Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

उरी अटैकः इसलिए तुरंत दफनाए गए आतंकियों के शव, वीडियो

इससे पहले करीब एक महीने तक आतंकियों के शव को रखा जाता था

उरी अटैकः इसलिए तुरंत दफनाए गए आतंकियों के शव, वीडियो
श्रीनगर. कश्मीर के उरी में रविवार को हुए आतंकी हमले में मारे गए चारों आतंकियों के शवों को इस बार महीनों न रखकर तुरंत दफना दिया गया। जानकारी के मुताबिक इन शवों को हमले वाली जगह से 50 किमी दूर दफना दिया गया है। यह फैसला अच्छी तरह सोच-समझकर लिया गया। विचार-विमर्श के बाद इस फैसले पर पहुंचा गया कि आतंकियों के शवों को रखना उनके मजहब के खिलाफ होगा। इसीलिए उड़ी में मारे गए चार आतंकी हमलावरों के शवों को तुरंत ही दफना दिया गया।
प्रोटोकॉल के मुताबिक एक माह तक रखना चाहिए मृत शरीर
अगर प्रोटोकॉल की बात करेंतो दफनाने से पहले कम से कम एक माह तक डेड बॉडी को संरक्षित करके रखा जाता है। इस हमले में आतंकियों के शव को सिर्फ एक ही दिन में दफना दिया गया।
इस बार घाटी में नहीं है हालात ठीक
अधिकारियों की मानें तो इसकी दो वजहें हो सकती हैं। आतंकियों की डेडबॉडीज इतनी बुरी तरह से बिगड़ चुकी थीं कि उन्‍हें संरक्षित करके रखना संभव नहीं था। दूसरा जम्‍मू कश्‍मीर के जो वर्तमान हालात हैं वे सेना को ऐसा करने की इजाजत नहीं देते थे।

इस्लामिक रिवाज भी है कारण
इस्लामिक रिवाज के मुताबिक मौत के बाद शव को उसी शाम या रात तक दफना दिया जाना चाहिए। ऐसे में आतंकियों के शवों को रखना मुस्लिमों की धार्मिक भावनाओं के खिलाफ हो सकता था। मुस्लिम बहुल आबादी वाली घाटी में पहले ही हालात खराब हैं। इसे देखते हुए शवों को तुरंत ही दफनाए जाने का फैसला किया गया। एक एनआईए टीम ने सभी सबूत और डीएनए सैंपल इकट्ठा कर लिए हैं। वैसे भी पहले हमने आतंकियों के शव सुरक्षित रखे लेकिन इनका कोई फायदा नहीं हुआ। न ही पाकिस्तानी सरकार ने उन्हें पहचानने की कोशिश की और न उनके परिवार के सदस्य आगे आए।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Share it
Top