Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

मदद से ज्यादा ''व्यापार'' विकास का वाहक: पीएम मोदी

प्रधानमंत्री ने कहा कि अंतरिक्ष की तरह महासागर हमारी अर्थव्यवस्थाओं का अहम वाहक होगा।

मदद से ज्यादा

जयपुर. पेरिस में जलवायु परिवर्तन पर वैश्विक सम्मेलन से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को ठोस एवं प्रभावी परिणाम की वकालत की ताकि चुनौती से निपटा जा सके। उन्होंने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में सुधार की जरूरत पर भी जोर दिया ताकि उसमें मौजूदा वास्तविकताओं की झलक मिले।

ये भी पढ़ें : गूगल और ऐमजॉन के बीच मची होड़, टाटा के डेटा सेंटर को खरीदने के लिए बातचीत जारी

प्रधानमंत्री ने कहा कि अंतरिक्ष की तरह महासागर हमारी अर्थव्यवस्थाओं का अहम वाहक होगा। उनके सतत उपयोग से समृद्धि आ सकती है और यह हमें स्वच्छ ऊर्जा, नई दवाएं और मत्स्य पालन से भी कहीं बढ़कर खाद्य सुरक्षा दे सकती है। जलवायु परिवर्तन प्रशांत के द्वीपों के लिए वजूद का खतरा है। भारत की 7500 किमी तटरेखा और करीब 1300 द्वीपों के लिए भी नुकसानदेह है।
सामरिक तौर पर अहम प्रशांत क्षेत्र में स्थित 14 द्वीपीय देशों के एक शिखर सम्मेलन की मेजबानी करते हुए प्रधानमंत्री ने वैश्विक व्यवस्था में संतुलन की जरूरत बताते हुए इन संसाधन संपन्न देशों से करीबी सहयोग कायम करने पर जोर दिया और कहा कि सहायता से ज्यादा व्यापार विकास का वाहक है। फोरम फॉर इंडिया पैसिफिक आइलैंड कंट्रीज (एफआईपीआईसी) के दूसरे शिखर सम्मेलन में अपने उद्घाटन संबोधन में मोदी ने नई दिल्ली में फेडरेशन ऑफ इंडियन चैंबर्स ऑफ कॉर्मस एंड इंडस्ट्रीज (फिक्की) में एफआईपीआईसी व्यापार कार्यालय की स्थापना की घोषणा की। उन्होंने कहा कि सहायता से ज्यादा व्यापार विकास का वाहक है।
नीचे की स्लाइड्स में पढ़िए, पूरी खबर -

खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-

Next Story
Top