Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

आतंकी बुरहान वानी के पिता ने श्री श्री रविशंकर से की मुलाकात

श्री श्री से मुलाकात में घाटी में शांति और सामान्य स्थिति बहाल करने के तरीके पर चर्चा की गई।

आतंकी बुरहान वानी के पिता ने श्री श्री रविशंकर से की मुलाकात
नई दिल्ली. केंद्र सरकार की घाटी में शांति स्थापना के लिए किए जा रहे प्रयासों के बीच मारे गए कश्मीरी आतंकवादी बुरहान वानी के पिता मुजफ्फर वानी ने शनिवार को आर्ट ऑफ लिविंग के संस्थापक औऱ आध्यात्मिक गुरु श्री श्री रविशंकर से उनके बेंगलुरू स्थित आश्रम में मुलाकात की। पिछले महीने 8 जुलाई को सुरक्षा बलों से मुठभेड़ में बुरहान वानी के मारे जाने के बाद से कश्मीर में माहौल बिगड़ा हुआ है।
एक एओएल के प्रवक्ता ने बताया कि मुजफ्फर वानी ने श्री श्री से मुलाकात में अन्य बातों के अलावा वर्तमान स्थिति में घाटी में पीड़ितों के बारे में भी चर्चा की और वहां शांति और सामान्य स्थिति बहाल करने के तरीके पर भी चर्चा की।
श्री श्री के साथ मुजफ्फर की बैठक की खबर शनिवार शाम को अपने ट्विटर पेज के माध्यम से एओएल संस्थापक द्वारा घोषणा की गई थी। मुजफ्फर और खुद की एक तस्वीर के साथ साथ श्री श्री ने ट्वीट किया, 'मुजफ्फर वानी, बुरहान वानी के पिता पिछले 2 दिनों के लिए आश्रम में ठहरे थे। हमने कई मुद्दों पर चर्चा की।'
एक एओएल के प्रवक्ता ने टाइम्स ऑफ इंडिया को बताया कि आश्रम में वानी के प्रवास कोई सरकारी पहल नहीं थी। इस स्तर पर बैठक और विचार विमर्श के बारे में कुछ भी कहना जल्दबाजी होगी।'
मुजफ्फर अहमद वानी सरकारी स्कूल के हेडमास्टर हैं। वह जमायत ए इस्लामी के प्रमुख नेताओं में एक हैं। 1990 के दशक में वह जमायत द्वारा संचालित स्कूल में अध्यापक थे। तत्कालीन राज्यपाल जगमोहन ने इन स्कूलों को बंद करा दिया था। 1996 के बाद राज्य में निर्वाचित सरकार के गठन के बाद जमायत के स्कूलों के बंद होने से बेरोजगार हुए अध्यापकों को सरकारी स्कूलों में नियुक्त करने की प्रक्रिया के तहत ही मुजफर अहमद वानी सरकारी अध्यापक बने थे।
बुरहान की हत्या के बाद पिछले 50 दिनों में घाटी में बड़े पैमाने पर पथराव और दंगे को प्रेरित किया है। 70 लोग मारे जा चुके हैं और हजारों घायल हो गए। श्री श्री रविशंकर ने मुजफ्फर वानी से ऐसे समया पर मुलाकात की है जब कश्मीर और केंदआ सरकार भी शांति-वार्ता की बात कर रहे हैं।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
hari bhoomi
Share it
Top