Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

बजट 2018: देश में साल 2018-19 में खर्च होंगे 24.42 लाख करोड़ रुपये!

संसद में गुरुवार को पेश आम बजट में वित्त वर्ष 2018-19 में कुल व्यय 24.42 लाख करोड़ रुपये से अधिक रहने का अनुमान जताया गया है।

बजट 2018: देश में साल 2018-19 में खर्च होंगे 24.42 लाख करोड़ रुपये!

संसद में गुरुवार को पेश आम बजट में वित्त वर्ष 2018-19 में कुल व्यय 24.42 लाख करोड़ रुपये से अधिक रहने का अनुमान जताया गया है। आगामी वित्त वर्ष में राजकोषीय घाटे का लक्ष्य सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) का 3.3% रखा गया है।

वित्त वर्ष 2018-19 के दौरान कुल व्यय 24.42 लाख करोड़ रुपये से अधिक होने का अनुमान है। वहीं राजकोषीय घाटा जीडीपी का 3.3% यानी 6,24,276 करोड़ रुपये रहने का अनुमान जताया गया है। वित्त मंत्री अरुण जेटली ने अपने बजट भाषण में कहा कि इसका वित्त पोषण ऋण लेकर किया जाएगा।

यह भी पढ़ें- बजट पर लालू यादव का तंज- 56 इंच की छाती कूटकर 60 दिन मांग रहे थे, 60 दिन!

जेटली ने 2018-19 के आम बजट को सरकार का कृषि, सामाजिक क्षेत्र, डिजिटल भुगतान, अवसंरचना तथा रोजगार सृजन में निवेश को पर्याप्त बढ़ावा देने वाला बजट कहा। साथ-साथ इसे वित्तीय समेकन के मार्ग पर प्रशस्त रहने की दृढ़ प्रतिबद्धता प्रदर्शित करने वाला बजट बताया।

वित्त एवं कॉरपोरेट मामलों के मंत्री जेटली ने कहा कि संशोधित अनुमान 2017-18 से व्यय में 2,24,463 करोड़ की वृद्धि सरकार की प्रतिबद्धता को प्रमाणित करती है। जेटली ने कहा कि मौजूदा सरकार ने मई 2014 में उस समय कार्यभार संभाला था जब राजकोषीय घाटा बहुत उच्च स्तर पर था।

यह भी पढ़ें- मोदी के बजट पर एच डी देवेगौड़ा ने कसा तंज, कहा- समस्याएं बड़ी उपाय कम

वित्त वर्ष 2013-14 का राजकोषीय घाटा जीडीपी का 4.4 प्रतिशत था। उन्होंने कहा कि मौजूदा सरकार 2014 में लगातार राजकोषीय घाटा समेकन के पथ पर आगे बढ़ी है। राजकोषीय घाटा 2014-15 के 4.1 प्रतिशत से कम करके 2015-16 में 3.9 प्रतिशत तथा 2016-17 में 3.5 प्रतिशत पर लाया गया।

वित्त वर्ष 2017-18 में संशोधित राजकोषीय घाटा सकल घरेलू उत्पाद के 3.5 प्रतिशत पर 5.95 लाख करोड़ रुपये होने का अनुमान है।

Share it
Top