Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

बिहार में महिला इंजीनियर को कुर्सी से बांधकर जिंदा जलाया

महिला की मां कुसुम देवी ने चप्पल देखकर बेटी के शव की शिनाख्त की।

बिहार में महिला इंजीनियर को कुर्सी से बांधकर जिंदा जलाया
मुजफ्फरपुर. बिहार के मुजफ्फरपुर जिले में एक महिला इंजीनियर को कुर्सी से बांधकर जिंदा जलाने का सनसनीखेज मामला सामने आया है। बताया जा रहा है कि मौके से एक नोट मिला है। हालांकि, पुलिस पहली नजर में इसे हत्या का मामला मान रही है। महिला की मां कुसुम देवी ने चप्पल देखकर बेटी के शव की शिनाख्त की।
महिला मनरेगा में जेई के पद पर मुरौल में पोस्टेड थी
बता दें ये रोंगेट खड़े कर देने वाली वारदात अहियापुर थाना क्षेत्र के कोल्हुआ बजरंग विहार कॉलोनी के एक निर्माणाधीन मकान में घटी है। महिला की बॉडी पूरी तरह से जली पाई गई है और उसकी मां ने मौके से एक जोड़ी चप्पल और हड्डियों से अपनी बेटी की शव की शिनाख्त की है। महिला का नाम सरिता देवी बताया गया है और वो मनरेगा में जेई के पद पर मुरौल में पोस्टेड थी। वह मूल रूप से सीतामढ़ी के कन्हौली फुलकाहां की रहने वाली थी। पिछले तीन साल से मुरौल डिविजन में जेई के पद पर पोस्टेड थी। वह बजरंग विहार कॉलोनी में विजय कुमार गुप्ता के मकान में रहती थी।
शॉर्ट सर्किट से आग लगने की सूचना पर आसपास के लोग जमा हो गए
पूर्वी चंपारण के चिरैया निवासी विजय मनरेगा की अलग-अलग योजनाओं का इस्टीमेट बनाता था। बजरंग विहार कॉलोनी में उसका एक निर्माणाधीन मकान भी है, जहां पर सरिता अक्सर कार्यालय से जुड़े निजी काम करती थी। सोमवार की सुबह शॉर्ट सर्किट से आग लगने की सूचना पर आसपास के लोग जमा हो गए। इसी बीच मोहल्ले के कुछ लोग जबरन अंदर चले गए। वहां देखा कि एक कुर्सी जली हुई है। पास ही चप्पल रखी है। पैर की जली हड्डी व अवशेष पड़ी है।
मौके से एक सुसाइड नोट भी मिला
सोमवार सुबह मोहल्ले वालों के जानकारी देने पर पुलिस मौके पर पहुंची। मौके से एक सुसाइड नोट भी मिला है, जिसमें महिला ने अपनी मां से अपने बच्चों का ख्याल रखने की बात कही है। पुलिस को महिला की हत्या का शक है। लेकिन जिस तरह से ये घटना सामने आई है, उसे देखकर पुलिस इसे हत्या का मामला मान रही है और उसे शक है कि महिला को जलाने के लिए किसी घातक केमिकल का इस्तेमाल किया गया है क्योंकि केवल कैरोसिन से इस तरह बॉडी खराब नहीं होती। पुलिस मौका-ए-वारदात पर महिला की झुलसी हुई लाश मिली। महिला का पूरा शरीर खराब हो चुका था और उसे पहचानना काफी मुश्किल था।
पति-पत्नी में था तनाव
प्राप्त जानकारी के मुताबिक महिला का अपने पति से लंबे वक्त से तनाव चल रहा था इसलिए वो अपने पति से अलग रह रही थी। उसके दो बेटे हैं। एक बेटा उसी के साथ रहता था जबकि दूसरा दरभंगा में पॉलिटेक्नीक की पढ़ाई करता है। वारदात वाले दिन एक बेटा नानी के घर था। दूसरा बेटा ध्रुव दरभंगा में पॉलिटेक्निक की पढ़ाई करता है। जानकारी के मुताबिक, उस पर केमिकल भी छिड़का गया था, ताकि अवशेष नहीं बचे। लोगों के मुताबिक महिला अफसर आखिरी बार रविवार शाम को देखी गई थी। उसने आसमानी कलर की समीज व क्रीम कलर की सलवार पहन रखा था। फिलहाल पुलिस तफ्तीश में जुटी हुई है।

विजय गुप्ता को पुलिस ने पूछताछ के लिए हिरासत में लिया
विजय गुप्ता को पुलिस ने पूछताछ के लिए हिरासत मे लिया है। उसका मोबाइल जब्त कर कॉल डिटेल्स निकाला जा रहा। उसके मकान मे ही एक कमरे मे सरिता कार्यालय चलाती थी। उसका यहां प्रतिदिन आना-जाना था। पूछताछ मे पता चला कि विजय गुप्ता मूल रूप से मोतिहारी के चिरैया का रहने वाला है। वर्तमान मे कांटी दामोदरपुर के शांति विहार कॉलोनी स्थित गरम चौक पर किराए के मकान मे रहता है। जेई का कागजी काम विजय ही देखता था। प्रतिदिन यहां मनरेगा व अन्य विभागों के पदाधिकारी भी आते थे। रविवार को भी शाम छह बजे तक कई लोगो के साथ सरिता व विजय ने वहां पर काम किया।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Share it
Top