोबारी लालजी भाई पटेल ने कहा कि उन्होंने 6 हजार करोड़ रुपए बैंक में नहीं जमा करवाए हैं, ऐसी अफवाह फैलाने वालों के खिलाफ पुलिस में शिकायत भी दर्ज करवाएंगे।
सोशल मीडिया में चल रहे मैसेज के मुताबिक लालजी भाई सरकार को टैक्स के रूप में 5,400 करोड़ रुपए अलग से देंगे, जिसमें 30 फीसद की दर से 1800 करोड़ रुपए इनकम टैक्स और 200 फीसद की पेनाल्टी भी शामिल होगी। सोशल मीडिया पर चल रहे इस तरह के मैसेज को लेकर लालजी भाई पटेल से पूछा तो उन्होंने उन सभी बातो से इन्कार कर दिया जो सोशल मीडिया में चलाई जा रही है। यही नहीं खबरों की सच्चाई को जाने बिना देश के कई अखबारों ने भी लालजी से जुड़ी झूठी खबर को प्रमुखता से छापा।
मोदी का शूट करोड़ो रुपए में खरीदने वाले सूरत के हीरा कारोबारी लालजी पटेल ने सोशल मीडिया की खबर का दो टूक शब्दों में न सिर्फ खंडन कर दिया बल्कि ऐसी बेबुनियाद खबर का अफवाह फैलाने वालों के खिलाफ पुलिस शिकायत दर्ज करवाने की बात कही है। लालजी भाई की माने तो उनका डायमंड इम्पोर्ट एक्सपोर्ट का काम है और शहर में उनकी कोई भी रियल एस्टेट का कामकाज नहीं है।
देश में 1000 और 500 रुपए की नोटबंदी के बाद सोशल मीडिया पर तरह तरह के झूठे मैसेज वायरल हो रहे हैं। ऐसे ही झूठे मैसेज से सूरत के हीरा कारोबारी लालजी पटेल काफी हैरान और परेशान हैं। इसी वजह से लालजी भाई पटेल को सोशल मीडिया पर उनको लेकर चलाए जा रहे है झूठे मैसेज की सच्चाई बताने के लिए मीडिया के सामने आना पड़ा।
गौरतलब है कि लालजी पटेल ने हाल ही में बालिका शिक्षा के लिए जहां 200 करोड़ रुपए दान दिया था, वहीं वे अपनी कंपनी में काम करने वाले कर्मचारियों को बोनस के रूप में मकान और कार भी दे चुके हैं। अपनी परोपकार की आदतों के चलते लालजी भाई पहले भी खबरों में रहे हैं। उन्हें देश के सबसे अमीर जूलरों में से एक माना जाता है। पिछले कई साल से वह कई सामाजिक कामों के लिए रकम दान देते रहे हैं। मोदी का सूट खरीदने के बाद वह खूब चर्चित हुए।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Hari bhoomi
Share it
Top