Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

साउथ एशिया में सबसे बड़ा डिफेंस मार्केट बनाने के लिए बोइंग ने इंडियन नेवी से की बात

सिंगापुर एयर शो में प्रेस कांफ्रेंस के दौरान बोइंग कंपनी के उपाध्यक्ष जीन कनिंघम ने कहा कि अभी तक इसमें कई नई तकनीकी मूल्यांकन किए जा रहे हैं।

साउथ एशिया में सबसे बड़ा डिफेंस मार्केट बनाने के लिए बोइंग ने इंडियन नेवी से की बात

साउथ एशिया में सबसे बड़ा डिफेंस मार्केट स्थापित करने वाली अमेरिकन कंपनी बोइंग ने अपने एफ/ए-18 हॉर्नेट फाइटर जेट्स को बेचने के लिए इंडियन नेवी बात कर रही है।

सिंगापुर एयर शो में प्रेस कांफ्रेंस के दौरान बोइंग कंपनी के उपाध्यक्ष जीन कनिंघम ने कहा कि अभी तक इसमें कई नई तकनीकी मूल्यांकन किए जा रहे हैं। कनिंघम ने कहा कि उनकी कंपनी केसी-46 मल्टीरोल टैंकर को भी भारत समेत अन्य देशों को बेचने के लिए बात कर रही है।

250 बिलियन डॉलर खर्च की योजना

पिछले साल इंडियन नेवी ने अपने एयरक्राफ्ट करियर्स के लिए 57 जेट्स का प्रस्ताव रखा था, वहीं एयर फॉर्सेस अपने लिए करीब 100 नए प्लेन की मांग की थी। बोइंग और साब एबी कंपनी ने कहा था कि दोनों ऑर्डर एक साथ होने चाहिए, जो दुनिया का सबसे बड़ा फाइटर जेट्स ऑर्डर होगा।

इसे भी पढ़ें- राज्यसभा में पहली बार बोले अमित शाह, कहा- बेरोजगारी से पकोड़े बेचना बेहतर

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आने वाले सालों में डिफेंस सामग्री के लिए 250 बिलियन डॉलर खर्च करने की योजना बना रहे हैं, जिसमें फाइटर जेट्स से लेकर, हाई टेक्नोलॉजी की गन और हेलमेट भी शामिल होंगे।

यह कंपनियां चाहतीं भारत में निवेश

इस प्रोजेक्ट पर काम करने कि लिए बोइंग, लॉकहीड मार्टिन कॉर्पोरेशन और अन्य कंपनियों ने कहा कि अगर कॉन्ट्रेक्ट उनके हाथ लगता है, तो वे भारत में आकर निवेश करना चाहेंगे।

कनिंघम ने कहा है कि बोइंग का आशा है कि 2018 के मध्य में अमेरिका टी-एक्स प्रोग्राम पर निर्णय ले लेगा। अमेरिका के 16 बिलियन डॉलर वाले एयर फोर्स के नए ट्रेनिंग जेट प्रोजेक्ट को पाने के लिए बोइंग और लॉकहीड कंपनी के बीच जोरदार होड मची हुई है।

Share it
Top