Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

राष्ट्र मंच पर यशवंत सिन्हा को मिला भाजपा के ''शत्रु'' का साथ

यशवंत सिन्हा ने कहा, भाजपा में सभी लोग डरे हुए हैं। हम नहीं। उन्होंने कहा कि देश में संवाद और चर्चा ''असभ्य, एकतरफा और खतरनाक'' हो गई है।

राष्ट्र मंच पर यशवंत सिन्हा को मिला भाजपा के

भाजपा के असंतुष्ट सांसद शत्रुघ्न सिन्हा ने पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा द्वारा शुरू किए गए नए राजनैतिक मंच में शामिल होने के लिए नेताओं के एक समूह का मंगलवार को नेतृत्व किया।

पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा ने कहा कि उनका राष्ट्र मंच एक राजनैतिक कार्रवाई समूह है। वह केंद्र सरकार की नीतियों के खिलाफ आंदोलन शुरू करेगा।

तृणमूल कांग्रेस सांसद दिनेश त्रिवेदी, कांग्रेस सांसद रेणुका चौधरी, एनसीपी सांसद माजिद मेमन, आम आदमी पार्टी सांसद संजय सिंह, गुजरात के पूर्व मुख्यमंत्री सुरेश मेहता और जेडीयू नेता पवन वर्मा उन लोगों में शामिल थे, जिन्होंने मोर्चा शुरू करने के लिए आयोजित कार्यक्रम में हिस्सा लिया।

इसे भी पढ़ें- 4 जजों के समर्थन में आए यशवंत सिंन्हा, कहा- ये न्यायपालिका का आंतरिक मामला नहीं है

आरएलडी नेता जयंत चौधरी और पूर्व केंद्रीय मंत्री सोमपाल और हरमोहन धवन भी उपस्थित थे।

शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा कि वह मंच में इसलिए शामिल हुए हैं, क्योंकि उनकी पार्टी ने अपनी राय जाहिर करने के लिए उन्हें मंच नहीं दिया है।

हालांकि, उन्होंने कहा कि मोर्चे का समर्थन करने के उनके फैसले को पार्टी विरोधी गतिविधि के तौर पर नहीं देखा जाना चाहिए क्योंकि यह राष्ट्र हित में है।

यशवंत सिन्हा ने मौजूदा स्थिति की तुलना 70 साल पहले के समय से की, जब महात्मा गांधी की आज ही के दिन हत्या कर दी गई थी।

इसे भी पढ़ें- भाजपा के शत्रु के घर पर चला बीएमसी का बुलडोजर, नोटिस का भी नहीं दिया था जवाब

उन्होंने कहा कि लोकतंत्र और उसकी संस्थाओं पर हमले हो रहे हैं। उन्होंने दावा किया कि नरेंद्र मोदी सरकार ने किसानों को 'भिखारियों की स्थिति' में ला दिया है। उन्होंने सरकार पर अपने हितों के अनुरूप 'मनगढ़ंत' आंकड़े पेश करने का आरोप लगाया।

पूर्व केंद्रीय मंत्री ने दावा किया कि राष्ट्र मंच एक गैरदलीय राजनैतिक कार्रवाई समूह होगा। उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि यह मंच किसी पार्टी के खिलाफ नहीं है और राष्ट्रीय मुद्दों पर जोर देने के लिए कार्य करेगा।

यशवंत सिन्हा ने कहा, 'यह कोई संगठन नहीं है, बल्कि राष्ट्रीय आंदोलन है।' उन्होंने आर्थिक और विदेश नीतियों के लिए सरकार पर हमले किए।

लोग डरे हैं, हम नहीं

यशवंत सिन्हा ने कहा, भाजपा में सभी लोग डरे हुए हैं। हम नहीं। उन्होंने कहा कि देश में संवाद और चर्चा 'असभ्य, एकतरफा और खतरनाक' हो गई है।

सिन्हा ने दावा किया, ऐसा लगता है कि भीड़ का काम न्याय देने का हो गया है। किसानों के मुद्दे को उठाना उनके संगठन की शीर्ष प्राथमिकता होगी।

Share it
Top