Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

गुजरात: सरकार में चल रहा गतिरोध हुआ खत्म, शाह की इस बात की वजह से माने पटेल

भाजपा अध्यक्ष अमित शाह की पहल पर गुजरात सरकार में चल रहा संकट खत्म हो गया है। शाह ने नाराज उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल से बातचीत की।

गुजरात: सरकार में चल रहा गतिरोध हुआ खत्म, शाह की इस बात की वजह से माने पटेल

भाजपा अध्यक्ष अमित शाह की पहल पर गुजरात सरकार में चल रहा संकट खत्म हो गया है। शाह ने नाराज उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल से बातचीत की। देर शाम नितिन पटेल को वित्त मंत्रालय का प्रभार सौंपा गया। पूर्ववर्ती सरकार में भी उनके पास ये मंत्रालय था।

बता दें कि कैबिनेट में अपनी पसंद का मंत्रालय नहीं मिलने के कारण नितिन पटेल कार्यभार संभालने में देरी कर रहे थे। रविवार सुबह शाह से बातचीत और सरकार में उनके हैसियत के मुताबिक नंबर दो का मंत्रालय दिए जाने के आश्वासन के बाद पटेल कार्यभार संभालने के लिए तैयार हो गए।

पद के हिसाब से मंत्रालय मिलने का आश्वासन

पटेल ने कहा, भाजपा अध्यक्ष अमित शाह से रविवार को बातचीत हुई और उन्होंने मुझे आश्वासन दिया कि मुझे मेरे पद के हिसाब से कैबिनेट में नंबर दो का मंत्रालय दिया जाएगा। हालांकि, पटेल ने यह खुलासा नहीं किया कि उन्हें वित्त या शहरी विकास मंत्रालयों में से कौन सा विभाग मिलेगा।

आपको बता दें कि पिछली सरकार में वित्त और शहरी विकास जैसे महत्वपूर्ण मंत्रालयों का कार्यभार संभालने वाले पटेल को इस बार सड़क और भवन, स्वास्थ्य, चिकित्सा शिक्षा, नर्मदा, कल्पसर एवं अन्य परियोजना विभाग की जिम्मेदारी सौंपी गई थी।

शाह का किया शुक्रिया

पटेल ने कहा, अमित शाह जी का शुक्रिया। उन्होंने मुझसे फोन पर बात की है। शाह ने मुझे मनमाफिक मंत्रालय देने का वादा किया है। इस भरोसे के लिए एक बार फिर अमित शाह जी का शुक्रिया अदा करना चाहता हूं।

पसंदीदा मंत्रालय नहीं मिलने से थे नाराज

भाजपा ने जिन विधायकों को मंत्री बनाया है वो सभी शुक्रवार को ही चार्ज ले चुके हैं। लेकिन, नितिन पटेल ने ऐसा नहीं किया। इसके बाद मीडिया में खबरें आई कि पाटीदार समुदाय से आने वाले नितिन पटेल मनमाफिक पोर्टफोलियो ना मिलने से नाराज हैं।

पिछली सरकार में पटेल के पास वित्त, पेट्रोलियम, शहरी विकास, हाउसिंग और नर्मदा जैसे बड़े मंत्रालय थे। इस बार ये नहीं दिए गए। उनकी नाराजगी की वजह यही थी।

निजी गाड़ी का कर रहे थे इस्तेमाल

बताया जाता है कि नाराजगी की वजह से नितिन पटेल सरकारी गाड़ी की जगह पर्सनल कार का इस्तेमाल कर रहे थे। नरेंद्र मोदी और अमित शाह पहले हिमाचल कैबिनेट और बाद में दूसरे कामों में व्यस्त थे। इस वजह से नितिन का मामला लटकता गया।

इस बीच, पाटीदार नेता हार्दिक पटेल ने मीडिया से बातचीत में नितिन को दस विधायकों के साथ कांग्रेस में शामिल होने का न्योता दिया। उन्होंने यहां तक कह दिया कि अगर नितिन पटेल कांग्रेस में आते हैं तो उन्हें सीएम बनाया जाएगा।

Share it
Top