Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

किसान आंदोलन के बीच विपक्ष के दांव से भाजपा हुई सतर्क

भाजपा को डर है कि प्रमुख विपक्षी दल इसे जनता के बीच बड़ा मुद्दा बनाकर उछाल सकता है।

किसान आंदोलन के बीच विपक्ष के दांव से भाजपा हुई सतर्क
X
मध्यप्रदेश में हुए किसान आंदोलन से सबक लेते हुए भाजपा ने अन्य राज्यों में हो रहे प्रदर्शनों को भी गंभीरता से लेना शुरू कर दिया है। भाजपा को डर है कि प्रमुख विपक्षी दल इसे जनता के बीच बड़ा मुद्दा बनाकर उछाल सकता है।
मध्यप्रदेश भाजपा के सूत्रों की मानें तो केंद्रीय नेतृत्व किसान आंदोलन के मुद्दे को लेकर मुख्यमंत्री व सरकारी रिपोर्ट के भरोसे नहीं रहेगी।
वह राज्य प्रभारी व संगठन मंत्री की जानकारी को तवज्जो देगा। घटना के बाद से ही कांग्रेस ने प्रदेश में मोर्चा खोल रखा है। वहीं प्रदेश में अन्य सरकार विरोधी से संगठन भी विपक्ष के साथ खड़े हुए नजर आ रहे है।
इसके अलावा प्रदेश के ही पार्टी के कुछ नेताओं ने किसान आंदोलन को लेकर सरकार खिलाफ विपक्ष के सुर में सुर मिलाया है।
प्रदेश में काबिज भाजपा को डर इस बात को लेकर है कि इस आंदोलन के बहाने प्रदेश मे गुटों में बंटा विपक्ष एकजुट होकर इसे बड़ा मुद्दा नहीं बना दे।
राज्यभर में विपक्ष तेवर को कम करने के लिए भाजपा ने मंदसौर की घटना में कांग्रेस विधायकों व पदाधिकारियों के इस आंदोलन में शामिल होने का सोशल मीडिया में बड़ी मुहिम भी छेड़ दी है।

कांग्रेस के सत्याग्रह में दिखेगी एकजुटता

इधर मध्यप्रदेश कांग्रेस की कमान बदलने को लेकर चल रही उठा पटक के बीच शिवराज सिंह चौहान के उपवास के जवाब में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता व सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया 14 जून से 72 घंटे सत्याग्रह पर बैठेंगे। पार्टी उपाध्यक्ष राहुल गांधी के निर्देश पर हो रहे इस कार्यक्रम में सभी दिग्गज नेता एक ही मंच पर दिखाई देंगे।
वहीं सिंधिया समर्थक कार्यक्रम को सफल बनाने में जुट गए है। उन्हें यह लग रहा है कि सत्याग्रह के बहाने सिंधिया को प्रभावी तरीके से प्रदेश में लांच किए जाने की यह तैयारी है। समर्थक 72 घंटों में 25 हजार से ज्यादा लोगों को जुटाने का टारगेट तय किया है।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story