Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

बोरियों में भरकर जला दिए गए 500-1000 के नोट, जांच में जुटी पुलिस

जली और बची कतरन से अनुमान लगाया जा रहा है कि रकम कई करोड़ रही होगी

बोरियों में भरकर जला दिए गए 500-1000 के नोट, जांच में जुटी पुलिस
बरेली. काले धन पर अंकुश लगाने की सरकार की नोटबंदी की घोषणा के बाद यहां 500-1000 के नोटों से भरी बोरियां जली मिलीं। सूत्रों के मुताबिक शहर के सीबी गंज इलाके में पारसा खेड़ा रोड पर नोटों से भरी इन बोरियों को एक कंपनी के कर्मचारियों ने यहां लाकर जला दिया।
पुलिस अधिकारियों के मुताबिक ऐसा लग रहा है कि इन नोटों को फाड़कर जलाया गया। पुलिस ने इन जले हुए नोटों को जब्‍त कर लिया है और आरबीआइ अधिकारियों को घटना के संबंध में जानकारी दी गई है। फील्ड यूनिट ने जले नोटों के नमूने और कतरन विधि विज्ञान प्रयोगशाला जांच के लिए भेज दिये हैं।
बरेली में 500-1000 के कटे फटे नोट मिलने से सनसनी फैल गयी। मौके पर पहुंची पुलिस और आरबीआइ टीम ने सभी कटे नोटों को कब्जे में लेकर जांच में जुट गयी है। बता दें कि ये 1000-500 के कटे नोटों की जलती खेप शहर के एक बड़े उद्योगपति की फैक्ट्री के सामने मिली है। मामला सीबीगंज थानाक्षेत्र के परसाखेड़ा औद्योगिक इलाके का हैं। वहीं कुछ लोगों के द्वारा इन नोटों को स्क्रेप के ढेर में आग लगाकर सबूत छिपाने की भी की गयी लेकिन किसी राहगीर ने इसकी सूचना पुलिस को दे दी।
बरेली पुलिस का दावा है कि मंगलवार आधी रात के बाद करोड़ों की काली कमाई को सफेद करने का कोई विकल्प न देख किसी कारोबारी ने पहले मशीनों से नोटों के जखीरे की कतरन कराई और फिर रोड नंबर दो पर तीन बोरों में भरकर आग के हवाले करा दिया। जली और बची कतरन से अनुमान लगाया जा रहा है कि रकम कई करोड़ रही होगी। दरअसल यहां से गुजर रहे एक व्यक्ति के हाथ नोट की कतरन लगने पर मामले ने तूल पकड़ा। सीबीगंज थाना इंस्पेक्टर राकेश सिंह पहले इसे मजाक समझते रहे लेकिन चौकी चौकी इंचार्ज अरुण सिंह ने पुष्टि की तो खुद एसएसपी जोगेंद्र कुमार मौके पर पहुंच गए।
पुलिस के अनुसार जलने से बची कतरन 50, 100, 500 और 1000 के नोट की लग रही हैं। कागज की गुणवत्ता हल्की होने से शक है कि यह जाली भी हो सकते हैं। परसाखेड़ा के तमाम प्रतिष्ठानों में सीसीटीवी कैमरे लगे हैं। पुलिस इनकी फुटेज खंगाल रही है।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Share it
Top